जनसत्ता

opinion, debate

जिसके पास जैसी सामर्थ्‍य है, वैसा प्रतिरोध करे। दूसरे के घर में ढेला न मारे

जिसके पास जैसी सामर्थ्‍य है, वैसा प्रतिरोध करे, दूसरे के घर में ढेला न मारे लेखक अनिवार्यत: एक अकेला प्राणी होता है। बेहद अकेला। कोई उसकी बात समझ जाए, यह उसके जीवन का सबसे बड़ा…


om thanvi

ओम थानवी का पत्रकारिता क्राइम

क्या धर्मवीर का प्रेमचंद पर जैसा लेख अज्ञेय पर भी छापेंगे ओम थानवी ? थानवी जी आप धन्य हैं और हमें धिक्कार है ! जनसत्ता के संपादक ओम थानवी इन दिनोँ अपने अखबार में प्रतिक्रियावादी…


opinion, debate

सरकार और प्रबंधन के आगे सारे संपादक लेट गए हैं

All the editors have surrendered before the government and the management. (जनसत्ता और जैन साहब) आज बरसों बाद एक अखबार में सहकर्मी रहे एक मित्र का अचानक फ़ोन आया। उन्होंने मिलने को कहा। सुखद आश्चर्य…


Pankaj Singh

हम लहूलुहान हैं एकदम पंकज सिंह की तरह

पंकज सिंह ने पीठ पर हाथ रखकर कहा, पीटने की कोई जरूरत नहीं है और न गरियाने की। थानवी मित्र हैं। यकीन रखो, वे जनसत्ता को जनसत्ता बनाये रखेंगे। हम लहूलुहान हैं एकदम पंकज सिंह…


om thanvi

थानवी ने 26 साल तक जनसत्ता की संपादकी करते हुए भी रीढ़ बचाये रखी

Om Thanvi is the elder editor than Prabhash Joshi. ओम थानवी का कमाल यही है कि उनने छब्बीस साल तक जनसत्ता की संपादकीय (Editor of Jansatta) करते हुए भी रीढ़ बचाये रखी है कमसकम ओम…


om thanvi

ओम थानवी जी, मैं आज भी बेरोज़गार हूं

ओम थानवी रिटायर हो गए (Om Thanvi retired)। हर आदमी एक न एक दिन रिटायर होता है। उसके बाद लोग उसे अपने-अपने तरीके से याद करते हैं। मैं कैसे याद करूं? मैं पहली बार 2003…


opinion, debate

राष्ट्र के लिए सबसे बड़ा खतरा हिंदू साम्राज्यवादी झंडा कश्मीर और बंगाल में फहराने की तमन्ना

राष्ट्र के लिए सबसे बड़ा खतरा- संघ परिवार के स्वजन मुख्यमंत्री लोकतंत्र विरोधी, राष्ट्रविरोधी ताकतों की शुक्रिया अदा कर रहे हैं राष्ट्र के लिए सबसे बड़ा खतरा- राष्ट्रवाद का यह चेहरा क्यों राष्ट्रद्रोही होने लगा…