Home » समाचार » चिदंबरम ने गुजरात विकास मॉडल पर मोदी को घेरा

चिदंबरम ने गुजरात विकास मॉडल पर मोदी को घेरा

गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी अपने जिस विकास मॉडल के सहारे एक बार फिर अपनी नैया पार लगाने की कोशिश कर रही है, उसी विकास मॉडल को लेकर अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने कई सवाल उठाए हैं। चिदंबरम ने आंकड़ों के लिए सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सवालों के घेरे में खड़ा किया है। साथ ही उन्होंने पीएम मोदी की भाषा शैली को लेकर भी निशाना साधा है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर आज गुजरात में विकास के दावों की पोल खोली। अपने पहले ट्वीट में चिदंबरम ने लिखा कि पिछले 57 सालों में देश के बाकी राज्यों की तरह गुजरात ने भी तरक्की की. गुजरात भी 1991 के आर्थिक उदारीकरण का लाभ पाने वाले राज्यों में से एक है, लेकिन वह अपवाद नहीं है।

वहीं दूसरे ट्वीट में चिदंबरम ने विकास के मामले में गुजरात कहां खड़ा है, ये बताते हुए लिखा कि सामाजिक प्रगति सूचकांक में देश के 29 राज्यों के साथ गुजरात 15वें स्थान पर आता है। यानी 14 राज्य गुजरात से ऊपर हैं और 14 उसके नीचे आते हैं। वहीं बुनियादी जरूरतों में गुजरात टॉप 5 में है, लेकिन जनकल्याण की सूची में वो पांचवें नंबर पर है। जबकि सूबे जनता के लिए अवसर पैदा करने की श्रेणी में गुजरात का 9वां नंबर है।

चिदंबरम ने सरदार सरोवर बांध को लेकर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सरदार सरोवर बांध गलत शासन का उदाहरण है, मुश्किल से एक चौथाई पानी सिंचाई के काम आ रहा है, अभी भी 30000 किलोमीटर तक नहरें सूखी हैं जहां पानी जाना बाकी है।

चिदंबरम ने दलितों और आदिवासियों की स्थिति को लेकर भी भाजपा पर निशाना साधा, उन्होंने कहा कि यह वर्ग प्रदेश में नजरअंदाज किया गया है, इसपर किसी ने ध्यान नहीं दिया, उन्हें हिंसा का सामना करना पड़ता है।

इसके अलावा चिदंबरम ने पीएम मोदी के चुनाव प्रचार को लेकर भी सवाल खड़े किए. चिदंबरम ने कहा कि नरेंद्र मोदी को कम से कम राज्यों के चुनावों में तो एक प्रधानमंत्री की हैसियत से बोलना चाहिए.

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">1. In the last 57 years, Gujarat, like other states, has made progress. It is one of the states that benefited from the liberalisation of 1991, but Gujarat is not exceptional.</p>&mdash; P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) <a href="https://twitter.com/PChidambaram_IN/status/937158642914115584?ref_src=twsrc%5Etfw">December 3, 2017</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">2. In the Social Progress Index for 29 states, released by the Institute for Competitiveness and the Social Progress Imperative, Gujarat is plumb in the middle (rank 15) with 14 states above and 14 states below.</p>&mdash; P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) <a href="https://twitter.com/PChidambaram_IN/status/937158712501792768?ref_src=twsrc%5Etfw">December 3, 2017</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">3. Gujarat is in the top five on ‘Basic Human Needs’ but in the bottom five on ‘Foundations of Wellbeing’ and 9th from the bottom on ‘Opportunity’.</p>&mdash; P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) <a href="https://twitter.com/PChidambaram_IN/status/937158755422109696?ref_src=twsrc%5Etfw">December 3, 2017</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">4. Like in every state, sections of the people of Gujarat are dissatisfied. The farmers are particularly unhappy.</p>&mdash; P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) <a href="https://twitter.com/PChidambaram_IN/status/937158798061346816?ref_src=twsrc%5Etfw">December 3, 2017</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">5. The Sardar Sarovar dam is an example of poor governance. Less than a quarter of the planned 18.45 lakh hectares receives water for irrigation. Over 30,000 km of canals are yet to be completed.</p>&mdash; P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) <a href="https://twitter.com/PChidambaram_IN/status/937158906534535168?ref_src=twsrc%5Etfw">December 3, 2017</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">6. The Dalits and the Scheduled Tribes believe they have been neglected and are the victims of oppression and violence. The minorities believe they are discriminated against and a majoritarian agenda is being imposed upon them.</p>&mdash; P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) <a href="https://twitter.com/PChidambaram_IN/status/937158962788499456?ref_src=twsrc%5Etfw">December 3, 2017</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">7. Long before Mr Modi became chief minister, the Indian people and the Central governments (including Congress governments) had recognised the achievements of numerous Gujaratis, starting with Mahatma Gandhi.</p>&mdash; P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) <a href="https://twitter.com/PChidambaram_IN/status/937159011492704256?ref_src=twsrc%5Etfw">December 3, 2017</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">8. Even during a state election, Mr Narendra Modi should speak as the Prime Minister of India.</p>&mdash; P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) <a href="https://twitter.com/PChidambaram_IN/status/937159052479492096?ref_src=twsrc%5Etfw">December 3, 2017</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

 

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: