Home » समाचार » अर्णब गोस्वामी को राजदीप सरदेसाई ने बताया फेंकू, कहा- अपने काम पर शर्म आती है

अर्णब गोस्वामी को राजदीप सरदेसाई ने बताया फेंकू, कहा- अपने काम पर शर्म आती है

नई दिल्ली। वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने रिपबिलिक टीवी के संपादक अर्णब गोस्वामी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। अर्णब गोस्वामी का एक पुराना वीडियो शेयर करते हुए राजदीप ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर लिखा,

‘वाह, मेरे दोस्त अर्णब दावा कर रहे हैं कि गुजरात दंगों के दौरान मुख्यमंत्री निवास के पास उनकी गाड़ी पर हमला हुआ था, सच यह है कि वह अहमदाबाद में हुए दंगों को कवर कर ही नहीं रहे थे।’

राजदीप ने आगे कहा कि अर्णब गोस्वामी ने वीडियो में जिस घटना का जिक्र किया है वह है तो सच्ची लेकिन उस जगह पर वह (राजदीप) और उनके कुछ साथी मौजूद थे अर्णब नहीं। यहां राजदीप ने सबूत के तौर पर अपनी किताब पढ़ने के लिए भी कहा। अगले ट्वीट में राजदीप ने लिखा फेंकूगिरी की भी कोई लिमिट होती है, लेकिन इस वीडियो को देखने के बाद मैं अपने काम को लेकर शर्मिंदा हूं।

राजदीप ने जिस वीडियो को शेयर किया है वह काफी पुराना लग रहा है। वीडियो में अर्णब गोस्वामी किसी सभा को संबोधित करते हुए किसी दंगे का जिक्र कर रहे हैं। वीडियो में अर्णब कहते सुने जा रहे हैं कि लोग त्रिशूल से उनकी गाड़ियों के शीशे तोड़ रहे थे और पूछ रहे थे कि वे किस धर्म के हैं?

इस वीडियो को Kamal Rajbangshi के एकाउंट से यू ट्यूब पर 5 Aug 2016 को अपलोड किया गया है। यह समाचार लिखे जाने तक इस वीडियो को 8247 व्यूज़ मिले हैं।

वीडियो में अर्णब कहते हैं ड्राइवर को छोड़कर हम सबके पास आईकार्ड था। ड्राइवर डर गया। फिर उसने अपने हाथ पर बना टैटू दिखाया जिसके बाद उनकी गाड़ी को जाने दिया गया। राजदीप सरदेसाई के मुताबिक, यह वीडियो असम का है, जब कांग्रेस सत्ता में थी। राजदीप के मुताबिक, अर्णब गुजरात दंगों का ही जिक्र कर रहे थे।

बाद में राजदीप सरदेसाई ने कुछ अन्य पत्रकारों के ट्वीट्स को रिट्वीट किया जिनमें तस्दीक की गई है कि अर्णब गोस्वामी गुजरात दंगों की रिपोर्टिंग नहीं कर रहे थे और घटना सच्ची है पर ये घटना राजदीप सरदेसाई के साथ हुई।

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Wow! My friend Arnab claims his car attacked next to CM Res in Guj riots! Truth:he wasn&#39;t covering Ahmedabad riots!! <a href="https://t.co/xOe7zY8rCp">https://t.co/xOe7zY8rCp</a></p>&mdash; Rajdeep Sardesai (@sardesairajdeep) <a href="https://twitter.com/sardesairajdeep/status/909973725226905600">September 19, 2017</a></blockquote>

<script async src="//platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Fekugiri has its limits, but seeing this, I feel sorry for my profession. <a href="https://t.co/xOe7zY8rCp">https://t.co/xOe7zY8rCp</a></p>&mdash; Rajdeep Sardesai (@sardesairajdeep) <a href="https://twitter.com/sardesairajdeep/status/909976769742229504">September 19, 2017</a></blockquote>

<script async src="//platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Am told Arnab speech on Guj riots made to an audience in Assam when Cong in power! Am I surprised? Post truth society mein sab chalta hai!</p>&mdash; Rajdeep Sardesai (@sardesairajdeep) <a href="https://twitter.com/sardesairajdeep/status/909976603702243328">September 19, 2017</a></blockquote>

<script async src="//platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Incident was in Gandhinagar Sarkhej highway, few kilometres away from Cm residence. <a href="https://t.co/38AmVPeP3j">https://t.co/38AmVPeP3j</a></p>&mdash; Rajdeep Sardesai (@sardesairajdeep) <a href="https://twitter.com/sardesairajdeep/status/909982140036763648">September 19, 2017</a></blockquote>

<script async src="//platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Thank you Sanjeev. Since you were <a href="https://twitter.com/ndtv">@ndtv</a> correspondent in Ahmedabad at the time for setting the record straight also. <a href="https://t.co/Th4q7fOoWG">https://t.co/Th4q7fOoWG</a></p>&mdash; Rajdeep Sardesai (@sardesairajdeep) <a href="https://twitter.com/sardesairajdeep/status/910020776543342593">September 19, 2017</a></blockquote>

<script async src="//platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Reconfirmed by another of our correspondents on the ground. Time to set the record straight and call out impostors. <a href="https://t.co/TKvaPKvuhx">https://t.co/TKvaPKvuhx</a></p>&mdash; Rajdeep Sardesai (@sardesairajdeep) <a href="https://twitter.com/sardesairajdeep/status/910021022656663552">September 19, 2017</a></blockquote>

<script async src="//platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

<iframe width="640" height="360" src="https://www.youtube.com/embed/YsHvaZGMeF8" frameborder="0" allowfullscreen></iframe>

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: