Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » भक्तगण कृपया लोड न लें, आइए जानें “वैशाखनंदन” गधे को क्यों कहा जाता है
Donkey in Hindi

भक्तगण कृपया लोड न लें, आइए जानें “वैशाखनंदन” गधे को क्यों कहा जाता है

Learn why a donkey is called “Vaishakhanandan”

मृणाल पांडे ने अपने ट्वीट में जो कहा है उसकी निंदा हो रही है लेकिन आपको सोचना होगा कि क्या स्थिति इस कदर बिगड़ गयीं है कि लब्ध प्रतिष्ठित साहित्यकारों को भी जुमला जयंती जैसे शब्द का इस्तेमाल करना पड़ रहा है और बेचारे वैशाख नन्दनों का अपमान करना पड़ रहा है जिससे खुद मोदी जी प्रेरणा लेते हैं।

वैशाख नन्दन एक शास्त्रीय शब्द है देवभाषा संस्कृत में गधे को वैशाख नंदन कहा गया है।

अब “वैशाखनंदन” गधे को क्यों कहा जाता है इस को भी जान लेना समीचीन होगा।

गधों की मौत बनकर आया चीन, दुनिया भर में बेरहमी से मारे जा रहे हैं गधे

जब हरियाली का मौसम आता है तो सभी जानवर अति प्रसन्न हो उठते हैं क्योंकि अब उन्हें सर्वत्र हरी हरी घास पेट भर कर मिलती है एवं समस्त जानवर भर पेट हरी हरी घास खाकर हृष्ट पुष्ट हो जाते हैं। किन्तु गधा एक ऐसा प्राणी है जो हरियाली के मौसम में बहुत ही कमजोर हो जाता है एवं जब हरियाली समाप्त हो जाती है और वैशाख का महिना आता है एवं खाने हेतु जब सूखी घास रह जाती है वह भी बहुत कम मात्रा में तब यह गधा अधिक हृष्ट पुष्ट हो जाता है। आखिर ऐसा कैसे होता है ?

दिग्विजय का जोरदार प्रहार – आप बिल्कुल गधे के माफिक काम कर रहे हैं मोदी जी

वजह यह है कि जब हरियाली में गधा घास चरता है एवं बार-बार पीछे मुड़कर देखता है कि मैं कितनी घास खा चुका हूँ तब वह पाता है कि पीछे तो हरा ही हरा नजर आ रहा है अर्थात मैंने अभी बहुत ही अल्प मात्रा में घास खाई है, इस प्रकार पूरी हरियाली के मौसम में गधा अधिक खाकर भी मानसिक रूप से अतृप्त ही रहता है। एवं वैशाख माह में जब गधा घास चरता है एवं बार-बार पीछे मुड़कर देखता है और पात़ा है कि पीछे मात्र मिट्टी ही है यब वह तृप्त होता है कि अरे वाह मैंने तो पूरी घास चुन चुनकर खा डाली पीछे बिलकुल भी घास नहीं छोड़ी।

आजकल जितने भी उद्घाटन मोदी जी कर रहे हैं उनके मन मे ऐसी भावना आ जाना स्वाभाविक है इसलिए भक्तगण कृपया लोड न लें।

गिरीश मालवीय

गिरीश मालवीय की फेसबुक टाइम लाइन से साभार

संदर्भ – मृणाल पांडे को ट्रोल कर दिया गोदी मीडिया ने

Donkey in Hindi

About हस्तक्षेप

Check Also

Ajit Pawar after oath as Deputy CM

जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है फासीवाद, महाराष्ट्र ने साबित किया

जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है फासीवाद, महाराष्ट्र ने साबित …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: