Home » समाचार » योगीराज में भाजपा नेताओं की बढ़ रही गुंडई, BJP अध्यक्ष ने बिजली विभाग के एक्सईएन को दफ्तर में घुसकर पीटा

योगीराज में भाजपा नेताओं की बढ़ रही गुंडई, BJP अध्यक्ष ने बिजली विभाग के एक्सईएन को दफ्तर में घुसकर पीटा

भाजपा जिलाध्यक्ष बिजली चोरी में पकड़े गए कार्यकर्ता के खिलाफ कार्रवाई न करने का दबाव बना रहे थे

लखनऊ। गुंडाराज न भ्रष्टाचार अबकी बार भाजपा सरकार के नारे के साथसत्तामें आई भाजपा के राज में न गुंडाराज खत्म हुआ न भ्रष्टाचार बस अंतर इतना आया कि इन कामों में भाजपा नेताओं का एकाधिकार कायम हो गया। अब बदायूँ से खबर आ रही है कि भाजपा जिला अध्यक्ष ने बिजली विभाग के एक्सईएन को दफ्तर में घुसकर पीटा।

कल वाट्सएप पर हस्तक्षेप को बदायूँ से एक संदेश प्राप्त हुआ जिसमें कहा गया –

भाजपा जिलाध्यक्ष की गुंडई

बिजली विभाग के ईई और जेई को दफ्तर में घुसकर पीटा

फर्नीचर तोडा, रिपोर्ट दर्ज करने की मांग

अब अमर उजाला में ये ख़बर प्रकाशित हुई है –

“समर्थकों संग बिजली दफ्तर में घुसकर एक्सईएन और जेई को पीटने के आरोप में भाजपा जिला अध्यक्ष हरीश शाक्य और उनके करीब 20 समर्थकों के खिलाफ सोमवार को सिविल लाइंस थाने में मारपीट और सरकारी काम में बाधा डालने की रिपोर्ट दर्ज की गई। आरोप है कि भाजपा जिलाध्यक्ष बिजली चोरी में पकड़े गए कार्यकर्ता के खिलाफ कार्रवाई न करने का दबाव बना रहे थे। उधर भाजपा जिलाध्यक्ष ने एक्सईएन पर अभद्रता का आरोप लगाया है।

सोमवार दोपहर दो बजे भाजपा जिलाध्यक्ष हरीश शाक्य अपने पंद्रह-बीस साथियों के साथ आवास विकास स्थित बिजली विभाग के दफ्तर में पहुंचे। यहां वह छत पर स्थित अधिशासी अभियंता प्रथम खंड विजेंद्र सिंह के कार्यालय में घुस गए। वहां जमकर हंगामा व तोड़फोड़ हुई। भाजपाइयों के लौटने के बाद विजेंद्र सिंह और जेई पवन कुमार बदहवास से नीचे आए। विजेंद्र सिंह ने अधीक्षण अभियंता मधुप श्रीवास्तव समेत बाकी अधिकारियों को घटना की जानकारी दी। दिखाया कि पवन की अंगुलियों में चोट आई है। सभी अधिकारी सभी अधिकारी पहले डीएम से मिले। बाद में सिविल लाइंस थाने में विजेंद्र सिंह तहरीर दी। लेकिन  इंस्पेक्टर ने जब टालने की कोशिश की तो एसएसपी के हस्तक्षेप से तहरीर ली गई और देर रात रिपोर्ट दर्ज की गई।”

(फोटो साभारअमर उजाता)

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: