Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » जब मोदी-आरएसएस से देश को खतरा नहीं है तो ओवैसी से कैसे खतरा हो सकता है!
Jagadishwar Chaturvedi on Haryana elections

जब मोदी-आरएसएस से देश को खतरा नहीं है तो ओवैसी से कैसे खतरा हो सकता है!

जब मोदी-आरएसएस से देश को खतरा नहीं है तो ओवैसी से कैसे खतरा हो सकता है!

नरेंद्र मोदी अकेले पीएम हैं जिन्होंने जनादेश को धनादेश के जरिए बार बार पलटा है। धनादेश और शासकीय आतंक से दो अस्त्र हैं उनके पास, इनके जरिए वे रोज लोकतंत्र की जड़ों में मट्ठा डाल रहे हैं।

मोदी शासन में जिस तरह गुलाम भाषा, गुलाम नेता, गुलाम जनता, गुलाम मीडिया का जलवा है, उसी तरह भ्रष्ट सांसद, भ्रष्ट मंत्री, बलात्कारी सांसद और बलात्कारी मंत्री की ऐश है। यह भारत के नए राजा हैं!

सत्ता कुत्ती चीज है, मोदी जैसे “गरीब” और “ईमानदार” से क्या क्या पाप नहीं करा रही!! बेचारे आरएसएस-भाजपा वाले इस पाप और असंख्य पापियों को ढो रहे हैं! हाय ! हिंदू राष्ट्र तू इतना भ्रष्ट और पतित संरक्षक क्यों है?

हर पापी-अपराधी संविधान की शपथ लेता है। संवैधानिक संस्था चुनाव आयोग के जरिए जीतता है। हम उसे नेता बनाते हैं। इस तरह हम उसके अपराध के भागीदार बनते हैं। यह है लोकतंत्र और नागरिक के अपराधीकरण की वैध प्रक्रिया। गर्व से कहो भारत महान है! अपराधियों का स्वर्ग है।

लोकतंत्र माने वैध अपराधी तंत्र!!

भारत और यूरोप के लोकतंत्र में बुनियादी अंतर है, वहां अपराधी जेल में रहते हैं, हमारे यहां संसद-विधानसभा में रहते हैं।

भाजपा को समर्थन देने पर निर्दलीय उम्मीदवार गोपाल कांडा ने कहा मेरा परिवार शुरू से ही आरएसएस से जुड़ा है।

यह है आरएसएस का नया चेहरा!

जब मोदी-आरएसएस से देश को खतरा नहीं है तो ओवैसी से कैसे खतरा हो सकता है! जो जितना बड़ा अपराधी वह उतना बड़ा देशभक्त! मोदी भक्तों की भाषा में आज नेहरू देशभक्त नहीं हैं! मोदी दे‌शभक्त हैं! गांधी को वे गद्दार और सावरकर को देशभक्त बता रहे हैं! यह नये भारत का नया इतिहास है। इसके सामाजिक स्रोत हैं लुंपेन मिडिल क्लास के रतन!!

चौटाला से मिलकर सरकार बनाने में क्या परेशानी है ? ओमप्रकाश चौटाला सबसे बड़ा पुण्यात्मा है परम तीर्थ जेल में है। अब यह मत पूछना क्यों ? सरकार बनाना मजबूरी है मोदी जी की ऐलान जो कर चुके हैं !

जब भ्रष्ट ही चुनना हो तो महाभ्रष्ट को चुनो। साथ लो, सरकार बनाओ। हम सब भ्रष्ट हैं ! संतोष करो और पीएम का साथ दो।

जगदीश्वर चतुर्वेदी

Jagadishwar Chaturvedi on Haryana elections

About जगदीश्वर चतुर्वेदी

जगदीश्वर चतुर्वेदी। लेखक कोलकाता विश्वविद्यालय के अवकाशप्राप्त प्रोफेसर व जवाहर लाल नेहरूविश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष हैं। वे हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

Check Also

Ajit Pawar after oath as Deputy CM

जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है फासीवाद, महाराष्ट्र ने साबित किया

जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है फासीवाद, महाराष्ट्र ने साबित …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: