Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » कैराना में आरएसएस-मोदी की पराजय : भारत की आत्मा के शत्रु हैं आरएसएस-मोदी
Modi Air India

कैराना में आरएसएस-मोदी की पराजय : भारत की आत्मा के शत्रु हैं आरएसएस-मोदी

कैराना में आरएसएस-मोदी की पराजय के बाद एक सोच :

आरएसएस-मोदी भारत की आत्मा के शत्रु हैं; ये पराजित होने के लिये अभिशप्त हैं

अरुण माहेश्वरी

आरएसएस की राजनीति (Rss politics) को धूल चटा कर भारत अपनी प्राचीनतम वैविध्यपूर्ण समृद्ध अस्मिता में समय के साथ आई अनेक दुर्बलताओं से मुक्त होकर वर्तमान के मैले हो चुके खोल को पूरी तरह से पलट देगा और परिवर्तन के एक नये बिंदु से अपनी तात्विक नूतनता को फिर से अर्जित करके स्वयं को तरोताजा, नवीनतर करेगा। इसी अर्थ में भारत की वर्तमान राजनीति का यह एक युगांतकारी क्षण है।

अभिनवगुप्त ने इसे ही अपने शैवमत का प्रत्यभिज्ञा दर्शन  कहा है। यह मानव प्रगति का अनोखा सूत्र है। हेगेल की शब्दावली में पूर्ण प्रत्यावर्त्तन, Total Recoil।

कैराना में चार साल पहले के सांप्रदायिक विभाजन की इस बार की पराजय में हमें भारत की इसी प्राचीन नवीनता की जीत दिखाई देती है जिसे आज के समय के कम्युनिस्ट दार्शनिक एलेन बाद्यू एक प्रकार की संरक्षणवादी नवीनता, conservative novelty कहते हैं। जो प्राचीन है, वह भी हमेशा वर्तमान की, एक प्रकार की नवीनता के तर्कों की भी भूमिका निभाता है। वह कभी प्रगतिशील रूपांतरण में बाधा बनता है, तो अक्सर प्रतिक्रियावादी तानाशाही का भी प्रतिरोध तैयार करता है।

इसीलिये हम बार-बार कहते हैं कि आरएसएस ने हिटलरी रास्ते पर चल कर, फासीवादी राष्ट्रवाद के नाम पर भारतवर्ष के संपूर्ण अस्तित्व के खिलाफ युद्ध छेड़ रखा है। इसे हम घुमा कर आरएसएस के हमलों के विरुद्ध भारतवर्ष की संपूर्ण अस्मिता का संघर्ष भी कह सकते हैं।

इस लड़ाई में आरएसएस कभी विजयी नहीं हो सकता है, क्योंकि उसकी पूरी परिकल्पना में मनुष्य की, भारत की मूल आत्मा की मुक्ति का कोई स्थान नहीं है।

भारत के अपने मु्क्त मन को अपनी इस दौरान पैदा हुई दुर्बलताओं से मु्क्त होना है और अपने आजाद शैशव की ताजगी को अर्जित करके आगे बढ़ना है, आरएसएस के पास उसका कोई रास्ता नहीं है। बनिस्बत्, वह भारतीय इतिहास के विकास पथ की कमजोरियों के पाश से उसे जकड़े रखने के लिये, हिंदू पादशाही के तानाशाही शासन को कायम करने के लिये काम कर रहा है। वह भारत की मुक्ति और नवीनता की दिशा के रास्ते की आज सबसे बड़ी बाधा है जिसे आधुनिक राजनीति की परिभाषाओं के अनुसार फासीवाद कहा जाता है।

आरएसएस के इन आक्रमणों के खिलाफ भारत की मुक्तिकामी आत्मा निश्चित तौर पर विजयी होगी – इसी मानदंड पर हम राजनीति के आज के दौर की सारी रणनीतियों-कार्यनीतियों को आंकते हैं और हमेशा इसी पर बल देते हैं।

advertorial English Fashion Glamour Jharkhand Assembly Election Kids Fashion lifestyle Modeling News News Opinion Style summer Uncategorized आपकी नज़र कानून खेल गैजेट्स चौथा खंभा तकनीक व विज्ञान दुनिया देश धारा 370 बजट बिना श्रेणी मनोरंजन राजनीति राज्यों से लोकसभा चुनाव 2019 व्यापार व अर्थशास्त्र शब्द संसद सत्र समाचार सामान्य ज्ञान/ जानकारी स्तंभ स्वतंत्रता दिवस स्वास्थ्य हस्तक्षेप

About अरुण माहेश्वरी

अरुण माहेश्वरी, प्रसिद्ध वामपंथी चिंतक हैं। वे हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

Check Also

Ajit Pawar after oath as Deputy CM

जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है फासीवाद, महाराष्ट्र ने साबित किया

जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है फासीवाद, महाराष्ट्र ने साबित …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: