नाना जी देशमुख

Nana ji Deshmukh article on 1984 Sikh mascare

1984 सिख क़त्ले-आम को जायज़ ठहराने वाले आरएसएस विचारक अब ‘भारत रत्न’ हैं!

इंसान अभी तक ज़िंदा है, ज़िंदा होने पर शर्मिंदा है। [सांप्रदायिक हिंसा पर नागरिक समाज की चुप्पी पर शाहीद नदीम की पंक्तियाँ। गीत जिस में यह पंक्तियाँ हैं, को लिखने और गाने के जुर्म में नदीम…


Nana ji Deshmukh article on 1984 Sikh mascare

नाना जी देशमुख ने 1984 के जनसंहार को न्यायोचित ठहराया था, देखें दस्तावेज

नाना जी देशमुख ने 1984 के जनसंहार को न्यायोचित ठहराया था, देखें दस्तावेज Nana ji Deshmukh justified the genocide of 1984 शम्सुल इस्लाम आरएसएस भारत में अल्पसंख्यकों को दो श्रेणियों में विभाजित करने से कभी…