Home » Tag Archives: ‘द्विराष्ट्र’ के सिद्धांत

Tag Archives: ‘द्विराष्ट्र’ के सिद्धांत

Views & news & analysis & History of two-nation theory in Hindi. Who proposed the two-nation theory?

हिंदी में दो-राष्ट्र सिद्धांत का इतिहास, विश्लेषण, विचार और समाचार। दो-राष्ट्र सिद्धांत का प्रस्ताव किसने रखा?

द्विराष्ट्र सिद्धांत से क्या अभिप्राय है? दो राष्ट्र का सिद्धांत किसने दिया? द्विराष्ट्र सिद्धांत की मांग किसने की थी? द्विराष्ट्र सिद्धांत किसने दिया था? द्विराष्ट्र सिद्धांत से आप क्या समझते हैं? द्विराष्ट्र सिद्धांत का प्रतिपादन किसने किया था? द्विराष्ट्र सिद्धांत किसकी देन था? द्विराष्ट्र के सिद्धांत के प्रतिपादक कौन थे? द्वि राष्ट्र का सिद्धांत किसने प्रतिपादित किया था? द्विराष्ट्र सिद्धांत के जनक कौन थे? Importance of two-nation theory pdf, Two nation theory upsc. Two nation theory in Urdu pdf. Two nation theory SlideShare. Sir Syed Ahmed khan and two-nation theory. Allama Iqbal and two-nation theory. Quaid e Azam and two-nation theory.

370 के बाद का कश्मीर – झूठ और दुष्प्रचार की अति

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

370 के बाद का कश्मीर – झूठ और दुष्प्रचार की अति कश्मीर से संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाने के बाद से तीन माह बीत चुके हैं (Three months have passed since the removal of Article 370 of the Constitution from Kashmir.)। इस प्रक्रिया में स्थापित विधि को दरकिनार कर, लोकसभा में अपने बहुमत का लाभ उठाते हुए भाजपा सरकार …

Read More »

एकीकृत भारत की प्रबल आवाज़ थे ‘सीमांत गाँधी’

Khan Abdul Ghaffar Khan

भारतवर्ष में आज़ादी के 72 वर्षों बाद आज एक बार फिर भारत के हिन्दू राष्ट्र होने और 1947 में मुहम्मद अली जिन्नाह की मुस्लिम लीग द्वारा प्रस्तुत ‘द्विराष्ट्र’ के सिद्धांत (‘Two Nation’ Principles) को अमल में लाए जाने की बात पुरज़ोर तरीक़े से की जाने लगी है। इस विभाजनकारी राजनैतिक वातावरण के मध्य एक बार फिर स्वतंत्रता आंदोलन के उन …

Read More »

ऐसा क्या कहा जस्टिस काटजू ने जो एक पाकिस्तानी ने कहा ‘सत्यमेव जयते’

Justice Markandey Katju

जब जस्टिस काटजू बोले, विभाजन, फर्ज़ी द्विराष्ट्र सिद्धांत के आधार पर एक ऐतिहासिक ब्रिटिश ठगी था तो पाकिस्तानी ने कहा ‘सत्यमेव जयते’ नई दिल्ली, 29 सितंबर 2019. सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश व प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन जस्टिस मार्कंडेय काटजू का मानना है कि विभाजन, फर्ज़ी द्विराष्ट्र सिद्धांत के आधार पर एक ऐतिहासिक ब्रिटिश ठगी था। वह …

Read More »

अगर माफी ‘वीर’ सावरकर प्रधानमंत्री बने होते तो !

