Home » समाचार » दुनिया » शरीर और मस्तिष्क पर ई-सिगरेट के प्रभाव
electronic cigarettes e-cigarettes

शरीर और मस्तिष्क पर ई-सिगरेट के प्रभाव

शरीर और मस्तिष्क पर ई-सिगरेट के प्रभाव Effects of E-Cigarettes on Brains and Bodies

कुछ लोग सोचते हैं कि क्योंकि ई-सिगरेट में तंबाकू का नहीं होता है, तो वे आपके लिए खराब नहीं हैं। लेकिन ई-सिगरेट और वेपोराइजर में जाने वाले वाष्प में ऐसे रसायन हो सकते हैं, जो साँस लेने पर बहुत खतरनाक हो सकते हैं और जो आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं। वे शोधकर्ता इन रसायनों के प्रभावों का अध्ययन कर रहे हैं।

शिशुओं के लिए स्वास्थ्य समस्याएं Health Problems for Babies

यदि गर्भवती महिला ई-सिगरेट का उपयोग करती है जिसमें निकोटीन होता है, तो उसका बच्चा बहुत जल्दी या बहुत छोटा पैदा (born too early or too small) हो सकता है। निकोटीन बच्चे के लिए स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकता है।

किशोरों के लिए स्वास्थ्य समस्याएं Health Problems for Teens

मस्तिष्क के विकास के लिए किशोरावस्था बहुत महत्वपूर्ण हैं। जब तक आप लगभग 25 वर्ष के नहीं हो जाते, तब तक आपका मस्तिष्क बढ़ता रहता है। इसलिए, ई-सिगरेट सहित किसी भी रूप में निकोटीन उत्पादों का उपयोग करना, मस्तिष्क के बढ़ने के तरीके को बदल सकता है।

निकोटीन विषाक्तता Nicotine Poisoning

निकोटीन विषाक्तता अक्सर तब होती है जब छोटे बच्चे लोगों द्वारा छोड़े हुए निकोटीन गम या पैच चबाते हैं  या वे ई-सिगरेट तरल निगल लेते हैं जिसमें निकोटीन होता है।

निकोटीन विषाक्तता के लक्षण हैं: Signs of a nicotine poisoning are:

सांस लेने में परेशानी होना

फेंक रहा (throwing up)

बेहोशी (fainting)

सरदर्द (headache)

दिल की धड़कन वास्तव में तेज या वास्तव में धीरे-धीरे

यदि बच्चे को निकोटीन खाने या पीने के बाद इनमें से कोई भी लक्षण है, तो आपको तुरंत डॉक्टर को कॉल करना चाहिए।

लत Addiction

आप अन्य दवाओं की तरह ई-सिगरेट में निकोटीन (nicotine in e-cigarettes) के आदी हो सकते हैं। जब आप ई-सिगरेट पीते हैं, तो निकोटीन आपको खुशी और ऊर्जा का एक छोटा सा हिस्सा देता है। लेकिन यह जल्द ही दूर हो जाता है। इससे आप दिन भर में बार-बार ई-सिगरेट का उपयोग करना चाहते हैं।

समय के साथ, निकोटीन आपके मस्तिष्क के काम करने के तरीके को बदल सकता है। यदि आप इसका उपयोग करना बंद कर देते हैं, तो आपका शरीर भ्रमित हो सकता है और आप वास्तव में बीमार महसूस करना शुरू कर सकते हैं। इससे रुकना मुश्किल हो जाता है। इसे व्यसन (addiction) कहते हैं।

कुछ लोग सोचते हैं कि ई-सिगरेट का उपयोग करने से उन्हें नियमित सिगरेट छोड़ने में मदद मिलेगी, लेकिन इस बात का कोई सबूत नहीं है कि ई-सिगरेट से लोगों को धूम्रपान रोकने में मदद मिलती है। साथ ही, अध्ययनों से पता चला है कि ई-सिगरेट का इस्तेमाल करने वाले किशोर भविष्य में सिगरेट पीना शुरू कर सकते हैं।

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।)

स्रोत – एनआईएच

About हस्तक्षेप

Check Also

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: