Home » Tag Archives: अभिषेक श्रीवास्तव

Tag Archives: अभिषेक श्रीवास्तव

लेखकों, कलाकारों, संस्कृतिकर्मियों, बुद्धिजीवियों व मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की अपील – मोदी को हराने के लिए वोट दें

Modi go back

लेखकों, कलाकारों, संस्कृतिकर्मियों, बुद्धिजीवियों व मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की अपील – मोदी को हराने के लिए वोट दें हम मतदाताओं से अपील करते हैं कि लोकसभा चुनाव -2019  में भारतीय जनता पार्टी की सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हराने के लिए वोट दें। मतदाताओं से अपील है कि वे युद्धोन्माद फ़ैलाने वाली और झूठे राष्ट्रवाद के नाम पर देश को …

Read More »

मुझे शक़ है कि गांधी का कथित राष्‍ट्रवाद कहीं हिंदू राष्‍ट्रवाद का ही एक अंश तो नहीं?

मुझे शक़ है कि गांधी का कथित राष्‍ट्रवाद कहीं हिंदू राष्‍ट्रवाद का ही एक अंश तो नहीं? अभिषेक श्रीवास्तव (राष्‍ट्रवाद पर बहस: संदर्भ 'न्‍यूज़लॉन्‍ड्री' का आयोजन) लंबे समय से यह सवाल बना हुआ है कि आरएसएस के हिंदू राष्‍ट्रवाद के सामने कौन सा नैरेटिव मुकाबिल हो। पिछले तीन साल के दौरान इस पर कुछ गंभीर काम हुआ है। 1857 की …

Read More »

संदर्भ पांच गिरफ्तारियां, उनकी राजनीति, हमारे दिलासे : यह सरकार के लिए बैकफायर नहीं है, ऑक्‍सीजन है।

संदर्भ पांच गिरफ्तारियां, उनकी राजनीति, हमारे दिलासे : यह सरकार के लिए बैकफायर नहीं है, ऑक्‍सीजन है। अभिषेक श्रीवास्तव हाल में हुई पांच गिरफ्तारियों पर अदालत की ओर से अगले गुरुवार तक लगी अस्‍थायी रोक को लेकर दो दिनों से एक आम राय यह सुनने में आ रही है कि सरकार के लिए यह मामला बैकफायर कर गया है क्‍योंकि …

Read More »

हमने खलनायकों को पहचानने में देरी की, उन्‍हें ‘’मॉब’’ कह कर बेचेहरा रहने दिया, ये खतरनाक संकेत है

हमने खलनायकों को पहचानने में देरी की, उन्‍हें ‘’मॉब’’ कह कर बेचेहरा रहने दिया, ये खतरनाक संकेत है अभिषेक श्रीवास्तव एक प्रोफेसर थे। प्रगतिशील। कवि भी। संपादक भी। हर हफ्ते अपने कमरे में बैठकी लगाते थे। चर्चा होती थी दुनिया जहान की। बैठका किताबों से भरा पड़ा था। पर्याप्‍त आतंक पड़ता था आगंतुकों पर। एक बैठकी में एक बार संयोग …

Read More »

चालीस साला औरतें : इस तरह ढह जाता है एक देश

चालीस साला औरतें : इस तरह ढह जाता है एक देश        नित्यानंद गायेन द्वारा रचित ‘इस तरह ढह जाता है एक देश’ और अंजू शर्मा द्वारा लिखित ‘चालीस साला औरतें’ के लोकार्पण के अवसर पर लेखकों ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कविता को फासीवाद विरोधी एक औजार के रूप में चिन्हित किया अरुण प्रधान       दिनांक 21/07/2018 को नव …

Read More »

मीडिया को सरकार की चिंता है लेकिन देश की जनता की नहीं

रिहाई मंच ने लखनऊ में किया ‘लोकतांत्रिक संस्थाओं पर बढ़ते हमले और नया प्रतिरोध’ पर सम्मेलन दलित समाज के ऊपर हो रही हर नाइंसाफ़ी के खिलाफ लड़ाई तेज़ करने की जरूरत – कमल सिंह वालिया मीडिया को सरकार की चिंता है लेकिन देश की जनता की नहीं – पंकज श्रीवास्तव पूरे देश को गुजरात माडल में तब्दील करने की कोशिश …

Read More »

संविधान की रक्षक न्यायपालिका खुद भारतीय संविधान की हत्या करने पर उतारू है

चंद्रशेखर को रिहा करो लोकतान्त्रिक संस्थाओं पर हमले बंद करो      सम्मेलन राजिंदर सच्चर को याद करते हुए सहारनपुर दलित हिंसा के एक साल मीडिया विजिल के दो साल पर लोकतांत्रिक संस्थाओं पर बढ़ते हमले और नया प्रतिरोध 6 मई 2018, रविवार, शाम 3:30 बजे से कैफ़ी आज़मी एकेडमी (गुरुद्वारा रोड), निशातगंज, लखनऊ वक्ता- कमल वालिया (भीम आर्मी)                          हिमांशु कुमार (गांधीवादी …

Read More »

लोकतान्त्रिक संस्थाओं पर बढ़ते हमले के खिलाफ रिहाई मंच 6 मई को करेगा लखनऊ में सम्मेलन

भीम आर्मी के मंजीत सिंह नौटियाल, गांधीवादी कार्यकर्ता हिमांशु कुमार, मीडिया विजिल के संस्थापक संपादक पंकज श्रीवास्तव, पूर्व आईजी एसआर दारापुरी, अल्पसंख्यक अधिकार मंच के शमशाद पठान और मीडिया विजिल के कार्यकारी संपादक अभिषेक श्रीवास्तव होंगे वक्ता लखनऊ 28 अप्रैल 2018. रिहाई मंच राजिंदर सच्चर की स्मृति में, शब्बीरपुर दलित विरोधी हिंसा एक साल और मीडिया विजिल के दो साल …

Read More »

क्या सही साबित हो गए प्रकाश करात ?

भाजपा देश को कांग्रेसमुक्‍त कर पाए या नहीं, लेकिन कांग्रेस ज़रूर डूबते-डूबते देश को वाममुक्‍त कर जाएगी अभिषेक श्रीवास्तव त्रिपुरा का चुनाव परिणाम संसदीय वामपंथी दलों, खासकर सीपीएम के लिए एक ज़रूरी संदेश है कि अब वाम राजनीति करना कांग्रेस के कंधे पर चढ़कर मुमकिन नहीं रह गया है। इस नतीजे ने सीपीएम के भीतर येचुरी-करात डिबेट में करात की …

Read More »

सरकार और प्रबंधन के आगे सारे संपादक लेट गए हैं

(जनसत्ता और जैन साहब) अभिषेक श्रीवास्तव आज बरसों बाद एक अखबार में सहकर्मी रहे एक मित्र का अचानक फ़ोन आया। उन्होंने मिलने को कहा। सुखद आश्चर्य हुआ। मिल कर पता चला कि उन्होंने महीना भर पहले अखबार से इस्तीफा दे दिया है और दिल्ली छोड़ चुके हैं। वे कह रहे थे कि अब संस्थानों में काम करने लायक माहौल नहीं …

Read More »