Veer Savarkar

यह सोचना मासूमियत की पराकाष्ठा होगी कि चुनावों के ऐन मौके पर शिवसेना सुप्रीमो द्वारा सावरकर का यह महिमामंडन स्वत:स्फूर्त किस्म का था। एक तरफ, उसका मकसद था इस भावनात्मक मुद्दे को उठा कर कुछ वोट और हासिल किए जाएं; दूसरे, इस मराठी आयकन का शिवसेना द्वारा प्रोजेक्शन करके एक तरह से ‘सीनियर सहयोगी’ भाजपा को असुविधाजनक स्थिति में डालने …

Read More »

ब्रिटेन के जबरन विवाह मामलों में से 40% पाकिस्तान से

Imran Khan

नई दिल्ली, 21 सितंबर 2019. पाकिस्तान एक विफल राष्ट्र हर मामले में साबित हुआ है। सावरकर-जिन्नाह के द्विराष्ट्र सिद्धांत पर बना पाकिस्तान कभी भी एक संपूर्ण राष्ट नहीं बन पाया। लेकिन अब जो मामला सामने आया है, वह पाकिस्तान के लिए बेहद शर्मिन्दगी वाला है। ब्रिटेन के बलात् विवाह मामलों में से लगभग आधे यानी 40% पाकिस्तान से संबंधित हैं। …

Read More »

अनुच्छेद 370 : मोदी सरकार का झूठ बेनकाब

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

अनुच्छेद 370 : प्रचार बनाम सच Article 370: Propaganda vs truth अनुच्छेद 370 और 35ए हटाने के भाजपा सरकार के निर्णय (BJP government’s decision to remove Articles 370 and 35A) को सही ठहराने के लिए एक प्रचार अभियान चलाया जा रहा है। अनुच्छेद 370 का उन्मूलन, लंबे समय से आरएसएस के एजेंडे (RSS agenda) में रहा है और राम मंदिर व …

Read More »

अनुच्छेद 370 : अर्धसत्यों की भरमार और भाजपा मंत्रियों की झूठ की पोटली

Dr. Ram Puniyani's article in Hindi on the plight of Kashmiri Pandits

भारत सरकार ने कश्मीर के लोगों की राय (opinion of the people of Kashmir) जानने की प्रजातांत्रिक कवायद किए बगैर अत्यंत जल्दबाजी में संविधान के अनुच्छेद 370 और 35ए (Articles 370 and 35A of the Constitution) के संबंध में निर्णय लिया है। जम्मू-कश्मीर राज्य अब दो केन्द्र शासित प्रदेशों में बंट गया है। इसके साथ ही, हवा में ढ़ेरों अर्धसत्य …

Read More »

आजादी के आंदोलन का धुर विरोधी रहा है आरएसएस, केंद्र सरकार का 370 पर कदम आतंकवाद को बढ़ायेगा ही : अखिलेंद्र

Akhilendra Pratap Singh अखिलेंद्र प्रताप सिंह राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य स्वराज अभियान

जम्मू कश्मीर राज्य के पुनर्गठन और उसके विशेष राज्य के दर्जे को समाप्त किए जाने के संदर्भ में दो बातें :Two things in the context of the reorganization of the state of Jammu and Kashmir and the abolition of its special state status राष्ट्रपति ने संसद द्वारा पारित जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल (J&K Reorganization Bill passed by Parliament) और उसे मिले …

Read More »

आरएसएस के महापुरुष, हिन्दुत्व के जनक ‘वीर’ सावरकर के 1913 और 1920 के माफ़ीनामों का मूल-पाठ

Veer Savarkar

आरएसएस के महापुरुष, हिन्दुत्व के जनक ‘वीर‘ सावरकर के 1913 और 1920 के माफ़ीनामों (सावरकर माफीनामा पत्र – Savarkar letter of apology) का मूल-पाठ वी. डी. सावरकर (अभियुक्त नं. 32778) की अर्ज़ी में (जिसे गवर्नर जनरल की काउंसिल के होम मेम्बर, सर रेगिनाल्ड क्रैडॉक को 14 नवंबर 1913 को सावरकर ने व्यक्तिगत तौर पर उस समय सौंपा था जब क्रैडॉक …

Read More »

नेहरू ने कितना परेशान किया मोदीजी को!

How much of Nehru troubled Modi

भाजपा (BJP) ने हाल में लोकसभा चुनाव 2019 व   के लिए अपना घोषणापत्र जारी किया। सरसरी निगाह से देखने पर ही इस दस्तावेज के बारे में दो बातें बहुत स्पष्ट तौर पर उभर कर आतीं हैं। पहली, इसमें इस बात का कोई विवरण नहीं दिया गया है कि पिछले घोषणापत्र में किए गए कितने वायदों को वर्तमान सरकार पूरा कर …

Read More »

संघ-मोदी बेहूदा तर्क दे रहे हैं कि पटेल किसी दल की थाती नहीं हैं, जब स्वाधीनता संग्राम चल रहा था तो संघ कहाँ सोया हुआ था ?

संघ-मोदी बेहूदा तर्क दे रहे हैं कि पटेल किसी दल की थाती नहीं हैं, जब स्वाधीनता संग्राम चल रहा था तो संघ कहाँ सोया हुआ था ? मोदी, संघ और पटेल जगदीश्वर चतुर्वेदी पीएम मोदी को गांधी की हत्या से पहले वाला पटेल पसंद है। उस समय सरदार वल्लभ भाई पटेल की मुसलमानों के प्रति जो मनोदशा थी,वह पसंद है। …

Read More »

द्विराष्ट्र सिद्धांत के गुनाहगार : हिन्दू राष्ट्रवादियों की देन, जिसे जिन्नाह ने गोद लिया

द्विराष्ट्र सिद्धांत के गुनाहगार : हिन्दू राष्ट्रवादियों की देन, जिसे जिन्नाह ने गोद लिया शम्सुल इस्लाम प्रस्तावना  आरएसएस-भाजपा द्वारा पोषित और प्रायोजित उपद्रवी तत्वों ने जिन्नाह की तस्वीर को मुद्दा बना कर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (अमुवि) पर बीते दिनों जो हमले किए, उनके बाद दो–क़ौम सिद्धांत या द्विराष्ट्र सिद्धांत (इस के अनुसार हिन्दू धर्म और इस्लाम के अनुयायी दो अलग …

Read More »

भारतीय प्रजातंत्र को कमज़ोर करेगी नेहरु की विरासत की अवहेलना

भारतीय प्रजातंत्र को कमज़ोर करेगी नेहरु की विरासत की अवहेलना, –राम पुनियानी पिछले कुछ वर्षों से, सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा भारत के प्रथम प्रधानमंत्री और आधुनिक भारत के निर्माता जवाहरलाल नेहरु की विरासत को नज़रंदाज़ और कमज़ोर करने के अनवरत और सघन प्रयास किये जा रहे हैं।  अंतर्राष्ट्रीय आयोजनों में उनका नाम लेने से बचा जा रहा है …

Read More »

वल्लभभाई पटेल: एक विरासत का विरूपण और उसे हड़पने का प्रयास

नेहा दाभाड़े ऐतिहासिक व्यक्तित्वों के विचार और कार्य जटिल होते हैं और अक्सर वे उस काल की उपज हुआ करते  हैं, जिसमें वे इस धरती पर रहते और काम करते थे। सरदार वल्लभभाई पटेल भी इसका अपवाद नहीं हैं। वल्लभभाई पटेल को अक्सर भारत का लौह पुरूष कहा जाता है और उन्हें स्वतंत्रता के बाद के भारत, जो अनेक रियासतों …

Read More »

रामनाथ कोविंद जी के नाम शम्सुल इस्लाम का खुला पत्र

सम्माननीय रामनाथ कोविंद जी,  नमस्कार, सबसे पहले मैं आपको भाजपा द्वारा भारतीय गणराज्य के राष्ट्रपति उम्मीदवार चुने जाने पर बधाई देता हूं। यह जानकार खुशी हुई कि आपको दलित होने के कारण चुना गया है, जैसा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा, "एक दलित, जिन्होंने आज जिस स्थान पर आज हैं वहां पहुंचने के लिए संघर्ष किया है।" आगामी …

Read More »