Home » lifestyle » जानिए पोस्टपार्टम डिप्रेशन की रोकथाम में परिवार के सदस्यों का क्या योगदान है?
Pregnant woman

जानिए पोस्टपार्टम डिप्रेशन की रोकथाम में परिवार के सदस्यों का क्या योगदान है?

प्रसवोत्तर अवसाद क्या है | What is postpartum depression?

प्रसवोत्तर अवसाद एक मूड विकार है जो प्रसव के बाद महिलाओं को प्रभावित कर सकता है। पोस्टपार्टम अवसाद के साथ माताएं अत्यधिक उदासी, चिंता, और थकावट की भावनाओं का अनुभव करती हैं जो उनके लिए या दूसरों के लिए दैनिक देखभाल गतिविधियों को पूरा करना मुश्किल बना सकता है।

Postpartum depression का क्या कारण है?

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ की एक फैक्ट शीट के मुताबिक प्रसवोत्तर अवसाद का कोई एक कारण नहीं है, लेकिन संभवतः शारीरिक और भावनात्मक कारकों के संयोजन से परिणाम से यह होता है। प्रसवोत्तर अवसाद इसलिए नहीं होता कि एक मां कुछ करती है और कुछ नहीं करती है।

प्रसव के उपरांत एक स्त्री में हार्मोन्स (एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन) का स्तर बहुत जल्दी गिरता है। इसके चलते उसके मस्तिष्क में कुछ रासायनिक परिवर्तन होते हैं, जो उसके मूड को परिवर्तित कर सकते हैं। इसके अलावा कई महिलाएं प्रसव के बाद पूर्णरुपेण आराम नहीं कर पातीं हैं, जिसके चलते निरंतर नींद में कमी, शारीरिक असुविधा और थकावट हो सकती है, जो बाद में अवसाद के लक्षणों को जन्म दे सकती है।

पोस्टपार्टम डिप्रेशन की रोकथाम में फेमिली मेंबर्स का क्या योगदान है?

Postpartum Depression Prevention

परिवार के सदस्य और मित्र एक नई  मां में पोस्टपार्टम डिप्रेशन के लक्षणों का पहचान करने वाले पहले व्यक्ति हो सकते हैं। वे मां को स्वास्थ्य कार्यकर्ता से बात करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं। उसे भावनात्मक समर्थन दे सकते हैं, साथ ही साथ उसे बच्चे के दैनिक कार्यों में सहायता करने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।)

यह समाचार भी पढ़ें

सावधान यदि आपको मधुमेह है, तो आप में अवसाद होने का खतरा अधिक है

डिप्रेशन/ अवसाद : हर साल आत्महत्या करके मर जाते हैं करीब 800000 लोग

क्या आप जानते हैं, हर छठे भारतीय को है मानसिक स्वास्थ्य सहायता की आवश्यकता

भारतीय सभ्यता में पागलपन डर या भय नहीं, उम्मीद पैदा करता है

बहुत अधिक चंचल और शरारती बच्चे अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) का शिकार हो सकते हैं

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 Know what family members contribute to the prevention of postpartum depression?

About हस्तक्षेप

Check Also

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

3 comments

  1. Pingback: डिप्रेशन के संकेत जानें और उपचार ढूंढें | HASTAKSHEP

  2. Pingback: डिप्रेशन/ अवसाद : हर साल आत्महत्या करके मर जाते हैं करीब 800000 लोग | HASTAKSHEP

  3. Pingback: सावधान यदि आपको मधुमेह है, तो आप में अवसाद होने का खतरा अधिक है | HASTAKSHEP

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: