Home » समाचार » अर्णब गोस्वामी को बड़ा झटका, रिपब्लिक टीवी की गौरी लंकेश रिपोर्टिंग में शर्मनाक भूमिका पर पत्रकार ने इस्तीफा दिया
media

अर्णब गोस्वामी को बड़ा झटका, रिपब्लिक टीवी की गौरी लंकेश रिपोर्टिंग में शर्मनाक भूमिका पर पत्रकार ने इस्तीफा दिया

दक्षिणपंथी ताकतों और संघ-भाजपा की ओर से बैटिंग कर रहे रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्णब गोस्वामी को बड़ा झटका लगा है। टीवी की पत्रकार सुमना नंदी ने गौरी लंकेश हत्या मामले में रिपब्लिक टीवी की शर्मनाक रिपोर्टिंग के विरोध में त्यागपत्र दे दिया है।

उन्होंने सवाल किया है कि भाजपा-आरएसएस कार्यकर्ताओं से मौत की धमकी मिलने के बाद एक पत्रकार की हत्या कर दी गई और इन हत्यारों की पूछताछ के बजाय, आप विपक्ष से सवाल करते हैं? अखंडता कहां है? हम कहाँ जा रहे हैं? 

उन्होंने फेसबुक पोस्ट लिखकर सवाल उठाए हैं। उनकी फेसबुक पोस्ट निम्नवत् है – Sumana Nandy

September 6 at 7:16pm · 

Description: https://www.facebook.com/rsrc.php/v3/yv/r/_Y91QzmaslR.png

I have always been proud of the organisations I have worked with in my extremely small career in journalism. But today I am ashamed! An ‘independent’ news organisation is now batting for a rogue government. And openly so.

A journalist is murdered in cold blood days after receiving death threats from the BJP-RSS cadres. And instead of questioning these murderers, you question the opposition? Where is the integrity? Where are we heading? Some ‘journalists’ are even celebrating the massacre (that she brought it on herself.) Well, yes! This is what happens in Saudi Arabia and North Korea. We are just a few more deaths away from catching up with these countries.

If the fourth pillar sells its soul, where will the society go?

We have failed you, ma’am. All I know, you are probably in a much much better place.

P.S.: For whatever it is worth and whatever significance it has, I have decided to not put Republic TV as one of my employers on my CV and on social media. I regret my association with this rogue organisation.

#GauriLankesh

Sumana Nandy quits Arnab Goswami’s Republic TV over differences in Gauri Lankesh’s murder coverage.

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: