क्या पुरुषों को मूढ़ने का पर्व है वेलेंटाइन डे ?

क्या पुरुषों को मूढ़ने का पर्व है वेलेंटाइन डे ? जानिए वेलेंटाइन डे पर पुरुष महिलाओं से ज्यादा खर्च करते हैं. वेलंटाइन डे महिलाओं के बीच भी उतना ही लोकप्रिय है, लेकिन जब सवाल जेब ढीली करने का हो तो वे पुरुषों से थोड़ा पीछे रहती हैं। 
 | 

नई दिल्ली, 09 फरवरी। क्या 14 फरवरी February 14 को मनाए जाने वाला प्रेम के इजहार का पर्व (Festival of Love) वेलेंटाइन डे (Valentine's Day) पुरुषों को मूढ़ने का पर्व भी है ? हालाँकि वेलेंटाइन डे शुद्ध रूप से बाजार उत्पादित पर्व (market-produced festival) है, लेकिन एक दिलचस्प अध्ययन में यह बात सामने आई थी कि जब सवाल इस दिन खर्च करने का हो, तो पुरुष महिलाओं से ज्यादा आगे रहते हैं।

वेलेंटाइन डे पर पुरुष महिलाओं से ज्यादा खर्च करते हैं

Men spend more on Valentine's Day than women

वर्ष 2016 में वेबसाइट गिफ्टईज डॉट कॉम द्वारा कराए गए ऑनलाइन सर्वेक्षण में मेट्रोपोलिटन सिटी में रहने वाले 18-45 साल की उम्र के 3,000 प्रतिभागियों को शामिल किया गया था। इस अध्ययन में लगभग 68 प्रतिशत प्रतिभागियों ने कहा था कि वह कुछ अलग तरीके से वेलेंटाइन्स डे मनाएंगे।

सर्वेक्षण में 37 प्रतिशत प्रतिभागियों का कहना था कि वे केवल अपने साथी के साथ ही वेलेंटाइन्स डे मनाएंगे। 22 प्रतिशत ने कहा कि वे अपने मित्रों के साथ इसे मनाएंगे। वहीं आठ प्रतिशत प्रतिभागियों का कहना था कि इस साल वे अपने पहले वेलेंटाइन्स का इंतजार कर रहे हैं।

वेलंटाइन डे महिलाओं के बीच भी उतना ही लोकप्रिय है, लेकिन जब सवाल जेब ढीली करने का हो तो वे पुरुषों से थोड़ा पीछे रहती हैं।

सर्वेक्षण में यह भी सामने आया था कि इस मौके पर उपहार देने के लिए औसतन पुरुष करीब 740 रुपये तक खर्च करने की योजना बनाते हैं, लेकिन औसतन महिलाएं केवल 670 रुपये ही खर्च करने की योजना बनाती हैं।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे
कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription