Home » समाचार » तकनीक व विज्ञान » गैजेट्स » चंदा कोचर के खिलाफ जिस अफसर ने दर्ज की एफआईआर उसका अगले दिन जेटली के ब्लॉग के बाद तबादला
Arun Jaitley,

चंदा कोचर के खिलाफ जिस अफसर ने दर्ज की एफआईआर उसका अगले दिन जेटली के ब्लॉग के बाद तबादला

मोदी के राज में भ्रष्टाचार के विरूद्ध जीरो टॉलरेंस !

नई दिल्ली, 27 जनवरी। “न खाऊंगा न खाने दूंगा” का नारा बुलंद करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राज में भ्रष्टाचार के विरूद्ध जीरो टॉलरेंस Zero Tolerance against corruption है बस इतना है कि आईसीआईसीआई बैंक ICICI Bank की पूर्व प्रबंध निदेशक Managing Director और सीईओ CEO चंदा कोचर Chanda Kochhar और उनके पति दीपक कोचर Deepak Kochhar के साथ-साथ ही वीडियोकॉन ग्रुप के वी एन धूत Videocon Group’s VN Dhoot के खिलाफ धोखाधड़ी और साजिश रचने के आरोप में सीबीआई CBI के जिस अफसर ने एफआईआर FIR दर्ज की थी, उसका अगले ही दिन ट्रांसफर कर दिया गया है।

इंडियन एक्सप्रेस Indian Express की खबर ICICI Bank cheating case: Two days before Jaitley took swipe at CBI, probe officer was shunted out के मुताबिक सीबीआई के एसपी सुधांशु धर मिश्रा CBI Superintendent Sudhanshu Dhar Mishra सीबीआई के बैंकिंग एंड सिक्योरिटीज फ्रॉड सेल में तैनात थे। उन्होंने 22 जनवरी को चंदा कोचर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने वाले दस्तावेज पर दस्तखत किए थे। अगले ही दिन उनका तबादला सीबीआई की रांची की आर्थिक अपराध शाखा में हो गया।

यहां ध्यान देना होगा कि एफआईआर दर्ज होने के दो दिन बाद ही पूर्व वित्त मंत्री मंत्री अरुण जेटली Former Finance Minister Arun Jaitley ने सोशल मीडिया के जरिए सीबीआई की एफआईआर पर सवाल खड़े किए थे।

जेटली ने एफआईआर पर सीबीआई को ‘दुस्साहस’ से बचने और सिर्फ दोषियों पर ध्यान देने की नसीहत दी थी। जेटली ने सवाल उठाया था कि सीबीआई में खास लक्ष्य पर ध्यान देने के बजाय ‘अंतहीन यात्रा’ का रास्ता क्यों चुना जा रहा है?

इंडियन एक्सप्रेस ने सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया है कि जेटली की टिप्पणी एक सलाह है और इसे एजेंसी में किसी भी दखलंदाज़ी के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए।

शनिवार को एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा,

‘जेटली ने जायज तर्क दिया है। आप किसी भी सबूत के बिना अनुमानों के आधार पर किसी पर इतना बड़ा आरोप नहीं लगा सकते हैं। आप कैसे बिना किसी सबूत के टॉप बोर्ड सदस्यों का नाम ले सकते हैं? इससे सभी फैसले लेने में मुश्किल आएगी।’

अखबार ने एक और अधिकारी से बात की, जिसने कहा कि,

“यह सीबीआई का फैसला है और सरकार का इस मामले से कुछ लेना-देना नहीं है। फिर भी हमें लगातार निशाने पर लिया जा रहा है।“

गौरतलब है कि कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि,

“जेटली ने सीबीआई पर दबाव बनाकर इस मामले पर धीमी चाल चलने को कहा है।“

राज्यसभा सांसद आनंद शर्मा ने कहा कि जेटली की टिप्पणी की एजेंसी को फटकार और धमकी की तरह है।

वहीं कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने कहा कि , ‘उनका बयान असाधारण है। यह सीबीआई को धीमी चाल चलने के लिए कहने का स्पष्ट संकेत है और दोहरे मानकों की भी दिखाता है जो निश्चित तौर पर उनके लिए नया नहीं है। उन्होंने वोडाफोन मामले को कर आतंकवाद कहा था और केयर्न के मामले में भी उन्होंने ऐसा ही किया।’

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

About हस्तक्षेप

Check Also

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *