जानिए कौन है “भारत का संविधान” का असली लेखक

general knowledge in hindi

क्या आप जानते हैं भारत का संविधानका असली लेखक कौन है?

Know who is the real author of “Constitution of India”

भारत का संविधान।

भारत का संविधान किसने बनाया, इस बात पर जो जवाब आम तौर पर रटा दिया गया है वो ये है कि भारतीय संविधान का निर्माता कौन? जवाब में डॉ आंबेडकर का नाम सबको पता है। यह रटा रटाया जवाब दलित जातिवादी राजनीति की देन है जिसमें जातिवादी चश्मे के अलावा कुछ भी नहीं सूझता। इस चश्मे में किसी के भी मूल्यांकन में यह सबसे पहले देखा जाता है कि फलां की जात क्या है। फिर उसकी नीयत तय कर दी जाती है। खैर।

जरा भारतीय संविधान सभा, उसकी कार्यवाहियों, उसमे महत्त्वपूर्ण व्यक्तियों पर गौर कीजिए तो आप पाएंगे कि रटे रटाये जवाब केवल जातिगत राजनीति की पूर्ति के लिए बना दिये गए।

भारत के संविधान निर्माण के लिए मूलतः कांग्रेस पार्टी जिम्मेदार है। नेहरू, पटेल, राजेन्द्र प्रसाद, मौलाना आजाद इसके मूल स्तम्भ हैं जिसमें भी नेहरू का योगदान सबसे ऊपर है। कांग्रेस ने इसे सर्वग्राह्य बनाने के लिए बहुत से योग्य व्यक्तियों को, जो अलग-अलग दलों में थे, उन्हें स्थान सम्मान दिया और महत्त्वपूर्ण प्रभार कार्य सौंपे।

डॉ आंबेडकर बहुत ही योग्य संविधानविद थे और तमाम कानूनों के जानकार थे, इसलिए उन्हें ड्राफ्ट कमेटी का चेयरमैन बनाया गया था।

भारत का संविधान कोई ऐसी चीज नहीं जिसे डॉक्टर साहब ने अकेले बैठ के लिख डाला हो। यह सारे देश की उपलब्ध मेधा और राष्ट्रीय आंदोलन के संघर्ष का सामूहिक नतीजा था। यह सब महान कार्य कांग्रेस के नेतृत्व में फलीभूत हुआ था।

भारत का संविधान निर्माण उन लोगों के लिए सबक है जो बस जात जात चिल्ला पाते हैं।
आलोक वाजपेयी

(लेखक इतिहासकार हैं।)

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

यह भी पढ़ें –

डॉ. अम्बेडकर संविधान के निर्माता नहीं, बल्कि संविधान के प्रारूपकार थे !

हिंदुत्व के पुनरुत्थान के साथ भारत अमेरिकी उपनिवेश में तब्दील, हिटलर जैसे हारा, वैसे हमारा लाड़ला झूठा तानाशाह भी हारेगा

हमें संविधान दिवस तक मनाने की इजाजत नहीं है, ऐसी है हमारी भारतीय नागरिकता और ऐसा है बाबासाहेब नामक हमारा एटीएम!

बजरंगी भाईजान की जान मुश्किल में तो समझो हिंदुत्व बवंडर का आलम क्या है!

दलितों और महादलितों को ग्लोबल हिंदू साम्राज्यवाद की पैदल सेना बनाने की संघ परिवार की तैयारी

स्वराज : अपना राज नहीं, अपने ऊपर खुद का राज

क्या यह दो संविधानों का टकराव है : मनुस्मृति और भारतीय संविधान दोनों साथ साथ नहीं चल सकते।

राष्ट्रवाद की खातिर संविधान को ताक पर रखने में क्या ऐतराज है?

संविधान से ऊपर हिन्दू राष्ट्र ? किसके लिए ?