Home » Tag Archives: फासीवाद

Tag Archives: फासीवाद

जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है फासीवाद, महाराष्ट्र ने साबित किया

Ajit Pawar after oath as Deputy CM

जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है फासीवाद, महाराष्ट्र ने साबित किया महाराष्ट्र के वर्तमान घटना-क्रम के खास सबक  Special lessons of current events of Maharashtra फासीवाद जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है, महाराष्ट्र में यह सत्य फिर एक बार नग्न रूप में सामने आया है। ऐसा साफ लगता है कि …

Read More »

उसे बीच सड़क मार डाला गया, क्योंकि वह दबे-कुचले लोगों की आवाज बन गया था

Safdar Hashmi सफदर हाशमी

उसे बीच सड़क मार डाला गया, क्योंकि वह दबे-कुचले लोगों की आवाज बन गया था सफदर हाशमी शहादत दिवस : 2 जनवरी Safdar Hashmi Shahadat Day: January 2 रीतू तोमर आज से 30 साल पहले पहली जनवरी, 1989 को साहिबाबाद में नुक्कड़ नाटक करते समय उस पर हमला किया गया। अगले दिन उसने दम तोड़ दिया। उसे इसलिए मार डाला …

Read More »

मोहन भागवत का ‘अंतिम समाधान’ ! … RSS गोलवरकर की किताब अब प्रकाशित क्यों नहीं करता ?

Mohan Bhagwat Vigyan Bhawan

एक समय था जब संघियों के लिए गोलवलकर की ’’वी आर आवर नेशनहुड डिफाइन्ड’’, गीता के समान थी। ..भारत में मुस्लिम लीग वालों ने भी यही पद्धति अपनाई थी कि वही व्यक्ति सच्चा मुसलमान है जो मुस्लिम लीगी है तथा सच्चा मुस्लिम लीगी वह है जो हिन्दुओं से नफरत करता है। नाजियों और मुस्लिम लीगियों के पदचिन्हों पर ही चलते हुए आर एस एस भी शुरू से यही रटता रहा है कि वही व्यक्ति सच्चा हिन्दू है जो आर एस एस का सदस्य है

Read More »

हार गया भई हार गया, हिटलर का बेटा हार गया

opinion

Lost, lost, hitler’s son lost हार गया भई हार गया, हिटलर का बेटा हार गया -पुष्पराज हल्ला- बोल, हल्ला -बोल बोल रे साथी हल्ला बोल हल्ला -बोल, हल्ला -बोल फासीवाद पर हल्ला बोल हल्ला- बोल ,हल्ला -बोल ,नाजीवाद पर हल्ला -बोल बोल रे साथी हल्ला -बोल ,गद्दारों पर हल्ला बोल हल्ला -बोल ,हल्ला -बोल ,दंगाई पर हल्ला -बोल। हार गया …

Read More »

वाल्मीकि अब ब्राह्मण हुए जैसे नमोशूद्र ब्राह्मण हो गये

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

वाल्मीकि अब ब्राह्मण हुए जैसे नमोशूद्र ब्राह्मण हो गये, बाकी हजारों जातियों का ब्राह्मण बनाना अभी बाकी है। भारतीय मीडिया में अब वाल्मीकि विमर्श का समय है। संघी समरसता और डायवर्सिटी मिशन का यह ताजा अभिमुख है। धड़ाधड़ लेख छाप कर साबित करने की कोशिश की जा रही है कि हिंदू जाति वाल्मीकि की अस्पृष्यता और बहिष्कार का हश्र कर्मफल …

Read More »