Home » Tag Archives: Resistant voice

Tag Archives: Resistant voice

मैथिली कविता में प्रतिरोधी स्वर एवं पत्रिका विमर्श

kedar kanan 2

मैथिली कविता में प्रतिरोधी स्वर एवं पत्रिका विमर्श Resistant voice in contemporary Maithili poetry मधेपुरा। समकालीन मैथिली कविता में प्रतिरोधी स्वर हमलोग सर्वप्रथम यात्री जी अर्थात नागार्जुन की कविताओं (Poem of nagarjuna) में देखते हैं। उन्होंने बाल विवाह, विधवा विवाह एवं राज्य सत्ता के विरुद्ध जम कर लिखा जो तत्कालीन समाज के एलीट वर्ग के लिए नासूर बन गये। समाज …

Read More »