क्या आप जानते हैं, हर छठे भारतीय को है मानसिक स्वास्थ्य सहायता की आवश्यकता

राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य सर्वेक्षण (NATIONAL MENTAL HEALTH SURVEY 2015-16) में कहा गया कि हर छठे भारतीय को मानसिक स्वास्थ्य सहायता की आवश्यकता होती है।
 | 

क्या आप जानते हैं, हर छठे भारतीय को है मानसिक स्वास्थ्य सहायता की आवश्यकता

Every sixth Indian needs mental health help

नई दिल्ली, 11 अक्तूबर 2018। कल ही दुनिया भर में विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाया गया। कहा जाता है कि भारत में भी मानसिक बीमारियां बढ़ रही हैं।

भारत का राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य सर्वेक्षण, 2015-2016 प्रसार, पैटर्न और परिणाम, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा समर्थित, और मानसिक स्वास्थ्य और तंत्रिका विज्ञान संस्थान (एनआईएमएचएएनएस) बेंगलुरू द्वारा सहयोगी संस्थानों के साथ सहयोग से 2015-2016 में कार्यान्वित किया गया।

भारत में सबसे ज्यादा मानसिक बीमारी वाला राज्य ?

The state of the most affected patients with mental illness in India?

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य सर्वेक्षण (NATIONAL MENTAL HEALTH SURVEY 2015-16) में कहा गया कि हर छठे भारतीय को मानसिक स्वास्थ्य सहायता की आवश्यकता होती है।

बहुत अधिक चंचल और शरारती बच्चे अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) का शिकार हो सकते हैं

सर्वेक्षण के मुताबिक कर्नाटक में 8% लोगों को मानसिक बीमारी है।

30 से 49 वर्ष के आयु समूह और 60 वर्ष से ऊपर के लोगों में और खासकर जो कम आमदनी वाले थे, मानसिक विकारों से ज्यादा प्रभावित हैं।

खास बात यह है कि शहरी क्षेत्रों में मानसिक बीमारी से सबसे ज्यादा लोग प्रभावित हैं।

10 अक्तूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाया जाता है।

ज़रा हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

भारतीय सभ्यता में पागलपन डर या भय नहीं, उम्मीद पैदा करता है

 

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription