Home » राजेंद्र शर्मा

राजेंद्र शर्मा

राजेंद्र शर्मा, लेखक वरिष्ठ पत्रकार व हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं। वह लोकलहर के संपादक हैं।

मोदीजी, यही अगर एकीकरण है तो विभाजन क्या होगा ? पटेल की जयंती पर देश के बंटवारे का दृश्य !

Modi in UNGA

मोदीजी, यही अगर एकीकरण है तो विभाजन क्या होगा ? पटेल की जयंती पर देश के बंटवारे का दृश्य ! सरदार पटेल के नाम पर झूठ बोलने से मोदीजी को कौन रोक सकता है मोदी सरकार ने बहत्तर साल के इतिहास को पलट कर, आखिरकार एक नया इतिहास रच दिया। सरदार पटेल के 144वें जन्म दिन पर, उस जम्मू-कश्मीर के …

Read More »

वाह मोदीजी वाह, जो स्वायत्तता नागालैंड के लिए दवा, वही कश्मीर के लिए जहर हो गयी?

Amit Shah Narendtra Modi

अचरज नहीं कि मोदी-शाह जोड़ी के संविधान की धारा-370 (Article 370 of the constitution) को व्यावहारिक मायनों में खत्म ही कर देने की धमक, सुदूर उत्तर-पूर्व के राज्यों में और खासतौर पर नागालैंड (Nagaland) में सुनाई दी है। बेशक, शेष भारत के साथ जम्मू-कश्मीर के पूर्ण एकीकरण (Full integration of Jammu and Kashmir with rest of India) के कथित रूप …

Read More »

धारा 370 : घाटी और देश में हिंसा और मौतों का सिलसिला और तेज होगा, लेकिन मोदी सरकार का तो भला होगा !

Jammu and Kashmir On the way to Final Solution.jpg

जम्मू-कश्मीर : ‘फाइनल सोल्यूशन’ के रास्ते पर ! Jammu and Kashmir: On the way to ‘Final Solution’! ‘17 जून के हंगामे के बाद लेखक यूनियन के सचिव ने बंटवाए पर्चे… कि जनता ने सरकार का विश्वास खो दिया है और दोगुने प्रयासों से ही उसे दोबारा जीता जा सकता है। तब क्या यही आसान नहीं होगा कि सरकार जनता को …

Read More »

कर्नाटक से आगे : एक पूर्व-घोषित हत्या का रोजनामचा

Rajendra Sharma राजेंद्र शर्मा। लेखक वरिष्ठ पत्रकार व स्तंभकार हैं।

‘‘रामदास उस दिन उदास था/ अंत समय आ गया पास था/ उसे बता, यह दिया गया था, उसकी हत्या होगी/ धीरे-धीरे चला अकेले/ सोचा साथ किसी को ले ले/ फिर रह गया, सडक़ पर सब थे/ सभी मौन थे, सभी निहत्थे/ सभी जानते थे यह, उस दिन उसकी हत्या होगी।’’ कर्नाटक में जनतंत्र की पूर्व-घोषित हत्या (Pre-declared murder of democracy …

Read More »

‘‘न्यू इंडिया’’- 5 ट्रिलियन डालर की अर्थव्यवस्था : ये सुहाने जुमले हैं, जुमलों का क्या!

Rajendra Sharma राजेंद्र शर्मा। लेखक वरिष्ठ पत्रकार व स्तंभकार हैं।

राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर राज्यसभा में बहस (motion of thanks on the President’s address, in Rajya Sabha) में कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद ने झारखंड में तबरेज अंसारी की धर्म पूछकर भीड़-हत्या से लेकर, बिहार में चमकी बुखार से गरीब परिवारों के डेढ़ सौ बच्चों की मौत तक, मोदी-2 के पहले महीने में सामने आयी भयावह सचाइयों …

Read More »

बंगाल : लोकतंत्र बेशक खतरे में है लेकिन सांप्रदायिक तानाशाही, लंपट तानाशाही का विकल्प नहीं हो सकती

Mamata Banerjee

बंगाल में लोकतंत्र बेशक खतरे में है (Democracy in Bengal is undoubtedly in danger)। लोकसभा चुनाव 2019 के बाद फूटी हिंसा (Violence after Lok Sabha election 2019) ने बेशक इस खतरे को और रेखांकित किया है। लेकिन यह न बंगाल में लोकतंत्र के लिए खतरे की शुरूआत है और न अंत। और बंगाल में लोकतंत्र के लिए खतरे का स्रोत …

Read More »

मोदी-1 के मुकाबले ज्यादा बहुसंख्यकवादी और ज्यादा अल्पसंख्यकविरोधी-जनतंत्रविरोधी होगा मोदी-2

Rajendra Sharma राजेंद्र शर्मा। लेखक वरिष्ठ पत्रकार व स्तंभकार हैं।

मोदी-2: भिन्न होने के मुगालते मोदी की भाजपा (Modi’s BJP) तथा एनडीए की जबर्दस्त और एक हद तक अप्रत्याशित जीत के बाद से, मीडिया का एक हिस्सा बड़ी शिद्दत से यह साबित करने की कोशिश में जुट गया है कि मोदी-2 का राज, मोदी-1 के पांच साल से काफी अलग होने जा रहा है। बेशक, इस तरह का कोई भी …

Read More »

क्या वाकई यह धर्मनिरपेक्षता की हार का जनादेश है?

Narendra Modi new look

सत्रहवीं लोकसभा के चुनाव (Seventh Lok Sabha election) में जनता ने नरेंद्र मोदी के पक्ष में निर्णायक फैसला (decisive decision in favor of Narendra Modi) दिया है। यह फैसला कितना नरेंद्र मोदी के पक्ष में है, कितना भाजपा के पक्ष में और कितना भाजपा के नेतृत्ववाले गठबंधन, एनडीए के  पक्ष में, इस पर तो बहस हो सकती है। लेकिन, इस …

Read More »

सांप्रदायिक ताम-झाम है, देशभक्ति का नारा

Rajendra Sharma राजेंद्र शर्मा। लेखक वरिष्ठ पत्रकार व स्तंभकार हैं।

देशभक्ति का नारा : 2019 के लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections 2019) में पहला वोट पडऩे तक ही, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक और रिकार्ड कायम कर चुके थे। वह स्वतंत्र भारत के ऐसे पहले प्रधानमंत्री बन गये हैं, जिनके खिलाफ आदर्श चुनाव आचार संहिता (Model Code of Conduct) के उल्लंघन की सबसे ज्यादा शिकायतें चुनाव आयोग तक पहुंची हैं। ताजातरीन …

Read More »

भागवत की कक्षा या आरएसएस के मेक-ओवर की कसरत

Mohan Bhagwat Vigyan Bhawan

भागवत की कक्षा या आरएसएस के मेक-ओवर की कसरत राजधानी दिल्ली में विज्ञान भवन में सितंबर के मध्य में हुई आरएसएस (RSS) के सरसंघचालक, मोहन भागवत की तीन दिवसीय व्याख्यानमाला (Mohan Bhagwat’s three-day lecture series), इस तिरानवे साल पुराने सांप्रदायिक, दकियानूसी और प्रतिक्रियावादी संगठन का मेकओवर करने की, एक बड़ी और बहुप्रचारित कोशिश थी। मेकओवर की इस कोशिश की जरूरत …

Read More »

नोटबंदी – खोदा पहाड़ और नहीं निकला काला धन

Rajendra Sharma राजेंद्र शर्मा। लेखक वरिष्ठ पत्रकार व स्तंभकार हैं।

और अंत में काले धन के लिए एक और छूट  बहुत उदार हों तब भी इसे खोदा पहाड़ और निकली चुहिया का ही मामला कहेंगे। वर्ना यह काले धन के स्वामियों के लिए छूट की एक नयी योजना ही ज्यादा लगती है। याद रहे कि यह योजना पूरे देश की अर्थव्यवस्था को और खासतौर पर मेहतनकश गरीबों की रोजी-रोटी की …

Read More »