Home » क्या रामचंद्र गुहा कांग्रेस को दंगाई पार्टी समझते हैं ! लेकिन दंगों में तो शामिल थे संघी-भाजपाई, देखें सुबूत

क्या रामचंद्र गुहा कांग्रेस को दंगाई पार्टी समझते हैं ! लेकिन दंगों में तो शामिल थे संघी-भाजपाई, देखें सुबूत

क्या रामचंद्र गुहा कांग्रेस को दंगाई पार्टी समझते हैं ! लेकिन दंगों में तो शामिल थे संघी-भाजपाई, देखें सुबूत

Sikh riots BJP Names figure in records Hindustan Times February 02, 2002

अरुण माहेश्वरी

कुछ लोग अपनी जानकारी के बल पर 1984 के बारे में लंदन में कही गयी राहुल की बातों को काटने के लिये मचल उठे हैं। इनमें इतिहासकार रामचंद्र गुहा भी शामिल हैं।

इस बारे में हम यही कहेंगे कि उनकी जानकारी उतनी ही है जितनी दूर तक तब उनकी नजर पड़ी थी। अन्य तथ्य दूसरी सचाई भी बयान करते हैं। यह भी विचार का एक पहलू है कि सिख-विरोधी दंगों के बारे में जो एफआईआर लिखाये गये उनमें बड़ी संख्या में भाजपा के लोगों के भी नाम थे।

इस विषय पर श्री ओम थानवी ने हमें तब के ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ की एक क्लिपिंग भेजी है। हिंदुस्तान टाइम्स (2-2-2002) की इस क्लिपिंग से जहां यह पता चलता है कि कांग्रेस के कुछ नेता इन दंगों में शामिल पाये गये थे, वही यह भी जाहिर होता है चौरासी के दंगों में भाजपा और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के भी कई कार्यकर्ता शरीक थे। खालिस्तान नाम से अलग सिख देश बनाने की माँग से ये लोग पहले से क्रुद्ध थे।

ओम थानवी जी ने यह भी बताया है कि “दंगों में आहत-हताहत मामलों की गवाहियों की जाँच के लिए दिल्ली शासन ने जस्टिस जैन-अग्रवाल की एक समिति गठित की थी। उस समिति (जिसकी रिपोर्ट कुछ साल पहले दिल्ली सरकार से मैंने किसी तरह जुटाई थी) की अनुशंसा पर भाजपा और संघ के 49 कार्यकर्ताओं के ख़िलाफ़ 14 मुक़दमे दर्ज किए गए। ज़्यादातर मुक़दमे श्रीनिवासपुरी थाने में दर्ज हुए।

दंगों के सिलसिले में गिरफ़्तार भाजपा-संघ के अनेक कार्यकर्ताओं के नाम उक्त ख़बर में मिलेंगे। …हाल में चल बसे अटलबिहारी वाजपेयी के एक चुनाव-एजेंट रामकुमार जैन का नाम भी एक एफआइआर (FIR 312/15 dt. 18.6.1992) में था।

ओम जी लिखते हैं कि “कहने का मतलब यह कि चौरासी के दंगे मूलतः हिंदू-सिख हिंसा थे। उसमें कांग्रेस के कार्यकर्ता तो शामिल थे ही, भाजपा-संघ के भी जुट गए थे। वहशी दौर था।”

इस विषय में हम राहुल गांधी से पूरी तरह सहमत होते हुए यह और जोड़ना चाहेंगे कि कांग्रेस पार्टी की विचारधारा या कार्यपद्धति में दंगा नाम की चीज का कोई स्थान नहीं है, जबकि इसके विपरीत आरएसएस दंगों को, भारत में मुस्लिम बस्तियों को उजाड़ना अपना पवित्र कर्त्तव्य मानता है। उसके नेताओं ने लिखा है कि भारत में मुस्लिम बस्तियां मिनी पाकिस्तान हैं और पाकिस्तान अब तक भी कोई तयशुदा मामला नहीं है।

इसलिये यह कहना पूरी तरह से सही नहीं है कि कोई भी पार्टी आदेश जारी करके दंगों में शामिल नहीं होती है। आरएसएस और उसके दूसरे संगठन बाकायदा निर्णय लेकर दंगों में शामिल होते रहे हैं। 2002 का गुजरात दंगा तो इसका सबसे बड़ा प्रमाण है। आरएसएस वालों की सैद्धांतिक दीक्षा में यह सब शामिल है। आरएसएस पर मेरी किताब में इस बारे में उनके नेताओं के महान वचनों को बाकायदा उद्धृत किया गया है।

इसीलिये राहुल गांधी का यह कहना सही है कि कांग्रेस पार्टी ने निर्णय लेकर 1984 का दंगा नहीं कराया था जैसा कि संघ परिवार वाले अक्सर किया करते हैं।

<iframe width="950" height="534" src="https://www.youtube.com/embed/f6kxpdsAoRw" frameborder="0" allow="autoplay; encrypted-media" allowfullscreen></iframe>

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *