Home » Tag Archives: ओम थानवी

Tag Archives: ओम थानवी

ओम थानवी का पत्रकारिता क्राइम

om thanvi

ओंथानवी द्वारा जनसत्ता अखबार का हिन्दी लेखकों और बुद्धिजीवियों को बदनाम करने के लिये जिस तरह दुरूपयोग किया जा रहा है वैसा सम्भवतः अन्य किसी अखबार में ट्रेंड देखने में नहीं आया है।

Read More »

हम लहूलुहान हैं एकदम पंकज सिंह की तरह

Pankaj Singh

पंकज सिंह ने पीठ पर हाथ रखकर कहा, पीटने की कोई जरूरत नहीं है और न गरियाने की। थानवी मित्र हैं। यकीन रखो, वे जनसत्ता को जनसत्ता बनाये रखेंगे। हम लहूलुहान हैं एकदम पंकज सिंह की तरह हमारे बेहिसाब दोस्त पंकज सिंह नहीं रहे हमारे तमाम प्रिय लोग एक एक करके अलविदा कह रहे हैं और अकेले में हम निहत्था …

Read More »

थानवी ने 26 साल तक जनसत्ता की संपादकी करते हुए भी रीढ़ बचाये रखी

om thanvi

जनसत्ता का बेड़ा गर्क तो दिवंगत प्रभाष जोशी ने ही कर दिया था अपने संघी सिपहसालारों के साथ मिलकर गैर प्रोफेशनल ढंग से जाति और राजनीति के घालमेल से .....

Read More »

ओम थानवी जी, मैं आज भी बेरोज़गार हूं

om thanvi

काश... ओम थानवी दोबारा संपादक बन पाते और मैं इस पोस्‍ट को लिखने के बाद दोबारा संपादक के कमरे में अनधिकृत घुस पाता। जान पाता कि वे अब भी इसे बदतमीज़ी मानते हैं या नहीं। ओमजी, मैं आज भी बेरोज़गार हूं!

Read More »

पत्रकारिता का यह फार्मेट कल को न रहे पर पत्रकारिता रहेगी, खबरों की जरूरत हमेशा रहेगी- शैलेश

media

अगर कंटेंट के स्तर पर देखा जाए तो उसमें 1990 के बाद से ही बराबर गिरावट आती जा रही है, उसका कोई तय स्वरूप नहीं रह गया है। आज सवाल यह नहीं रह गया है कि खबर क्या है या नहीं है, अब तो जो लोग देखते हैं वही खबर है।

Read More »