Home » समाचार » आईएएस टॉपर फैसल के इस्तीफे के फैसले पर बवाल, ठीकरा मोदी के सिर फूटा

आईएएस टॉपर फैसल के इस्तीफे के फैसले पर बवाल, ठीकरा मोदी के सिर फूटा

नई दिल्ली, 10 जनवरी। भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) टॉप कर चुके शाह फैसल के इस्तीफे के फैसले पर पूरे देश में सियासी भूचाल आ गया है और इसका ठीकरा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सिर फूट रहा है। बता दें आईएएस परीक्षा टॉप करने वाले फैसल पहले कश्मीरी हैं।  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी.चिदंबरम ने शाह फैसल के इस्तीफे पर कहा कि दुनिया उनकी पीड़ा और गुस्से को समझेगी।

चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा,

"हालांकि यह दुखद है लेकिन मैं आईएएस शाह (अब इस्तीफा दे चुके) फैजल को सलाम करता हूं। उनके बयान का हर शब्द सच है और यह भाजपा सरकार पर दोषारोपण है। दुनिया उनके गुस्से और पीड़ा को समझेगी।"

बता दें फैसल ने बुधवार को कहा था कि उन्होंने जम्मू एवं कश्मीर में नागरिकों की हो रही हत्याओं और हिंदूवादी ताकतों द्वारा भारतीय मुसलमानों को हाशिए पर धकेले जाने के विरोध में आईएएएस सेवा छोड़ दी है। इसने उन्हें (मुसलमानों) देश का दोयम दर्जे का नागरिक बना दिया है।

साल 2009 में आईएएएस की परीक्षा में शीर्ष पद हासिल करने वाले फैसल को जम्मू एवं कश्मीर कैडर दिया गया था। वह स्कूल शिक्षा के निदेशक और पावर डेवलेपमेंट कॉरपोरेशन के प्रबंध निदेशक थे।

चिंदबरम ने पंजाब पुलिस का नेतृत्व कर चुके सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी जुलियो रिबेरो का भी उल्लेख किया।

उन्होंने कहा,

"ज्यादा समय नहीं हुआ है, जब दिग्गज पुलिस अधिकारी रिबेरो ने भी यही बातें कही थीं लेकिन सरकार की तरफ से कोई आश्वासन नहीं दिया गया था। हमारे साथी नागरिकों की ओर से इस तरह के बयानों से हमारे सिर शर्म और खेद से झुक जाने चाहिए।"

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Though sad, I salute Mr <a href="https://twitter.com/shahfaesal?ref_src=twsrc%5Etfw">@shahfaesal</a> IAS (now resigned). Every word of his statement is true and is an indictment of the BJP government. The world will take note of his cry of anguish and defiance.</p>&mdash; P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) <a href="https://twitter.com/PChidambaram_IN/status/1083177824792408064?ref_src=twsrc%5Etfw">January 10, 2019</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Not long ago Mr Rebeiro, the legendary police officer, said the same thing, but there was not a word of reassurance from the Rulers. Such statements from our fellow citizens must make us hang our heads in regret and shame.</p>&mdash; P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) <a href="https://twitter.com/PChidambaram_IN/status/1083173909929680896?ref_src=twsrc%5Etfw">January 10, 2019</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="hi" dir="ltr">अफ़सोस, लेकिन मैं श्री <a href="https://twitter.com/shahfaesal?ref_src=twsrc%5Etfw">@shahfaesal</a> IAS (अब इस्तीफ़ा दे चुके) को सलाम करता हूं। उनके बयान का हर शब्द सही है और भाजपा सरकार पर कलंक है। दुनिया उनके आक्रोश, पीड़ा और चुनौती को याद रखेगी।</p>&mdash; P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) <a href="https://twitter.com/PChidambaram_IN/status/1083222313959600129?ref_src=twsrc%5Etfw">January 10, 2019</a></blockquote>

<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

<iframe width="424" height="238" src="https://www.youtube.com/embed/8TtO-JIEwIY" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: