Home » Right to work must be included in the Fundamental Rigts of Constitution-Akhilendra

Right to work must be included in the Fundamental Rigts of Constitution-Akhilendra

· Corporate politics must be exposed and defeated-Dr. Prem Singh
· Dr.Prem Singh, General Secretary, Socialist Party sits on one day fast in support of Akhilendra` s fast
· Government insensitive, doctors team does not attend the fasting leader even on third day.
 New Delhi, Feb. 9, 2014 : Right to work must be made Fundamental Right in he Constitution. Addressing the meeting at protest venue, Akhilendra Pratap Singh, National Convener, All India Peoples Front, said that a powerful movement would be launched for this most vital agenda of the younger generation and it would be made a major issue of the coming Loksabha elections. He appealed to democratic forces, student-youth organizations and youh at large to join movement for right to work in a big number.
Today, Dr. Prem Singh, General Secretary of Socialist Party, too sat on one day fast in support of Akhilendra ji. Gandhian leader Ram Dheeraj also visited the fast venue wih his colleagues and tendered their support to the struggle. Speakers also expressed solidarity with the struggling guest teachers of Haryana and contract workers of Aids Programme for their regularization. Strong resentment was expressed that no doctor has attended the fasting leader so far and there has been no medical test so far.
Prof. Dipak Malik, economist and Director Gandhian Institute, Varanasi, Socialist Party leader Shyam Gambeer, Dhirendra Tiwari, Babita From JNU and others also addressed dharna .

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: