Home » शेष नारायण सिंह

शेष नारायण सिंह

शेष नारायण सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं। वह हस्तक्षेप के संरक्षक हैं।

शेष नारायण सिंह का आलेख – कांग्रेस को सशक्त विपक्ष की भूमिका अदा करनी ही पड़ेगी

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी (Congress President Rahul Gandhi) इस्तीफा दे चुके हैं, उनको मनाने की कोशिशें अब तक नाकाम रही हैं लेकिन अब कौन कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष हो, इस बात पर अभी एक राय नहीं बन पाई है। ज्यादातर लोग मानते हैं कि कांग्रेस का अध्यक्ष किसी ऐसे व्यक्ति को बनाया जाना चाहिए जो पार्टी को फिर से …

Read More »

पंडित नेहरू का जमाना जब डर दिखा कर वोट लेना बहुत गलत काम माना जाता था

How much of Nehru troubled Modi

आजादी के शुरुआती पन्द्रह वर्षों में जवाहरलाल नेहरू (Jawahar Lal Nehru) ने जो बुनियाद डाली उसी का नतीजा है किस आज दुनिया में भारत का सर ऊंचा है। वरिष्ठ पत्रकार व हस्तक्षेप.कॉम के संरक्षक शेष नारायण सिंह (Shesh Narain Singh) का यह लेख 25 जनवरी 2014 को प्रकाशित हुआ था। यह लेख आज भी प्रासंगिक है। हस्तक्षेप के पाठकों की …

Read More »

‘न्याय, सुरक्षा आजादी, मांगे आधी आबादी‘ से देश की शान्ति को कौन सा खतरा था सरकार जी

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

इसी नवम्बर में मौजूदा कुलपति जीसी त्रिपाठी का कार्यकाल पूरा हो रहा है। वे एक टर्म और चाहते हैं। दिल्ली दरबार में फेरी भी लगा रहे हैं। आरएसएस का समर्थन उनको पहले से ही है।

Read More »

30 साल का “सहमत”

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

सफदर हाशमी मेमोरियल ट्रस्ट -Safdar Hashmi Memorial Trust (सहमत) के तीस साल पूरे हो गए। इन तीस वर्षों में सहमत ने संस्कृति के मोर्चे (Culture front) पर फासिस्ट ताकतों (Fascist forces) के खिलाफ एक बहुत बड़े वर्ग को मंच दिया है। इस साल भी 1 जनवरी 2019 को सहमत की तरफ से एक सांस्कृतिक उत्सव का आयोजन किया गया है। सहमत …

Read More »

भारत उन ग्यारह देशों में, जहां दुनिया के हेपेटाइटिस के आधे मरीज़ रहते हैं

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

भारत उन ग्यारह देशों में, जहां दुनिया के हेपेटाइटिस के आधे मरीज़ रहते हैं अपने देश में एक खतरनाक रूप ले चुकी है हेपेटाइटिस की बीमारी, जानकारी से बचाव संभव है शेष नारायण सिंह बीमारियों से मुक्ति और स्वस्थ रहना इंसान की ज़िंदगी की सबसे बड़ी उपलब्धि है। आम तौर पर कैंसर, हार्ट अटैक, एड्स आदि को जानलेवा बीमारी माना …

Read More »

श्रद्धेय मोदीजी ! देशद्रोही हैं महात्मा गांधी के हत्यारे को हीरो बनाने वाले

Godse's glorification in Gandhi's country?

शेष नारायण सिंह महात्मा गांधी की शहादत (Martyrdom of mahatma gandhi) को सत्तर साल हो गए। महात्मा गांधी की हत्या (Assassination of Mahatma Gandhi) जिस आदमी ने की थी वह कोई अकेला इंसान नहीं था। उसके साथ साज़िश में भी बहुत सारे लोग शामिल थे और देश में उसका समर्थन करने वाले भी बहुत लोग थे। वह एक विचारधारा का …

Read More »

राजपूती आन बान और शान वालों क्या गरीब राजपूतों की भी सुध ली जाएगी?

Economics of Padmavati Controversy

आज एक सिनेमा के विरोध के नाम पर जो नेता आन्दोलन की अगुवाई कर रहे हैं क्या उनको अपने गिरेबान में झांक कर नहीं देखना चाहिए कि लड़कियों को सम्मान की सरंकर देने में समाज और सरकार का भी कुछ योगदान होता है।

Read More »

प्रेस की आज़ादी : क्या योगी और वसुंधरा भी प्रधानमंत्री की नसीहत से सबक लेंगे !

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

पत्रकारिता के बुनियादी सवालों पर नए विचार की ज़रूरत Need a new idea on journalistic fundamental questions शेष नारायण सिंह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चेन्नई में एक तमिल अखबार के कार्यक्रम में मीडिया को समाज को बदलने का साधन बताकर अभिव्यक्ति की आजादी को फिर चर्चा में ला दिया है। प्रधानमंत्री ने चेन्नई में कहा कि ‘आज समाचारपत्र सिर्फ खबर …

Read More »

टीबी, मलेरिया और एड्स से कम खतरनाक नहीं हेपेटाइटिस

Hepatitis

एक जानलेवा बीमारी है हेपेटाइटिस – Hepatitis A Deadly Disease शेष नारायण सिंह 28 जुलाई विश्व हेपेटाइटिस (July 28 World Hepatitis Day) दिवस है। लीवर की यह बीमारी पूरी दुनिया में बहुत ही खतरनाक रूप ले चुकी है। दुनिया में ऐसे 11 देश हैं जहां हेपेटाइटिस के मरीज़ सबसे ज़्यादा हैं। हेपेटाइटिस के मरीजों का 50 प्रतिशत ब्राजील,चीन, मिस्र, भारत, इंडोनेशिया, …

Read More »

मेरी पहली मुहब्बत : मेरा नीम का पेड़

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

मेरी पहली मुहब्बत : मेरा नीम का पेड़ शेष नारायण सिंह नीम की चर्चा होते ही पता नहीं क्या होता है कि मैं अपने गांव पहुंच जाता हूँ। बचपन की पहली यादें ही नीम से जुड़ी हुई हैं। मेरे गाँव में नीम एक देवी के रूप में स्थापित हैं। गाँव के पूरब में अमिलिया तर वाले बाबू साहेब की ज़मीन …

Read More »

मेरे गाँव की सामूहिक आस्था का केंद्र, काली माई का मंदिर नीम का एक पेड़

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

इस बार गाँव गया तो देखा कि वहां सड़क किनारे एक मंदिर बन गया है। इसके पहले वहां कोई मंदिर नहीं था। मंदिर तो गाँव से करीब पांच किलोमीटर दूर गोमती के किनारे धोपाप में था, मकसूदन में भी एक हनुमान जी का मंदिर (Hanuman ji temple) था, नरेंदापुर में भी एक मंदिर था, जिसमें वहां के बाबू साहेब ने …

Read More »

गांधी की धर्मनिरपेक्षता के असली वारिस सरदार पटेल, संघ पर प्रतिबंध लगाकर सरसंघचालक को गिरफ्तार कराया था उन्होंने

भारत के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल (First Home Minister of India, Sardar Vallabhbhai Patel)

आज सरदार पटेल का जन्मदिन है, जिन्होंने संघ पर प्रतिबंध लगाकर सरसंघचालक को गिरफ्तार कराया था आज गोधरा को एक अलग सन्दर्भ में याद किया जाता है, लेकिन पंचमहल जिले के इस कस्बे में भारत की आजादी के इतिहास की सबसे दिलचस्प कहानी भी शुरू हुई थी जब 1917 में यहां गुजरात सभा का राजनीतिक सम्मेलन हुआ था। सरदार तो उनको …

Read More »

महात्मा गांधी के हत्यारे को सम्मानित करने वालों को पूजनीय बनाने की कोशिश भारी पड़ सकती है मोदी सरकार पर

Mahatma Gandhi 1

महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को भगवान बनाने की साज़िश को तबाह करो Shesh Narayan Singh’s article on the assassination of Mahatma Gandhi नई दिल्ली। महात्मा गांधी की शहादत को 67 साल हो गए। महात्मा गांधी की हत्या जिस आदमी ने की थी वह कोई अकेला इंसान नहीं था। उसके साथ साज़िश में भी बहुत सारे लोग शामिल थे …

Read More »

बेरोजगारी, महंगाई और काले धन के मुद्दों को नज़र अंदाज़ नहीं कर सकती मोदी सरकार

After losing contact with Chandrayaan 2, Prime Minister Narendra Modi laying his hand on the back of ISRO chief चंद्रयान 2 से संपर्क टूटने के बाद इसरो प्रमुख (ISRO chief) सीवन की पीठ पर हाथ रखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

Modi government cannot ignore the issues of unemployment, inflation and black money नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi government) अब अपने अगले साल में प्रवेश कर गयी है। हालांकि अभी साल पूरा नहीं हुआ है लेकिन कैलेण्डर में साल बदल गया है। अब साल चार बाद चुनाव होंगें। नरेंद्र मोदी ने करीब पौने दो साल पहले अपने आपको प्रधानमंत्री के रूप …

Read More »

साम्प्रदायिक और लक्षित हिंसा से कैसे निपटेगी सरकार ?

Law cases leagal news

इस बिल में निश्चित रूप से कुछ कमिया थीं लेकिन यह साम्प्रदायिक हिंसा को रोकने की दिशा में संसद की दखल का एक अहम् हथियार बन सकता था लेकिन जब प्रधानमंत्री ने चुनाव अभियान के दौरान अपने कई भाषणों में और गुजरात के मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए केंद्र को लिखे गए अपने पत्र में इस बिल को जब रेसेपी फार डिसास्टर की संज्ञा दे दी है तो इस बात की कोई संभावना नहीं है कि यह अपने मौजूदा स्वरूप में संसद के सामने पेश हो सकेगा।

Read More »

ख़त्म करना होगा देश की राजनीति में दहशतफरोशों का बढ़ता दबदबा

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

आजादी के शुरुआती पन्द्रह वर्षों में जवाहरलाल नेहरू ने जो बुनियाद डाली उसी का नतीजा है किस आज दुनिया में भारत का सर ऊंचा है शेष नारायण सिंह रिज़र्व बैंक ने आदेश दिया है कि तीन महीने बाद 2005 के पहले छपे हुये रूपये के नोट नहीं चलेंगे। बैंक के इस आदेश के बाद पूरे देश में दहशत है। लोग …

Read More »

मुसलमानों के एक रक्षक के रूप में भी याद रखेगा इतिहास सरदार पटेल को

भारत के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल (First Home Minister of India, Sardar Vallabhbhai Patel)

History will remember Sardar Patel even as a savior of Muslims मधु लिमये होते तो 90 साल के हो गये होते। मुझे मधु जी के करीब आने का मौक़ा 1977 में मिला था जब वे लोक सभा के लिये चुनकर दिल्ली आये थे। लेकिन उसके बाद दुआ सलाम तो होती रही लेकिन अपनी रोजी रोटी की लड़ाई में मैं बहुत …

Read More »

अशोक वाजपेयी को तो हक नहीं कि वे कहें कि हिंदी विश्वविद्यालय में कोई काम नहीं हुआ

Mahatma Gandhi International Hindi University Wardha

यह नोट मैं बहुत ही दुविधा की स्थिति में लिख रहा हूँ क्योंकि इस से यह ध्वनि अवश्य निकलेगी कि मैं वर्धा, महाराष्ट्र में स्थित महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय के मौजूदा वाइस चांसलर का पक्ष ले रहा हूँ जिनका कार्यकाल पूरा होने वाला है। दुविधा इसलिए कि मौजूदा वाइस चांसलर साहेब ने जब महिलाओं के बारे में अभद्र टिप्पणी …

Read More »

अब मौत को चुनौती दे रहे हैं ब्रिटिश हुकूमत को ललकारने वाले मंडेला

nelson mandela

अगले महीने नेल्सन मंडेला (Nelson Mandela) 95 साल के हो जायेंगे। उनकी तबियत बहुत खराब है। अस्पताल में आठ जून को भर्ती किये गये थे और तब से ही उनका स्वास्थ्य “स्थिर लेकिन गम्भीर” बना हुआ है। 2011 के बाद से तो वे अक्सर अस्पताल में भर्ती होते रहे हैं। वैसे सार्वजनिक रूप से उनको बाहर निकले करीब तीन साल …

Read More »

एक राजनीतिक विचारधारा है हिन्दुत्व जिसका हिन्दू धर्म से कोई लेना-देना नहीं है

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

Hindutva is a political ideology that has nothing to do with Hindu religion हिन्दू धर्म (Hindu religion) भारत का प्राचीन धर्म (Ancient religions of India)  है। इसमें बहुत सारे सम्प्रदाय हैं। सम्प्रदायों को मानने वाला व्यक्ति अपने आपको हिन्दू कहता है लेकिन हिन्दुत्व (Hindutva) एक राजनीतिक विचारधारा (political ideology ) है जिसका प्रतिपादन 1924 में वीडी सावरकर ने अपनी किताब …

Read More »

उस देश का वासी हूँ जिस देश में किसान आत्महत्या करते हैं

Cane farmers on rail track

Media usually ignores farmers’ suicide किसानों की आत्महत्या (Farmer suicides) देश की राजनीतिक पार्टियों को हमेशा मुश्किल में डालती रहती है। हालांकि मीडिया आम तौर पर किसानों की आत्महत्या को इग्नोर ही करता है लेकिन कुछ ऐसे पत्रकार हैं जो इस मामले पर समय समय बहस का माहौल बनाते रहते हैं। देश के कुछ इलाकों में तो हालात बहुत ही बिगड़ गए …

Read More »

आर एस एस ने 1948 में तिरंगे को पैरों तले रौंदा था ?

RSS Half Pants

आर एस एस ने 1948 में तिरंगे को पैरों तले रौंदा था ? नई दिल्ली। श्रीनगर के लाल चौक पर झंडा फहराने की भाजपा की राजनीति पूरी तरह से उल्टी पड़ चुकी है। भाजपा की अगुवाई वाले राजग के संयोजक शरद यादव तो पहले ही इस झंडा यात्रा को गलत बता चुके हैं, अब बिहार के मुख्य मंत्री और भाजपा के …

Read More »

राजनीतिक अदूरदर्शिता और दिशाभ्रम का शिकार बोडो आन्दोलन

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

Bodo Movement victim of political foresight and direction confusion नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ बोडोलैंड (National Democratic Front of Bodoland) ने दावा किया है कि उन्होंने पिछले दिनों कुछ ऐसे लोगों को मौत के घाट उतार दिया है, जो असम में रहते थे और मूलतः हिन्दी भाषी थे. The Asian Center for Human Rights has condemned the National Democratic Front of …

Read More »