Home » ‘Fall of ‘Real Socialism’ and Visions for Socialism in the 21st Century’

‘Fall of ‘Real Socialism’ and Visions for Socialism in the 21st Century’

New Socialist Initiative

invites you to a Public Lecture on
 
 ‘Fall of ‘Real Socialism’ and Visions for Socialism in the 21st Century’
by

Prof. Micheal Lebowitz

1.30 pm, Friday, 21st March
Lecture Theatre, Dept. of Political Science,
Faculty of Social Sciences, Delhi University

(Opposite Daulat Ram College)

Michael Lebowitz is a founding member of the Socialist Studies Society and a Professor Emeritus of Economics at Simon Fraser University. From 2004-2011, he was an advisor in Venezuela and headed the programme ‘Transformative Practice and Human Development’ at Centro Internacional Miranda in Caracas, Venezuela.

As of 2013, he had published 10 books and numerous articles; among countries where editions of his books have been published are Cuba, Venezuela, Chile, China, India (several languages), South Korea, Spain, Turkey, Greece and Norway. His current projects include books on human development and market self-management in Yugoslavia. Among representative publications are: “Beyond Capital: Marx’s Political Economy of the Working Class” (2003) – winner of the 2004 Isaac and Tamara Deutscher Memorial Prize for best work in the Marxian tradition; (2006) Build it Now: Socialism for the 21st Century; (2009) Following Marx: Method, Critique and Crisis; (2010) The Socialist Alternative: Real Human Development; and, (2012) Contradictions of ‘Real Socialism’: the Conductor and the Conducted.

For the facebook event page, click here
 
RSPV: 9818557916, 9013074978, 9911078111

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: