म.प्र. प्रगतिशील लेखक संघ

Literature news साहित्य

विचार के बिना अधूरी होती है रचना

प्रलेसं के एक दिवसीय रचना शिविर में कविता, कहानी, लेखन पर हुआ विमर्श वरिष्ठ रचनाकारों से रू-ब-रू हुए युवा लेखक तेजी से बदलते समाज में रचनाकारों की दृष्टि और भूमिका पर हुई चर्चा भोपाल। बेहतर…


No Image

जब पुष्पा भारती को देख कर लोहिया बोले “चीज तो बहुत अच्छी है” !

गत दिनों भारत भवन में इला अरुण, के के रैना द्वारा परिकल्पित और निर्देशित नाटक ‘शब्द लीला’ के मंचन का समाचार पढ़ने को मिला। पिछले कुछ वर्षों में भारत भवन में आमंत्रण (Invitation to Bharat…


No Image

नरेंद्र मोदी शर्म करो, इतना डरना बन्द करो, कुछ पढ़ना-लिखना शुरू करो

मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के विरोध में इंदौर में हुए जोरदार प्रदर्शन में सरकार के प्रति साधारण जनता का आक्रोश फूटा इंदौर। सीपीआई, सीपीआई (एम), एसयूसीआई (सी), प्रगतिशील लेखक संघ, भारतीय महिला फेडरेशन, पीयूसीएल, इप्टा,…


Literature news साहित्य

सिर्फ़ हँसना या मज़ाक करना व्यंग्य नहीं

प्रलेस ने याद किया हरिशंकर परसाई को इंदौर, 22 अगस्त (- केसरी सिंह चिडार)। प्रगतिशील लेखक संघ की इंदौर इकाई (Indore Unit of Progressive Writers Association) और आईबीएसएस विद्या निकेतन की ओर से शुक्रवार को हिंदी…


Literature news साहित्य

कविता भोलेपन और मासूमियत की रक्षा के लिये तैयार एक समझदार प्रयास

कविता स्वयं में भोली है? कविता रचने की प्रक्रिया को जटिल वर्तमान ने अधिक मुश्किल बना दिया इंदौर, 22 अक्टूबर 2013। कविता और उसके कथ्य, भाषा व शैली के बदलावों को परखने की जरूरत हर…