Home » समाचार » भारतीय समाज में समानता और भाईचारा पूरी तरह नदारद : दिल्ली हाईकोर्ट की 2010 मिर्चपुर (हरियाणा) मामले में सख्त टिप्पणी

भारतीय समाज में समानता और भाईचारा पूरी तरह नदारद : दिल्ली हाईकोर्ट की 2010 मिर्चपुर (हरियाणा) मामले में सख्त टिप्पणी

भारतीय समाज में समानता और भाईचारा पूरी तरह नदारद : दिल्ली हाईकोर्ट की 2010 मिर्चपुर (हरियाणा) मामले में सख्त टिप्पणी

नई दिल्ली, 24 अगस्त। 2010 मिर्चपुर (हरियाणा) मामले की सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा है कि भारतीय समाज में समानता और भाईचारा पूरी तरह नदारद है।

वर्ष 2010 के मिर्चपुर केस में दिल्ली हाईकोर्ट ने आरोपियों की अपील को खारिज करते हुए कहा,

"जाट समुदाय ने जानबूझकर, सोच-समझकर वाल्मीकि समुदाय के लोगों पर हमला किया…"

कोर्ट ने समुदाय के उन लोगों को दोषी करार दिया, जिन्हें सत्र अदालत ने बरी कर दिया था।

दिल्ली उच्च न्यायालय का कहना है,

"जाट समुदाय ने जानबूझकर वाल्मीकि समुदाय के लोगों पर हमला किया।" अदालत ने जाट समुदाय के लोगों को भी दोषी ठहराया जिन्हें पहले सुनवाई अदालत ने बरी कर दिया था।

दिल्ली उच्च न्यायालय ने कहा,

"आजादी के 71 साल बाद, प्रमुख (dominant) जातियों के लोगों द्वारा अनुसूचित जाति के खिलाफ अत्याचार के उदाहरणों में कमी का कोई संकेत नहीं दिखाया गया है।"

वर्ष 2010 के मिर्चपुर केस में दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा, "मिर्चपुर में 19 से 21 अप्रैल, 2010 के बीच हुई घटनाएं एक बार फिर यह कड़वा एहसास दिलाती हैं कि 'भारतीय समाज में दो चीज़ों – समानता और भाईचारा – पूरी तरह नदारद हैं…', जैसा डॉ भीमराव अम्बेडकर ने संविधान के अंतिम ड्राफ्ट में लिखा था…"

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">2010 Mirchpur (Haryana) case: Delhi High Court says, &quot;Jaat community deliberately attacked the people of Valmiki community.&quot; Court also convicted people of Jaat community who were earlier acquitted by the trial court. Delhi High Court dismisses appeals of the accused.</p>&mdash; ANI (@ANI) <a href="https://twitter.com/ANI/status/1032861457233440769?ref_src=twsrc%5Etfw">August 24, 2018</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">2010 Mirchpur case: Delhi High Court said, &quot;71 years after Independence, instances of atrocities against Scheduled Castes by those belonging to dominant castes have shown no sign of abating.&quot;</p>&mdash; ANI (@ANI) <a href="https://twitter.com/ANI/status/1032870510345027590?ref_src=twsrc%5Etfw">August 24, 2018</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">2010 Mirchpur case: Delhi HC said, &quot;The incidents that took place in Mirchpur between 19&amp;21st April 2010 serve as yet another grim reminder of &#39;complete absence of two things-equality &amp; fraternity in Indian society&#39; &quot; as noted by Dr. B.R. Ambedkar&quot; in final draft of Constitution</p>&mdash; ANI (@ANI) <a href="https://twitter.com/ANI/status/1032870512781918208?ref_src=twsrc%5Etfw">August 24, 2018</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<iframe width="950" height="534" src="https://www.youtube.com/embed/Uw-CqsW3RAQ" frameborder="0" allow="autoplay; encrypted-media" allowfullscreen></iframe>

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: