Home » हस्तक्षेप (page 2184)

हस्तक्षेप

पत्रकारिता यदि व्यवसाय है तो क्या व्यवसाय में आदर्श की हत्या माफ होती है?

Fourth pillar

पत्रकारिता का सत्यानाश आखिर कब से शुरु हुआ? और कैसे पाक से नापाक की ओर इसने रुख किया? इसका सही-सही आकलन करना वाकई कठिन है। भारत में हिन्दी और अंग्रेजी पत्रकारिता की दशा में जमीन आसमान का फर्क है। हिन्दी पत्रकारिता गरीबी रेखा से नीचे की दिखती है और अंग्रेजी अमीरी रेखा से भी ऊपर की। वजह?

Read More »

सामंती अवशेष हैं खाप पंचायतें

opinion

Khap Panchayats are feudal remains परंपरा-रिवाजों को निभाने का बोझ केवल नारी के कंधों पर ही डाल दिया गया है। कभी इसकी बलि जाति, गोत्र, परम्पराओं के नाम पर दी जाती है तो कभी महान बनाने का आडम्बर किया जाता है! आधुनिकता की दौड़ में विश्व आगे बढ़ रहा है और हमारा देश जाति, धर्म, सम्प्रदाय के चक्रव्यूह से निकलने …

Read More »