Home » MISSION BHARTIYAM CONDEMNS THE EXPULSION OF KASHMIRI STUDENTS FOR SUPPORTING PAKISTANI CRICKET TEAM

MISSION BHARTIYAM CONDEMNS THE EXPULSION OF KASHMIRI STUDENTS FOR SUPPORTING PAKISTANI CRICKET TEAM

PRESS RELEASE
MISSION BHARTIYAM CONDEMNS THE EXPULSION OF KASHMIRI STUDENTS FOR SUPPORTING PAKISTANI CRICKET TEAM
It has been reported that about 60 kashmiri students of a private university in Meerut, Swami Vivekanand Subharti University (SVSU) has been expelled for three days for celebrating Pakistan’s victory over India in a recent cricket match.
We strongly condemn this action of the university and consider it to be a clear violation of the freedom of speech and expression guaranteed by the Constitution of India. We also believe that arts and sports know no boundaries. Therefore, we condemn this intolerance that was shown by the authorities.
Therefore, we think that this action of the college authorities is arbitrary, autocratic, undemocratic and against the true spirit of the constitution of India and its long traditions.
We demand from the university to withdraw their action of expulsion of the students with immediate effect and to issue an apology to the affected students with the assurance that their respect in the campus will be restored and that they will not be subjected to any form of discrimnation.
Our member of Mission Bhartiyam, Mr. Sandeep Mishra, Advocate Supreme Court will also write to the University in this regard.
Issued by:
Mission Bhartiyam
A registered group of students and young professionals,
Working in the fields of peace & harmony, human rights and environment.

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: