Home » यह कैसा प्रधानमंत्री और कैसी सरकार ! भारत के चैनलों पर पागलों का कब्जा हो गया है !

यह कैसा प्रधानमंत्री और कैसी सरकार ! भारत के चैनलों पर पागलों का कब्जा हो गया है !

पुलवामा के हमले (Pulwama attack) के बाद लगभग चार घंटे तक नरेन्द्र मोदी कॉर्बेट पार्क में (Narendra Modi at Corbett Park) सिनेमाघर अंदाज में, रंग-बिरंगी अलग-अलग पोशाकों में शूटिंग (Shooting) करते रहे। चार घंटे बाद बोले कि इस हमले के लिये पाकिस्तान को बख्शा नहीं जाएगा (Pakistan will not be spared)।

इसके दो दिन बाद ही प्रधानमंत्री की बदले की सिनेमाई कार्रवाइयाँ शुरू हो गई। सिनेमाई, मतलब ऐसी कार्रवाइयाँ जो सिर्फ कोरे प्रचार के मतलब की है। उनका पाकिस्तान पर कोई वास्तविक असर नहीं पड़ता है।

मोदी सरकार ने पहला कदम उठाया – पाकिस्तान को एमएफएन ( मोस्ट फेवर्ड नेशनMost favored nation) का दर्जा खत्म कर दिया। पाकिस्तान को एमएनएफ का दर्जा क्रमश: भारतीय उपमहादेश (indian subcontinent) को मुक्त व्यापार के क्षेत्र में तब्दील करने की भारत की कूटनीतिक मुहिम का हिस्सा था। इसे खत्म करके भारत ने इस क्षेत्र में अपनी गतिविधियों के ही कूटनीतिक औजारों को कम किया है। और कुछ नहीं। पाकिस्तान का इससे रत्ती भर भी बिगाड़ नहीं हुआ है ।

अब सारे झूठे चैनल चीख रहे हैं कि भारत ने अपनी तीन नदियों के पानी को पाकिस्तान जाने से रोक दिया। चैनलों ने यहां तक कहना शुरू कर दिया है कि पानी रुक जाने से पाकिस्तान में त्राहिमाम शुरू हो गया है।

बाद में पता चला कि नितिन गडकरी ने ऐसा करने की धमकी दी है और कहा है कि वे इन नदियों पर बांध बना कर इनका पानी यमुना की ओर मोड़ देंगे। मतलब न नौ मन तेल होगा, न राधा नाचेगी। कब बांध बनेगा और कब पाकिस्तान में पानी का प्रवाह बंद होगा ! यह अगले पचीस साल में भी हो पायेगा या नहीं, कोई नहीं जानता। लेकिन भारत के महान चैनलों की माने को अभी से पाकिस्तान में ‘त्राहिमाम’ शुरू हो चुका है।

मोदी ने ऐसा ही एक दूसरा करिश्मा किया है अजहर मसूद के बारे में। चैनलों के अनुसार इस अटैक के बाद ‘मसूद अब मरेगा, वह नहीं बचेगा’।

बाद में बताया गया कि अजहर मसूद पर भारत का यह अटैक है —‘एफआईआर अटैक’। भारत का एफआईआर का ब्रह्मास्त्र अचूक है, इसीलिये ‘अजहर तो मरेगा ही’ !

यह सब सुन कर क्या सचमुच आपको नहीं लगता कि भारत के चैनलों पर पागलों का कब्जा हो गया है !

राजनीति के प्रमादग्रस्त लोगों का एक विचित्र समूह है भाजपा

यह सच है कि भाजपा भारतीय राजनीति के क्षेत्र के प्रमादग्रस्त लोगों का एक विचित्र समूह है। प्रमाद में आदमी की पितृ-ग्रंथी लुप्त हो जाती है। फ्रायड ने बताया है कि पागलपन का पहला लक्षण पिता के बोध का अवलोप है। आधुनिक भारतीय राजनीति का मूल स्रोत भारत का स्वतंत्रता संग्राम है और आरएसएस उसी के अवबोध से पूरी तरह से कटे हुए पागलों का जमावड़ा है।

दुर्भाग्य से यह उन्मादित तत्वों का समूह अभी सत्ता के शीर्ष पर बैठ गया है और वह जिस प्रकार की तबाहियों और बर्बादियों का कारण बन सकता है, वही विगत पांच सालों में हम सब को देखने को मिला है।

मोदी ने अपनी शासन यात्रा का प्रारंभ लेखकों-बुद्धिजीवियों की हत्याओं से लेकर सारे मीडिया को अपनी मुट्ठी में कसने और ट्रौल्स का आनलाईन गुंडा वाहिनी से मां-बहन की भयंकर गालियों का राजनीतिक औजारों के रूपमें प्रयोग से किया था और आज तक भी वह सिर्फ और सिर्फ तमाम दमनकारी कामों को ही शासन का पर्याय मान कर चल रहा है।

सीआरपीएफ के डीआईजी एम डी दीनाकरण ने इस बात पर गहरी चिंता जाहिर की है कि कुछ हलकों से सीआरपीएफ के जवानों के शवों की छवियों को अजीब ढंग से विकृत करके प्रचारित किया जा रहा है ताकि देश में सांप्रदायिक उत्तेजना फैल सके।

डीआईजी ने जवानों की शहादत पर अपनी राजनीतिक गोटियां लाल करने वालों की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा है कि इन जवानों ने किसी के राजनीतिक हितों को साधने के लिये अपने प्राण नहीं दिये हैं।

मोदी शायद नहीं जानते कि सेना, पुलिस, खुफिया एजेंसियों को देश की राजनीति के मोहरें बनाना देश की सुरक्षा के साथ एक खतरनाक खेल है।

विपक्ष पुलवामा के संदर्भ में एकजुट राष्ट्र की भावना की बात कर रहा था और मोदी इसपर चुनावी भाषणबाजी में रम गये। चुनाव-केंद्रित होने के कारण भाजपाई अंध-राष्ट्रवादी प्रचार में लेश मात्र भी ईमानदारी नहीं है। मोदी का ताबड़तोड़ अभियान इसके पीछे की उनकी कामना को पूरी तरह से बेपर्द कर दे रहा है। इसीलिये इसका मुंह के बल गिरना अवधारित है।

मोदी नहीं जानते कि लोगों के अवचेतन में उनके झूठ के बारे में बन चुकी अवधारणा लोगों को अब कुछ और ही सुना रही है। मोदी बदहवासी में लोगों की इस अवचेतन की भाषा के प्रति बेपरवाह हो गये हैं। इस बार उन्हें करारी चपत लगना तय है।

अरुण माहेश्वरी

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

<iframe width="300" height="506" src="https://www.youtube.com/embed/Psjl2s9WdpA" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>

 

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *