Home » राम पुनियानी (page 4)

राम पुनियानी

Ram Puniyani was a professor in biomedical engineering at the Indian Institute of Technology Bombay, and took voluntary retirement in December 2004 to work full time for communal harmony in India. He is involved with human rights activities from last two decades.He is associated with various secular and democratic initiatives like All India Secular Forum, Center for Study of Society and Secularism and ANHAD. He is Our esteemed columnist

गीता, भारत की राष्ट्रीय पुस्तक नहीं है और न हो सकती है। हां, वह एक पवित्र हिन्दू ग्रंथ है

dr. ram puniyani

क्या गीता भारत की राष्ट्रीय पुस्तक है ? क्या गीता एक हिन्दू धर्मग्रंथ है? निःसंदेह! हरियाणा सरकार ने हाल में कुरूक्षेत्र में ‘गीता उत्सव’ का आयोजन किया। भगवत गीता की शिक्षाओं पर केंद्रित इस आयोजन पर 100 करोड़ रूपए खर्च किए गए। ऐसी मान्यता है कि कुरूक्षेत्र ही वह स्थान है, जहां भगवान कृष्ण ने वे उपदेश दिए थे, जो …

Read More »

समकालीन वैश्विक संकट के पीछे धर्म है या राजनीति?

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

वैश्विक स्तर पर ‘इस्लामिक आतंकवाद’ शब्द बहुप्रचलित हो गया है और इस्लाम के आंतरिक ‘संकट’ की कई तरह से विवेचना की जा रही है। कुछ लोगों की राय है कि इस्लाम एक बहुत बड़े संकट के दौर से गुज़र रहा है और इस संकट से निपटने के लिए ज़रूरी कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। इतिहास गवाह है कि इसके पूर्व इस्लाम एक बहुत बड़े …

Read More »

हिन्दुत्व : अर्थ और अनर्थ

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

25 अक्टूबर, 2016 को उच्चतम न्यायालय की सात-सदस्यीय बेंच ने ‘हिंदुत्व मामलों’ पर पुनः सुनवाई शुरू की। ‘‘हिंदुत्व मामले’’ हिंदुत्व और हिन्दू धर्म शब्दों के चुनाव प्रचार में इस्तेमाल की वैधानिकता के संबंध में कई प्रकरणों का समूह है। इनमें से एक मामला मनोहर जोशी का था, जिन्होंने अपने चुनाव भाषण में यह कहा था कि अगर उनकी पार्टी सत्ता …

Read More »

चुनाव आया, फिर राम याद आए

dr. ram puniyani

फिर राम की शरण में अब तक भगवान राम ने भाजपा की बहुत मदद की है। भाजपा ने राम मंदिर मुद्दे (Ram Mandir Issue) पर पूरे देश को बांटने में सफलता हासिल की। लालकृष्ण आडवाणी की रथयात्रा, अपने पीछे खून की एक लंबी और गहरी लकीर छोड़ गई थी। बाबरी मस्जिद को योजनाबद्ध ढंग से ढहाए जाने के बाद, देश में …

Read More »

साध्वी प्रज्ञा की मोटरसाइकिल और रूबीना की कार-दो गाड़ियों की कहानी

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

दो गाड़ियों की कहानी…  बाल ठाकरे (Bal Thackeray) ने ‘‘सामना’’ में लिखा था कि ‘‘हम करकरे के मुंह पर थूकते हैं’’। गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी (Gujarat Chief Minister Narendra Modi) ने हेमंत करकरे (Hemant Karkare) को ‘‘देशद्रोही’’ बताया था। आडवाणी ने भी उन्हें फटकारा था। -राम पुनियानी क्या एक ही देश में दो अलग-अलग न्याय प्रणालियां हो सकती …

Read More »

गौभक्ति और गौमांस दरअसल, समुदाय विशेष के खिलाफ घृणा फैलाने का बहाना भर है

dr. ram puniyani

एक समुदाय विशेष के खिलाफ घृणा फैलाने का बहाना भर है गौभक्ति गौमांस और राजनैतिक परिदृश्य पिछले दो वर्षों में दलितों और मुसलमानों के विरुद्ध हिंसा की कई घटनाएं (Many incidents of violence against Dalits and Muslims) समाचारपत्रों की सुर्खियां बनीं। इनमें से कुछ, जिनमें उना, गुजरात में जुलाई 2016 का घटनाक्रम शामिल है, ने देश के संवेदनशील नागरिकों की …

Read More »

कैराना के किराने से भाजपा का चुनावी भोजन?

dr. ram puniyani

कैराना से ‘पलायन’ -राम पुनियानी सन 2014 के लोकसभा चुनाव के ठीक पहले, उत्तरप्रदेश के मुजफ्फरनगर में भड़के सांप्रदायिक हिंसा के दावानल में 80 मुसलमान मारे गए थे और हज़ारों को अपने घर-गांव छोड़कर भागना पड़ा था। ऐसा लगता है कि उत्तरप्रदेश में सन 2017 में होने वाले विधानसभा चुनावों के मद्देनजर, भाजपा ने अपनी दंगा भड़काऊ मशीनरी को पुनः …

Read More »

कश्मीरी पंडितों की बदहाली का राजनीतिकरण

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

राजनीति एक अजब-गजब खेल है। इसके खिलाड़ी वोट कबाड़ने के लिए कुछ भी करने को तैयार रहते हैं। इन खेलों से हमें संबंधित खिलाड़ी की राजनैतिक विचारधारा का पता तो चलता ही है, इससे हमें यह भी समझ में आता है कि इस खेल में किस तरह घटनाओं को तोड़ा-मरोड़ा जाता है और एक ही घटना की किस तरह परस्पर …

Read More »

राष्ट्रद्रोह के बाद ‘भारत माता की जय‘

dr. ram puniyani

भावनात्मक मुद्दों का ज्वार | Tide of emotional issues इन दिनों, यदि आपको यह साबित करना हो कि आप राष्ट्रवादी हैं तो आपको ‘भारत माता की जय‘ कहना होगा। इससे पहले, वर्तमान सरकार से असहमत सभी लोगों को ‘राष्ट्रद्रोही’ बताने का दौर चल रहा था। ये दोनों मुद्दे हाल में उछाले गए हैं और जो लोग इन्हें उछाल रहे हैं, …

Read More »

एक कुटिल चाल है भारत के सभी निवासियों को हिंदू बताने के खेल के पीछे

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

क्या ‘हिंदू’ हमारी राष्ट्रीय पहचान है?  आरएसएस का न तो स्वाधीनता संग्राम से कोई लेनादेना रहा है और ना ही भारतीय संविधान में उसे कोई विशेष श्रद्धा है -राम पुनियानी सन् 1980 के दशक से पहचान-आधारित राजनीति ने हमारे देश में जड़ें जमानी शुरू कीं। शाहबानो मामले, राममंदिर की समस्या और रथयात्राओं ने पहचान पर आधारित मुद्दों को देश के …

Read More »

देश में सहिष्णुता और अभिव्यक्ति की आज़ादी खतरे में है

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

सन 2015 के अंतिम महीनों में कई जाने-माने लेखकों और प्रतिष्ठित नागरिकों ने देश में बढ़ती असहिष्णुता के प्रति अपना विरोध व्यक्त करने के लिए उन्हें प्राप्त राष्ट्रीय पुरस्कार लौटा दिए थे। पुरस्कार लौटाने वालों की सूची लम्बी थी और उनके इस विरोध प्रदर्शन के नतीजे में, समाज में कुछ आत्मचिंतन भी हुआ। परन्तु सत्ताधारी पार्टी और उसके हिन्दू दक्षिणपंथी …

Read More »

ब्रिटिश शासन का भारत पर प्रभाव

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

Impact of British rule on India | भारत में हिंदू राष्ट्रवाद के निकृष्टतम स्वरूप हिंदुत्व की विचारधारा का बोलबाला स्थापित हो गया है। इंग्लैंड के आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में औपनिवेशिक काल विषय पर आयोजित एक परिचर्चा में दिया गया शशि थरूर का भाषण (Shashi Tharoor’s speech given at a discussion on the colonial period at Oxford University, England) कुछ समय तक …

Read More »

पितृसत्तात्मक मानसिकता को बढ़ावा-रक्षाबंधन

dr. ram puniyani

Promotion of patriarchal mindset – Rakshabandhan गत 21 जून 2015 को धूमधाम से योग दिवस मनाने के बाद, मोदी सरकार बड़े पैमाने पर रक्षाबंधन मनाने की तैयारी कर रही है। इस योजना को भाजपा के पितृसंगठन आरएसएस का आशीर्वाद प्राप्त है। बिना किसी संकोच या हिचक के एक हिंदू धार्मिक त्योहार को राष्ट्रीय त्योहार का दर्जा दिया जा रहा है। …

Read More »

Manufacturing and Undermining National Icons : RSS Style

dr. ram puniyani

Many social and political processes related to the projection of some icons and the undermining of others have intensified during the last few years. Even during the last regime of NDA-led BJP rule from 1998, Savakar’s portrait was unveiled in the Parliament. At one level the game of undermining some icons and projecting icons is a part of various political …

Read More »

भारत की मुस्लिम आबादी में हिंदुओं की तुलना में, अधिक तेजी से बढ़ोत्तरी क्यों हो रही है

dr. ram puniyani

भविष्य के भारत में विभिन्न धार्मिक समुदायों की आबादी Population of various religious communities in future India प्यू रिसर्च सेंटर की हालिया (2 अप्रैल 2015) की रपट (Pew Research Center’s recent (2 April 2015) report) में आने वाले वर्षों में भारत की आबादी के संबंध में कुछ पूर्वानुमान दिये गये हैं। रपट के अनुसार, सन् 2050 तक भारत में हिंदुओं की …

Read More »