Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » राजीव गांधी : एक ऐसा प्रधानमंत्री जिसके पास सपना था, दूरगामी योजना थी, जुमले नहीं थे
Rajiv Gandhi

राजीव गांधी : एक ऐसा प्रधानमंत्री जिसके पास सपना था, दूरगामी योजना थी, जुमले नहीं थे

राजीव गांधी : एक ऐसा प्रधानमंत्री जिसके पास सपना था, दूरगामी योजना थी, जुमले नहीं थे

पंकज चतुर्वेदी

वो लौट कर घर ना आए।

वे घर से निकले थे मुस्‍कुराते हुए और शाम होते-होते महज कुछ चीथड़े घर आए, कोई निजी दुश्‍मनी नहीं थी, था तो बस मुल्‍क की नीतियों पर विवाद।

यह तथ्‍य सामने आ चुका है कि तमिल समया को ले कर वेलुपल्‍ली प्रभाकरण जब दिल्‍ली आया तो राजीव गांधी ने उससे सशस्‍त्र संघर्ष, तमिल शरणार्थियों के भारत में प्रवेश जैसे मसले पर करार चाहा, जिसे उसने इंकार कर दिया था। राजीव गांधी को यह बात पसंद आई नहीं और उन्‍होंने उसे दिल्‍ली के पांच सितारा होटल में कमरे में बंदी बना लिया था, उसे तभी छोडा गया जब वह भारत सरकार की शर्ते मानने को राजी हुआ, हालांकि वह एक धोखा था बस कैद से निकलने का।

भारत में भी कई शक्तियां काम कर रही थी, किसी ”छद्म” को कुर्सी तक लाने की उसमें कुछ संत थे, कुछ गुरू घंटाल थे और फिर 21 मई को दुनिया के सबसे दर्दनाक हमले में एक ऐसा व्‍यक्ति मारा गया जिसके द्वारा दी गई देश की दिशा से आज भारत की ख्‍याति दुनिया भर में है। भले ही किसी को भारतीय होने पर शर्म आती हो, लेकिन कंप्‍यूटर, जल मिशन जैसी कई ऐसी योजनाएं हैं जिसने आज भारत का झंडा दुनिया में गाड़ा है। उस समय लोगों ने बाकायदा संसद में कंप्‍यूटर के विरोध में प्रदर्शन भी किए थे।

सियासती जुमलों से अलग, मुझे राजीव गांधी का कार्यकाल देश के विकास का बड़ा मोड़ महसूस हुआ, एक ऐसा प्रधानमंत्री जिसके पास सपना था, दूरगामी योजना थी, जुमले नहीं थे, अब आप चर्चा कर सकते हैं उनकी मंडली की, गलत फैसलों की, लेकिन इस बात को नहीं भूलना कि जो मुल्‍क अपने शहीदों को सम्‍मान नहीं देता, उसके भविष्‍य में कई दिक्‍कतें आती हैं।

देखें राजीव गांधी के कुछ फोटो व शाम को उनके घर क्‍या पहुंचा और आज वहां क्‍या है, क्‍या किसी नारेबाज ने अपने घर ऐसी शहादत होते देखा है ? यह फोटो शॉप का कमाल नहीं है। जरा देखें एक इंसान सुबह कैसे घर से निकला था और रात में वह किस आकार में लौटा.

Rajiv Gandhi Sonia Gandhi

उन दिनों राजीव जी कांग्रेस के महासचिव थे, मैं ”जागरण, झांसी” के लिए रिपोर्टिंग करता था। उनके बुंदेलखंड दौरे पर तीन दिन साथ रहा था। जागरण में पहली बार किसी का पहले पेज पर आठ कालम में बैनर मय नाम के छपा था। उस दौरान मैंने राजीव जी को काम करते, लोगों से जानकारी लेते, बात करते देखा था, बेहद निश्‍चल और कुछ नया करने के लिए लालायित रहते थे, जरूरी नहीं कि हर व्‍यक्ति हर मसले पर पारंगत हो, लेकिन उसमें सीखने की उत्‍कंठा होना चाहिए, वह राजी वजी में थी।

पंकज चतुर्वेदी वरिष्ठ पत्रकार हैं।

About हस्तक्षेप

Check Also

Ajit Pawar after oath as Deputy CM

जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है फासीवाद, महाराष्ट्र ने साबित किया

जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है फासीवाद, महाराष्ट्र ने साबित …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: