Home » Tag Archives: अधिनायकवाद

Tag Archives: अधिनायकवाद

अधिनायकवाद क्या है,What is totalitarianism,Authoritarianism (अधिनायकवाद), अधिनायक तंत्र के प्रमुख लक्षण,भारत का तानाशाह कौन है.

#AyodhyaVerdict : मायूस होने की जगह चीजों को समझने और आगे बढ़ने की जरूरत है

Babri Masjid. (File Photo: IANS)

#AyodhyaVerdict : मायूस होने की जगह चीजों को समझने और आगे बढ़ने की जरूरत है 9 नवम्बर 2019 को बाबरी मस्जिद-राम मंदिर विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ गया है। सरल लोगों की उम्मीद के विपरीत जो यह समझते थे कि राजनीतिक राम का विवाद समाप्त हुआ, अब आगे बढ़ने की जरूरत है लेकिन केरल जैसे राज्य में सुप्रीम …

Read More »

राहुल ने मोदी से पूछा, क्या देश सिर्फ 15 लोगों के लिए ही है, जिन्हें 1,25,000 लाख करोड़ रुपये का कर लाभ मिला है

Rahul Gandhi

राहुल का मोदी पर हमला, अधिनायकवादी राज्य की ओर बढ़ रहा देश, मीडिया को कुचला जा रहा नई दिल्ली, 5 अक्तूबर। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Former Congress President Rahul Gandhi) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा कि देश और दुनिया में सभी को पता है कि भारत में क्या हो रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स …

Read More »

मैं शिक्षक क्यों बना? क्योंकि क्रांति चौराहे पर नहीं थी

Ish Mishra - a Marxist; authentic atheist; practicing feminist; conscientious teacher and honest, ordinary individual, technical illegalities apart.

‘शिक्षक-दिवस‘ की एक फेसबुक पोस्ट (A Facebook post of ‘Teacher’s Day’) पर चर्चाओं का निष्कर्ष यह था कि शिक्षक होना कम लोगों की पहली वरीयता नहीं होती। 20-21 साल में मैंने नौकरी की अपनी प्राथमिकता तय कर लिया था। मैं हमेशा शिक्षक ही बनना चाहता था। दूसरे वरीयता-क्रम कोई नौकरी नहीं थी। शिक्षक की नौकरी की तलाश करते हुए पत्रकारिता …

Read More »

कमियों के बावजूद संसदीय लोकतांत्रिक व्यवस्था का विकल्प तानाशाही नहीं : अखिलेन्द्र

Akhilendra Pratap Singh अखिलेंद्र प्रताप सिंह राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य स्वराज अभियान

बहुजन राजनीति की दशा व दिशा पर सकलडीहा में विचार गोष्ठी सम्पन्न … Seminar held in Sakaldiha on the condition and direction of Bahujan politics सकलडीहा (उत्तर प्रदेश) 27 अगस्त। संसदीय लोकतांत्रिक व्यवस्था (Parliamentary democratic system) के अन्दर जो भी कमजोरी हो लेकिन इसका विकल्प अधिनायकवाद नहीं है। उक्त बातें सकलडीहा में “बहुजन राजनीति की दशा व दिशा” पर युवा …

Read More »

आजादी के आंदोलन का धुर विरोधी रहा है आरएसएस, केंद्र सरकार का 370 पर कदम आतंकवाद को बढ़ायेगा ही : अखिलेंद्र

Akhilendra Pratap Singh अखिलेंद्र प्रताप सिंह राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य स्वराज अभियान

जम्मू कश्मीर राज्य के पुनर्गठन और उसके विशेष राज्य के दर्जे को समाप्त किए जाने के संदर्भ में दो बातें :Two things in the context of the reorganization of the state of Jammu and Kashmir and the abolition of its special state status राष्ट्रपति ने संसद द्वारा पारित जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल (J&K Reorganization Bill passed by Parliament) और उसे मिले …

Read More »

जातिवादी राजनीति और हिंदुत्व की राजनीति कारपोरेट वित्तीय पूंजी के उपकरण

India news in Hindi

लखनऊ, 14 जुलाई 2019. आगामी अगस्त के अंतिम सप्ताह में स्वराज इंडिया व जन मंच के बैनर पर लखनऊ में एक सेमिनार सह सम्मेलन आयोजित किया जायेगा, जिसे बाद में प्रदेश के अन्य जिलों में आयोजित जायेगा। यह निर्णय बीती 10-11 जुलाई 2019 को लखनऊ की बैठक में हुआ। बैठक में वक्ताओं ने कहा कि विश्वसनीय विपक्ष का अभाव, कारपोरेट …

Read More »

भारत में लोकतंत्र का भविष्य

opinion, debate

जनता के द्वारा, जनता के लिये, जनता की सरकार के लोकतंत्र का अथवा उस लोकतंत्र का जो ज़िंदा तो रहेगा लेकिन अधिनायकवाद के नीचे घुटी घुटी साँसे लेते हुए। जिसमें वोट देने का अधिअकार तो होगा, पर केवल, प्रत्येक 5 साल में एक नेता का राजतिलक करने के लिये। उसे अपनी आवश्यकताओं को प्रगट करने और उनकी पूर्ति के लिये कोशिशें करने पर अपराधी मान जाएगा।

Read More »

मोदी में अभी तक पीएम के सामान्य लक्षण, संस्कार, आदत और भाषण की भाषा नहीं

मोदी में अभी तक पीएम के सामान्य लक्षण, संस्कार, आदत और भाषण की भाषा नहीं हिन्दुत्ववादी "तानाशाही" के 15 लक्ष्य 15 goals of Hindutva "dictatorship" जगदीश्वर चतुर्वेदी जो लोग फेसबुक से लेकर मोदी की रैलियों तक मोदी-मोदी का नारा लगाते रहते हैं वे सोचें कि मोदी में नारे के अलावा क्या है, वह जब बोलता है तो स्कूली बच्चों की …

Read More »

खतरे में मोदी-शाह की सियासत

P. K. Khurana

खतरे में मोदी-शाह की सियासत Khatre Main Modi-Shah Ki Siyasat  पी. के. खुराना मोदी सरकार की मुसीबतें बढ़ती जा रही हैं। चार जजों की प्रेस कान्फ्रेंस, अडानी समूह को टैक्स माफी, अडानी और अंबानी को दी जाने वाली सुविधाएं, भाजपा को विदेशी फंडिंग मामले में जवाबदेही से बचाने के लिए वित्त विधेयक में लगातार दूसरे साल भी अनैतिक प्रावधान, भारतीय …

Read More »

आरएसएस मुखिया मोहन भागवत के मीठे बोलः शब्दों पर जाएँ या कारगुजारियों पर?

आरएसएस मुखिया मोहन भागवत के मीठे बोलः शब्दों पर जाएँ या कारगुजारियों पर? – राम पुनियानी क्या संगठन वही कहते हैं, जो वे करना चाहते हैं, या करने वाले होते हैं? शायद नहीं। कम से कम आरएसएस मुखिया मोहन भागवत के तीन हालिया लंबे भाषणों से तो यही जाहिर होता है। जिस कार्यक्रम में ये भाषण दिये गए, उसे संवाद …

Read More »

छात्र राजनीति में भी विचारधारा का अंत : आईसा और सीवाईएसएस का अवसरवादी और सिद्धांतहीन गठबंधन

छात्र राजनीति में भी विचारधारा का अंत : आईसा और सीवाईएसएस का अवसरवादी और सिद्धांतहीन गठबंधन आम आदमी पार्टी को शिक्षा का साम्प्रदायीकरण करने वाली भाजपा से कोई परहेज़ नहीं है राजेश कुमार दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) चुनाव में सीपीआई (एमएल) की छात्र शाखा आल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आईसा) और आम आदमी पार्टी की छात्र शाखा छात्र युवा संघर्ष …

Read More »

गुजराती एक्टिविस्ट्स ने कहा – सनातन संस्था की आतंकवादी गतिविधियों से ध्यान हटाने के लिए मानवधिकार कार्यकर्ताओं और लेखकों की गिरफ्तारी

गुजराती एक्टिविस्ट्स ने कहा – सनातन संस्था की आतंकवादी गतिविधियों से ध्यान हटाने के लिए मानवधिकार कार्यकर्ताओं और लेखकों की गिरफ्तारी सुधा भारद्वाज सहित अन्य मानवधिकार कार्यकर्ता, वकील और लेखकों की फर्जी मामलों में गिरफ़्तारी का गुजरात के सामाजिक कार्यकर्त्ता कड़े शब्दों में निंदा करते हैं आदिवासी, दलितों, अल्पसंख्यकों पर हो रहे राजकीय दमन के विरोध में लड़ने वाले साथियों …

Read More »

मैं नहीं शामिल मुख्यधारा में/ जिसे होना हो तो हो

क्या है तुम्हारी मुख्यधारा        ——•——   मैं नहीं शामिल मुख्यधारा में जिसे होना हो तो हो क्या है तुम्हारी मुख्यधारा धार्मिक पाखण्ड पर्वत से निकली सांप्रदायिक अलगाव के गंदे नालों से भरी नफरत की उफनती नदी  ?                   वर्ण व्यवस्था के घाटों से होकर बहती हिंसक उन्माद की नहरें मिलती हैं लाशें बहती इस धारा में जली बस्तियों की राख …

Read More »

वामपंथ को अपनी ताकत को पहचानना होगा

-अरुण माहेश्वरी सब जानते हैं यह समय भारतीय राजनीति में वामपंथ के लिये अस्तित्वीय संकट का समय है। जिस काल में भारतीय राष्ट्र के सारे अर्जित प्रगतिशील मूल्य दाव पर लगे हुए दिखाई देते हैं, चारो ओर एक प्रकार की आदिम विवेकहीनता का बोलबाला है, एक केंद्रीय सरकार संगठित रूप में प्राकृतिक विज्ञान के क्षेत्र पर भी अंध-विश्वासों और कुसंस्कारों …

Read More »

मोदी का गुण : वह जिस शब्द का प्रयोग करते हैं वह मर जाता है, जैसे- विकास, गुजरात, अच्छे दिन, हिन्दुत्व

मोदी युग की लाक्षणिक विशेषताएं- जगदीश्वर चतुर्वेदी १.मोदी का गुण है वह जिस शब्द का प्रयोग करते हैं वह मर जाता है। जैसे- विकास, गुजरात, अच्छे दिन, हिन्दुत्व आदि। २.मोदी की कार्यशैली देखें – मोदी ने 6 साल के भव्य आप्टे की चिट्ठी का जवाब दिया है, लेकिन अन्ना हजारे की चिट्ठी का वे अभी तक जवाब देने के लिए …

Read More »