Home » जुमलों और नारों के नीचे दब गए बुनियादी मसले

जुमलों और नारों के नीचे दब गए बुनियादी मसले

 

अनिल जैन

पांच में से तीन राज्यों पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में विधानसभा चुनाव के लिए वोट डाले जा चुके हैं, जबकि उत्तर प्रदेश और मणिपुर में अभी चुनाव प्रक्रिया जारी है। जैसा कि हर चुनाव के समय होता है, इस बार भी चुनाव में भाग ले रहे प्रमुख दलों ने तरह-तरह के आकर्षक वायदों से युक्त अपने-अपने घोषणा पत्र जारी किए हैं। इन घोषणा पत्रों में सूबे के बुनियादी मसलों का भी जिक्र है और लोगों को मुफ्त लैपटाप, मुफ्त स्मार्ट फोन, मुफ्त प्रेशर कूकर, 25 रुपए किलों देशी घी और सस्ती दरों पर बिजली-पानी देने जैसे वायदे भी हैं। लेकिन इन घोषणा पत्रों का जारी होना महज रस्म अदायगी बन कर रह गया है।

कोई भी दल और उसके स्टार प्रचारक अपने चुनाव प्रचार अभियान में घोषणा पत्र में शामिल बुनियादी मुद्दों का जिक्र नहीं कर रहा है।

पंजाब में, यद्यपि मतदान हो चुका है, लेकिन पूरे चुनाव अभियान के दौरान बुनियादी मुद्दों पर तर्कसंगत चर्चा करने से सारे दल मुंह चुराते रहे। सूबे में पहली बार चुनाव मैदान में उतरी आम आदमी पार्टी ने एकदम नई पहल करते हुए कर्मचारियों, दलितों, किसानों, युवाओं के लिए अलग-अलग करीब आधा दर्जन घोषणापत्र जारी किए, जिनमें लुभावने वायदों की भरमार रही।

साल 2012 के विधानसभा चुनाव में सभी राजनीतिक दलों ने कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के मरीजों की संख्या में हो रही बढ़ोत्तरी को एक अहम मुद्दे के रूप में उभारा था, लेकिन इस बार चुनाव में यह मुद्दा परिदृश्य से ही ओझल रहा। पंजाब को सर्वाधिक मुख्यमंत्री देने वाले मालवा इलाके में राज्य विधानसभा की 69 सीटें आती हैं। इसी इलाके में कैंसर की सर्वाधिक मार पड़ी है। लेकिन इस बार सभी दलों ने इस मुद्दे के प्रति निष्ठुरता दिखाते हुए इसको जरा भी तरजीह नहीं दी।

Anil jain

एक सर्वेक्षण के मुताबिक पंजाब में बेरोजगार युवाओं की संख्या करीब 55 लाख है। सत्तारूढ़ अकाली दल-भाजपा गठबंधन ने जहां हर साल 20 लाख नौकरियां देने का वादा किया, वहीं एक दशक बाद फिर सत्ता में आने को आतुर कांग्रेस ने हर परिवार में एक व्यक्ति को नौकरी देने की बात कही। लेकिन दोनों ही दलों ने इस बात का खुलासा नहीं किया कि नौकरियां पैदा होंगीं कैसे।

सूबे में बीते एक दशक में 22 हजार उद्योग या तो बंद हो चुके हैं या फिर पलायन कर गए हैं। नए उद्योग कैसे लगेंगे, पूंजी निवेश कैसे होगा, इसका रास्ता किसी भी दल ने नहीं दिखाया।

कमोबेश पंजाब जैसी ही स्थिति पहाड़ी राज्य उत्तराखंड और तटीय राज्य गोवा में भी चुनाव के दौरान रही।

दोनों सूबे अपेक्षाकृत काफी छोटे हैं लेकिन दोनों की अपनी-अपनी बेहद जटिल समस्याएं हैं, लेकिन चुनाव अभियान के दौरान नारे, जुमले और आरोप-प्रत्यारोप के शोर में सारे बुनियादी मसले भुला दिए गए। जहां तक मणिपुर का सवाल है तो नगा और गैर-नगा समुदायों के बीच आए दिन हिंसक टकराव झेलने के लिए अभिशप्त इस सीमावर्ती सूबे की याद तो हमारे अखिल भारतीय कहे जाने राजनीतिक दलों को सिर्फ चुनाव के समय ही आती है कि वह भी भारत का कोई प्रदेश है।

अब बात करें उत्तर प्रदेश की।

आबादी के लिहाज से देश का सबसे बड़ा और सामाजिक-सांस्कृतिक विविधता से भरा होने के नाते उत्तर प्रदेश के चुनाव का बाकी राज्यों के चुनाव से कुछ अलग और ज्यादा महत्व है। इस विशाल सूबे के चुनाव पर न सिर्फ समूचे देश की बल्कि विभिन्न कारणों से भारत में दिलचस्पी रखने वाले दूसरे देशों की भी निगाहें लगी हुई हैं।

लगभग बीस करोड़ की आबादी वाले उत्तर प्रदेश में घनघोर आर्थिक विषमता, भ्रष्टाचार, स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार, खेती, कानून-व्यवस्था आदि से संबंधित गंभीर सवाल मुंह फाड़े खड़े हैं, लेकिन राजनीतिक दलों के चुनाव प्रचार में ये सारे सवाल सिरे से नदारद हैं। अगर कोई इनका जिक्र कर भी रहा है तो बेहद सतही अंदाज में। सभी दलों के स्टार प्रचारक अपनी रैलियों-सभाओं में आई या लाई गई भीड़ को अपनी लोकप्रियता का पैमाना मानकर गद्गद् हो रहे हैं। इस भीड़ को और अपने समर्थकों को गुदगुदाने और उनकी तालियां बटोरने के लिए अपने विरोधी दलों के नेताओं पर छिछले कटाक्ष करने और सोशल मीडिया में प्रचारित घटिया चुटकले सुनाने की उनमें होड़ लगी हुई है।

मुद्दों की चर्चा करने के नाम पर सारे नेता असंगत वायदे कर रहे हैं। केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा की ओर से उसके स्टार प्रचारक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह आतंकवादियों के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक को अपनी सरकार का सबसे बडा कारनामा बताकर वोट मांग रहे हैं। वे लोगों से इसलिए भी अपनी पार्टी को जिताने की अपील कर रहे हैं ताकि आने वाले समय में उनकी पार्टी को राज्यसभा में बहुमत हासिल हो जाए।

दूसरी ओर उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी के नेता नोटबंदी से पैदा हुई परेशानियों को गिनाकर अपने लिए वोट मांग रहे हैं। इसी मुद्दे को बहुजन समाज पार्टी की नेता मायावती भी जोरशोर से उठा रही हैं। हालांकि वे कानून व्यवस्था के मोर्चे पर राज्य सरकार को भी घेर रही हैं और इस संदर्भ में अपने शासनकाल की याद दिला रही हैं।

बहरहाल, कोई इन नेताओं से पूछने वाला नहीं है कि आखिर सर्जिकल स्ट्राइक से या राज्यसभा में केंद्र सरकार के बहुमत-अल्पमत की स्थिति से राज्यों की बदहाल स्वास्थ्य सेवा और शिक्षा व्यवस्था का क्या लेना देना है या नोटबंदी के चलते लोगों के सामने पेश आ रही मुश्किलों को विधानसभा का चुनाव जीतकर वे कैसे खत्म कर देंगे?

हैरान करने वाली बात तो यह भी है कि सभी शासकीय सेवकों, मंत्रियों और जजों के बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाने के इलाहाबाद हाई कोर्ट के डेढ़ साल पुराने उस क्रांतिकारी फैसले को लेकर कोई राजनीतिक दल सत्तारढ़ समाजवादी पार्टी से सवाल नहीं कर रहा हे कि यह फैसला अभी तक लागू क्यों नहीं हुआ।

कोई दल यह वादा भी नहीं कर रहा है कि वह सत्ता में आने पर इस फैसले पर अमल करेगा। इसे जनद्रोही राजनीति के अलावा और क्या कहा जा सकता है?

यह राजनीतिक दिवालिएपन की पराकाष्ठा और जनता को मूर्ख मान लेने की नासमझी नहीं तो और क्या है कि हेलीकॉप्टर से रोज उडकर सूबे के इस शहर से उस शहर में उतर रहे प्रधानमंत्री कह रहे हैं कि देखो फलां नेता के परिवार में इतनी कारें हैं जबकि मेरे पास अपनी एक कार भी नहीं है।

धर्म और जाति के आधार पर ध्रुवीकरण की कोशिश तो हर पार्टी, हर नेता और हर उम्मीदवार कर रहा है। मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए साड़ी, कंबल, शराब आदि बांटने जैसे पारंपरिक हथकंडे अभी भी प्रासंगिक बने हुए हैं। हालांकि इस समूची स्थिति के लिए सिर्फ राजनीतिक दलों को ही दोष नहीं दिया जा सकता, इसके लिए जनता भी बराबर की दोषी है।

राजनीतिक दल चुनावों में बुनियादी सवालों पर बात करे और अपने घोषणापत्र के प्रति पूरी तरह ईमानदार रहे, यह सुनिश्चित करने के लिए कोई कानूनी उपाय नहीं हो सकता, क्योंकि कानून बनाने वाले हर कानून में उससे बच निकलने की कोई न कोई गली छोड़ देते हैं। इसलिए इस बारे में पहल तो नागरिक समुदाय को ही करनी होगी।

नागरिक समुदाय जब तक भावनात्मक नारों और दलीय खांचों से बाहर आकर संगठित नहीं होगा तब तक वह इसी तरह छला जाता रहेगा।

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: