इन्दिरा गांधी

Nana ji Deshmukh article on 1984 Sikh mascare

1984 सिख क़त्ले-आम को जायज़ ठहराने वाले आरएसएस विचारक अब ‘भारत रत्न’ हैं!

इंसान अभी तक ज़िंदा है, ज़िंदा होने पर शर्मिंदा है। [सांप्रदायिक हिंसा पर नागरिक समाज की चुप्पी पर शाहीद नदीम की पंक्तियाँ। गीत जिस में यह पंक्तियाँ हैं, को लिखने और गाने के जुर्म में नदीम…