Home » Citizens’ Conclave on Safeguarding the Constitution: Ensuring the Independence and Integrity of the Civil Services

Citizens’ Conclave on Safeguarding the Constitution: Ensuring the Independence and Integrity of the Civil Services

Citizens’ Conclave on Safeguarding the Constitution: Ensuring the Independence and Integrity of the Civil Services

New Delhi, 29 june. India Inclusive is organizing a Citizens’ Conclave on Safeguarding the Constitution: Ensuring the Independence and Integrity of the Civil Services and Defence Forces on June 30, 2018 at Deputy Speaker Hall, Constitution Club, New Delhi.

India Inclusive in an open platform where people from diverse backgrounds are invited to express their views and contribute towards safeguarding the constitutional values.

Speakers of Conclave are Admiral Laxminarayan Ramdas, Air Marshal Kapil Kak, Air Marshal Vir Narain , Aruna Roy, Former IAS, Ashok Kumar Sharma, IFS, Former Ambassador, Ashok Vajpeyi, Former Secretary Culture, Commodore Lokesh K Batra (Retd.) , Dr. K.S Subramanian, IPS (Retd.) , Dr.  Atul Bharadwaj, NC Saxena, Former Secretary, Planning Commission, Niranjan Pant, Former Deputy CAG, Sindhushree Khullar, Former Secretary, Planning Commission, Tuk Tuk Ghosh, Former Secretary & Financial Advisor,  and  Wajahat Habibullah, First Chief Information Commissioner of India

Leena Dabiru of India Inclusive said, “We often tend to treat those in the services – be they civil or military, as though they are a breed apart. Every policy decision that affects our people, equally affects the members of the Civil Services, as indeed of the Armed Forces. Those still in service, being subject to their appropriate Army, Navy, and Air Force Discipline Acts, or the Code of Conduct for those in the Civil services, necessarily are bound to be discreet and to maintain silence. However this does not mean that they do not have responses, positions and views about the goings on in the country, its policies and its managers.”




About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: