आरएसएस विचारक

Nana ji Deshmukh article on 1984 Sikh mascare

1984 सिख क़त्ले-आम को जायज़ ठहराने वाले आरएसएस विचारक अब ‘भारत रत्न’ हैं!

इंसान अभी तक ज़िंदा है, ज़िंदा होने पर शर्मिंदा है। [सांप्रदायिक हिंसा पर नागरिक समाज की चुप्पी पर शाहीद नदीम की पंक्तियाँ। गीत जिस में यह पंक्तियाँ हैं, को लिखने और गाने के जुर्म में नदीम…


Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

राजनीति की बलिवेदी पर इतिहास की बलि

भारत में जाति प्रथा का उदय  -राम पुनियानी भारत में सामाजिक न्याय की राह में जातिप्रथा सबसे बड़ी और सबसे पुरानी बाधा रही है। यह प्रथा अभी भी सामाजिक प्रगति को बाधित कर रही है।…