Home » बड़े पुलिस अधिकारी का दर्द : नफ़रत की खेती जब लगातार होगी तो एक सुबोध सिंह नही रहेगा हम सभी ‘सुबोध’ हो जाएंगे!

बड़े पुलिस अधिकारी का दर्द : नफ़रत की खेती जब लगातार होगी तो एक सुबोध सिंह नही रहेगा हम सभी ‘सुबोध’ हो जाएंगे!

बड़े पुलिस अधिकारी बोले, “नफ़रत की खेती जब लगातार होगी तो बीज वृक्ष बनेगा ही तब कोई एक सुबोध सिंह नही रहेगा हम सभी 'सुबोध' हो जाएंगे!”

लखनऊ, 05 दिसंबर। बुलंदशहर में विहिप-बजरंगदल-भाजपा के गुंडों द्वारा पुलिस इंस्पैक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या पर अब पुलिस महकमे में भी विचार चिंतन शुरू हो गया है। उत्तर प्रदेश पुलिस में पुलिस उप अधीक्षक पद (Deputy Superintendent of Police at Uttar Pradesh Police) पर तैनात अभिषेक प्रकाश सोशल मीडिया पर भी काफी सक्रिय रहते हैं। अपनी टाइमलाइन पर वह डिस्क्लेमर लगा कर रखते हैं – “जो भी लिखता हूं व्यक्ति और नागरिक की हैसियत से। बाकि लोकतंत्र ज़िन्दाबाघ!” अभिषेक प्रकाश एफबी पर लिखते हैं -“नफ़रत की खेती जब लगातार होगी तो बीज वृक्ष बनेगा ही तब कोई एक सुबोध सिंह नही रहेगा हम सभी 'सुबोध' हो जाएंगे!”

हालाँकि प्रकाश ने अपनी व्यक्तिगत टाइमलाइन पर लिखा है, लेकिन उनका लिखे का मर्म पुलिस महकमे का दर्द भी बयाँ करता है।

अभिषेक प्रकाश लिखते हैं –

“संविधान की आत्मा ऐसे ही नही मरेगी उसके लिए सामूहिक प्रयास की आवश्यकता है! और उसके लिए जरूरी है कि एक ऐसी ही भीड़, ऐसा ही उन्माद और ऐसे ही सोच के बीज बो दिया जाए जो धीरे धीरे संविधान की हत्या स्वयं कर देगी!

और इसी कड़ी में सुबोध सिंह के हत्या को देेेखा जाना चाहिए।खैर सुबोध सिंह कोई एक्टिविस्ट कोई राजनेता कोई कलाकार,पत्रकार या उद्यमी नही थे जिनके लिए कोई हाय तौबा मचे ! वह इंसान एक पुलिसकर्मी था और मैं जानता हूं कि सभी बड़े-महान लोगो की नज़र में पुलिस वाला चोर,बेईमान,राजनेताओं के तलुवे चाटने वाला ही होता है!

खैर पुलिस की नियति ही यही है।पुलिसकर्मी अपनी कमजोरी के साथ साथ दूसरे विभाग की नाकामियों के बोझ को भी अपने कंधे पर ढोती है।पुलिस सभी के आशाओं को कंधा देती है और इसीलिए अपने कंधे तुड़वा बैठती है।

आजकल पुलिस के इक़बाल की बातें बहुत हो रही हैं।मैं भी मानता हूं कि पुलिस का इक़बाल कम हुआ है लेकिन मुझे ये भी बता दीजिए कि इतने कम संसाधनों और राजनीतिक दबाव के बीच किस संस्था का इक़बाल इस देश मे मजबूत हुआ है!चाहे शिक्षण संस्थान हो पत्रकारिता, मेडिकल, विधायिका हो या अन्य कोई भी संस्थान सभी अपने उद्देश्य को पूरा करने मे असफल ही साबित हो रहे हैं।

लेकिन जो महत्वपूर्ण बात है वो यह है कि पुलिस को जहां डील करना होता है उस कार्य की प्रकृति कुछ ज्यादा ही गंभीर होती है,जिसकी परिणति सुबोध सिंह के रूप में भी होती है।अन्य कौन सा विभाग है जहां के प्रोफेशनल को इस तरह अपनी जान गंवाना पड़ता है!

सुबोध सिंह को मारने के पीछे जो भी योजना रही हो लेकिन इस तरह की घटनाएं हमारे समय का इतिहास लिख रही है जो आगे चलकर हमारे देश के भूगोल को बदलने का माद्दा रखती है! जो गंभीर नही हैं वह देश के आंतरिक विभाजन को गौर से देख ले कि कौन कहाँ किसके साथ और क्यों रह रहा है!

खैर हम पुलिसवाले हैं जो वर्दी पहन लेने के बाद ठुल्ला, चोर-बेईमान, और तलवे चाटने वाले हो जाते हैं।लेकिन हम हमेशा ऐसे ही नही रहेंगे उसके लिए सामान्य मानस को आगे आना होगा,उसके लिए मंदिर-मस्जिद निर्माण से ज्यादा पुलिस सुधार की बाते करनी होगी! पुलिस ही नही हमारे तथाकथित आकाओं(कुछ लोगों के हिसाब से) से प्रश्न करना होगा कि पुलिस रिफॉर्म को क्यों नही आगे बढ़ाया जा रहा!

मैं सलाम करता हूं अभिषेक को जो अपने पिता के मरने के बाद भी हिंसा व नफरत की भाषा को नही फैला रहा। सच कहूं तो तस्वीर में भी उससे नज़र नही मिला पा रहा! पुलिस एक परिवार है और अभिषेक जैसे सभी हमारे अपने हैं।

खैर बुलंदशहर की भयावहता को मैं केवल थोड़ी बहुत ही कल्पना में उतार पा रहा हूं क्योंकि इस तरह की एक घटना मेरे क्षेत्र में भी घटित हुई थी,जब एक गाय को काट कर फेंक दिया गया था! उस समय भीड़ की मानसिकता क्या होती है इसका अंश भर अंदाजा हमें है, लेकिन यह भी सच है कि जिस भीड़ का सामना मैंने किया उसमे नफरत का स्पेस इतना नही था!

लेकिन नफ़रत की खेती जब लगातार होगी तो बीज वृक्ष बनेगा ही तब कोई एक सुबोध सिंह नही रहेगा हम सभी 'सुबोध' हो जाएंगे! हो सकता है कि कोई गोली हमारी भी इन्तज़ार कर रही हो!”

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

<iframe width="1347" height="489" src="https://www.youtube.com/embed/HqTLqhrqBsA" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>

 

<iframe src="https://www.facebook.com/plugins/post.php?href=https%3A%2F%2Fwww.facebook.com%2Fabhishek.prakash.33633%2Fposts%2F1489229021220768&width=500" width="500" height="270" style="border:none;overflow:hidden" scrolling="no" frameborder="0" allowTransparency="true" allow="encrypted-media"></iframe>

About हस्तक्षेप

Check Also

Amit Shah Narendtra Modi

तो नाकारा विपक्ष को भूलकर तैयार करना होगा नया नेतृत्व

तो नाकारा विपक्ष को भूलकर तैयार करना होगा नया नेतृत्व नई दिल्ली। कुछ भी हो …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: