ऑस्ट्रेलिया में भीषण गर्मी से मरे 90 जंगली घोड़े और 10 लाख मछलियां

कैनबरा, 24 जनवरी। ऑस्ट्रेलिया Australia में अत्यधिक गर्मी (Excessive heat in Australia) के कारण कम से कम 90 जंगली घोड़ों की मौत हो गई। सेंट्रल लैंड काउंसिल Central Land Council (सीएलसी) ने कहा कि करीब 40 पशु जिनमें घोड़े, गधे एवं ऊंट शामिल हैं, पहले ही पानी की कमी lack of water और भूख-प्यास से …
 | 

कैनबरा, 24 जनवरी। ऑस्ट्रेलिया Australia में अत्यधिक गर्मी (Excessive heat in Australia) के कारण कम से कम 90 जंगली घोड़ों की मौत हो गई। सेंट्रल लैंड काउंसिल Central Land Council (सीएलसी) ने कहा कि करीब 40 पशु जिनमें घोड़े, गधे एवं ऊंट शामिल हैं, पहले ही पानी की कमी lack of water और भूख-प्यास से मर चुके हैं।

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, नॉर्दन टेरीटॉरी स्टेट के सीएलसी ने गुरुवार को कहा कि सुदूर समुदाय ने मरने वाले इन पशुओं की गैरमौजूदगी के बारे में शिकायत की थी, जिसके बाद पिछले सप्ताह रेंजरों ने इन्हें एलिस स्प्रींग के समीप सूखे हुए पानी के गड्ढे में पड़ा हुआ पाया था।

ऑस्ट्रेलियाई मौसम विभाग के मुताबिक, एलिस स्प्रींग में तापमान करीब दो सप्ताह से 42 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया है, जो कि जनवरी के औसत तापमान से छह डिग्री सेल्सियस ज्यादा है।

कई अन्य वन्यजीव प्रजातियां भी भीषण गर्मी से जूझ रही हैं, इसमें न्यू साउथ वेल्स में देशी चमगादड़ों की बड़ी संख्या में मौत की रिपोर्ट भी शामिल है।

सूखा प्रभावित राज्य में नदी के किनारे 10 लाख मछलियां मरी हुई पाई गई हैं।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

<iframe width="424" height="238" src="https://www.youtube.com/embed/8TtO-JIEwIY" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>

In Australia, 90 wild horses and 1 million fishes die from the heat.

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription