Home » पता नहीं किनके लिये ‘मंटो’ फिल्म की पटकथा लिखी गई है ?

पता नहीं किनके लिये ‘मंटो’ फिल्म की पटकथा लिखी गई है ?

पता नहीं किनके लिये ‘मंटो’ फिल्म की पटकथा लिखी गई है ?

लेखक की कहानियां और लेखक

(फिल्म ‘मंटो’ पर एक प्रतिक्रिया )

अरुण माहेश्वरी

कल मंटो फिल्म देखी। पता नहीं किनके लिये इस फिल्म की पटकथा लिखी गई है। जिन्होंने मंटो की कहानियों को नहीं पढ़ा हैं और मंटो के साहित्य की चर्चा से परिचित नहीं है, हम नहीं जानते वे इस फिल्म का एक शब्द भी समझ पायेंगे या नहीं।

सचमुच इस जगत के अंदर कितने-कितने जगत समाहित हैं। शास्त्रों की भाषा में भुवन। छोटे, बड़े, विशाल, सर्व-व्यापी। एक अकेले आदमी के खुद के भुवन से शुरू करके विश्व और पूरे ब्रह्मांड के भुवन तक। सबकी अपनी-अपनी भाषाएं हैं , इतनी अपनी कि आप उन्हें उनकी कूट भाषा भी कह सकते हैं। खग ही जाने खग की भाषा। उसकी दुनिया में अन्य का प्रवेश निषिद्ध होता है।

वैसे ही साहित्य और अदब का भी अपना एक जगत है और उसके अंदर की चर्चाओं की अपनी भाषा भी। कुछ मायनों में वह इतनी सीमित होती है कि इस जगत के बाहर के आदमी के लिये बिल्कुल अबूझ हुआ करती है। नंदिता दास की बनाई यह ‘मंटो’ फिल्म लगभग वैसी ही भाषा की एक फिल्म है। इसे सिनेमाघरों में दिखाना सचमुच हमारी साहित्यिक बिरादरी का अपने दायरे के बारे में एक चरम आत्म-विश्वास का ही परिचय देती है।

बहरहाल, हमें तो इस फिल्म से एक तृप्ति मिली कि किसी जमाने के तरक्कीपसंद लेखकों की साक्षात उपस्थिति में हम अपने मकबूल कथाकार मंटों को चलता-फिरता, एक पारिवारिक जीवन के सुखों और तनावों को जीता और अपने समय की फिल्मी चकाचौंध में भी अपनी खास शख्शियत में खोया हुआ जिंदा देख पा रहे थे। इसमें हमारे दिलों में बसी  ‘ठंडा गोश्त’, ‘टोबाटेक सिंह’ से लेकर उनकी कई कहानियों के परिवेश की झाकियां दिखाई दी थी। हम उन पर चर्चा करके खुश थे।

लेकिन अंत में हम यही सोचते हुए निकले कि एक कथाकार की हर कहानी खुद में एक पूरा जीवन लिये होती है। उसकी इतनी कहानियों के इतने सारे जीवन को उस एक कथाकार के अपने छोटे से जीवन के डब्बे में डाल कर दबा कर सिकुड़ा देने के इस उपक्रम को हम कौन सा हाइपर टेक्स्ट कहेंगे ? ऐसे डब्बे ही शायद जीवन संबंधी विचारों को समग्र रूप में समेटने वाली विचारधाराओं के डब्बे होते हैं, जिनके एक इंच ऊपर उठे ‘लिहाफ’ के अंदर के सत्य को दिखाने के कौतुहल से भी न जाने कितनी और नई कहानियां बनती जाती है !

यह मंटो को जानने के लिये कत्तई यथेष्ट नहीं

खैर, इस मंटो फिल्म का हम जैसे चंद लोगों के लिये तो कुछ या बहुत ज्यादा मायने हो सकता है, लेकिन सिनेमा के साधारण दर्शक के लिये यह एक शराबी और सनकी लेखक के पारिवारिक जीवन और बिखरे हुए सामाजिक परिवेश के कुछ अबूझ से ‘चलचित्रों’ का एक बेतरतीब सा गुच्छा भर लगती है। शायद लेखक की जिंदगी को हमेशा उसके चरित्रों से जोड़ कर देखने की मासूम ललक का भी यह एक फल है। मंटो को जानने के लिये यह कत्तई यथेष्ट नहीं है।

तथापि, मंटो पर मूलत: उनकी कहानियों के मंचन के जरिये नाटक तो कइयों ने किये हैं, वैसी ही एक कोशिश फिल्म के माध्यम पर करने के लिये नंदिता दास साधुवाद की हकदार हो सकती है। लेकिन फिर भी कहेंगे, फिल्म सिर्फ नाटक, अर्थात जीवन के सत्यों का संवादमूलक निचोड़ नहीं है।

ज़रा हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

<iframe width="570" height="321" src="https://www.youtube.com/embed/RUwQQksa_jA" frameborder="0" allow="autoplay; encrypted-media" allowfullscreen></iframe>

Topics – Saadat Hasan Manto, Nawazuddin Siddiqui : manto movie review in hindi, Manto movie review nawazuddin siddiqui film full story, Manto Movie Review,

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: