Home » People of UP and Biihar, teach the communal fascists a lesson in these polls

People of UP and Biihar, teach the communal fascists a lesson in these polls

I am appealing to all the people of Uttar Pradesh and Biihar to teach the communal fascists a lesson in these polls. They have defamed the states.
Uttar Pradesh and Bihar are much ahead of Gujarat on many fronts. Gujarat is known for business and nothing more than that. Every relationship in Gujarat is a business. Even when the wine is not sold, Gujaratis are experts in selling it illegally at a much higher price and making huge money and denying the exchequer profitability. Yes, Gujarat’s vegitarian business dealers have biggest meat business. Gujaratis are more hypocrite than any one else. A state which can not defend its own self want to dominate the politically conscious states of Uttar Pradesh and Bihar.
Does Modi and his chum Amit Shah know Rahul Sankrityayan and history of his movement. Does he know about Maulana Mohammad Ali Jauhar? Do they know Kaifi Azmi and numerous other poets and saints from the great land of Uttar Pradesh. People in UP and Bihar enjoy their life much better than Gujaratis whose only work is giving their money to Babas and temples. Gujarat can not be called an equal and inclusive society. The society in UP and Bihar are much more egalitarian and inclusive than the casteist Gujaratis. Gujaratis have no business to lecture us on civilisation and culture. Your only culture is making money. Please do so. India matters nothing for you. You only want India to loot and rule and not to be a part of it. Hope, UP and Bihar will vote for a secular India.

About the author

Vidya Bhushan Rawat, writer is Human right & Ambedkarite activist. He is our respected columnist.

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: