Home » Tag Archives: Sanatan Sanstha

Tag Archives: Sanatan Sanstha

गुरुनानक देव : एक दार्शनिक, योगी, गृहस्थ, समाजसुधारक, कवि और देशभक्त

Guru Nanak Dev Ji

गुरुनानक देव : एक दार्शनिक, योगी, गृहस्थ, समाजसुधारक, कवि और देशभक्त सिखों के प्रथम गुरू गुरुनानक सिख पंथ के संस्‍थापक (Founder of Sikhism) थे, जिन्‍होंने धर्म में एक नई लहर उत्पन्न की। सिख गुरूओं में प्रथम गुरू नानक का जन्‍म (Guru Nanak Jayanti) 1469 में लाहौर के निकट तलवंडी (ननकाना साहिब पाकिस्तान – Nankana Sahib Pakistan) में हुआ था। समाज …

Read More »

गांधी जी के ऊपर दो अमरीकी लेखकों की पुस्तकों का विमोचन 31 को

Mahatma Gandhi 1

Release of books by two American authors on Gandhiji on 31 नई दिल्ली, 28 अक्तूबर 2019। गांधी जी पर दो विदेशी लेखकों की किताबों का विमोचन आगामी 31 अक्टूबर को गांधी शांति प्रतिष्ठान में होगा। पिछले दिनों गांधी शांति प्रतिष्ठान की पत्रिका “गांधी-मार्ग का विशेषांक” जेम्स डबल्यू. डगलस की किताब का सार बताती ‘गांधी: अकथनीय सत्य का ताप’ पर प्रकाशित …

Read More »

‘वर्ण-संघर्ष’ के सिवा कुछ नहीं था बुद्ध और ब्राह्मण का संघर्ष

Kabir कबीर

नोट – प्रसिद्ध दलित चिंतक  कॅंवल भारती का यह आलेख “कबीर का ब्राह्मण से संवाद” September 4, 2012 को हस्तक्षेप पर प्रकाशित हुआ था ब्राह्मण गुरु जगत का, साधु का गुरु नाहिं। उरझि-पुरझि करि मरि रह्या, चारिउ वेदा माँहि।। (क.ग्र. पृष्ठ 28) कहु पाँडे कैसी सुचि कीजै। सुचि कीजै तौ जनम न लीजै।। (वही, पृष्ठ 129) ब्राह्मण के साथ कबीर …

Read More »

अरुंधति रॉय और डॉ. राम विलास शर्मा की आँखों से गांधी और अंबेडकर देखना

अरुंधति रॉय की किताब 'एक था डॉक्टर और एक था संत', (Arundhati Roy's book Ek Tha Doctor Ek Tha Sant)

विमर्शमूलक विखंडन और कोरी उकसावेबाजी में विभाजन की रेखा बहुत महीन होती है अरुंधति रॉय की किताब ‘एक था डॉक्टर और एक था संत‘, (Arundhati Roy’s book Ek Tha Doctor Ek Tha Sant) की समीक्षा अरुंधति रॉय की किताब ‘एक था डॉक्टर और एक था संत‘, (Arundhati Roy’s book Ek Tha Doctor Ek Tha Sant,) लगभग एक सांस में ही …

Read More »

आरएसएस हिंदू धर्म को पूरी तरह से एक मजाक में तब्दील करने की मुहिम में लग गया है

कुंभ मेले(Kumbh Mela) में कल जगदगुरू स्वामी स्वरूपानंद (Jagadguru Swami Swarupananda) के आह्वान पर एक परम धर्म संसद (Dharma Sansad) का आयोजन हुआ। धर्म संसद के साथ परम शब्द को जोड़ कर जगदगुरू ने मान लिया कि उनके द्वारा आहूत यह संसद अब परा-सत्य का, परमशिव का रूप ले चुकी है ! इसके आगे अब और कुछ नहीं होगा। उनकी …

Read More »

2019 पांच साल की लंबी काली रात के अवसान का साल होगा

2019 पांच साल की लंबी काली रात के अवसान का साल होगा आगामी 29 अक्तूबर के झरोखे से दिखता भारतीय जनतंत्र का भविष्य —अरुण माहेश्वरी  सर्वोच्च न्यायालय ने कल (23 अक्तूबर को) एक और महत्वपूर्ण निर्णय लिया। मुख्य न्यायाधीश की दो जजों की बेंच ने चुनाव आयोग के सदस्यों का चयन अकेले सरकार के द्वारा किये जाने के बजाय उसे …

Read More »

गुजराती एक्टिविस्ट्स ने कहा – सनातन संस्था की आतंकवादी गतिविधियों से ध्यान हटाने के लिए मानवधिकार कार्यकर्ताओं और लेखकों की गिरफ्तारी

गुजराती एक्टिविस्ट्स ने कहा – सनातन संस्था की आतंकवादी गतिविधियों से ध्यान हटाने के लिए मानवधिकार कार्यकर्ताओं और लेखकों की गिरफ्तारी सुधा भारद्वाज सहित अन्य मानवधिकार कार्यकर्ता, वकील और लेखकों की फर्जी मामलों में गिरफ़्तारी का गुजरात के सामाजिक कार्यकर्त्ता कड़े शब्दों में निंदा करते हैं आदिवासी, दलितों, अल्पसंख्यकों पर हो रहे राजकीय दमन के विरोध में लड़ने वाले साथियों …

Read More »

उमर खालिद पर जानलेवा हमले के लिए भाजपा सरकार जिम्मेदार, मोदी-शाह पर रिहाई मंच ने उठाए सवाल

उमर खालिद पर जानलेवा हमले के लिए भाजपा सरकार जिम्मेदार, मोदी-शाह पर रिहाई मंच ने उठाए सवाल एजेंसियां बताएं कि उमर पर किन आतंकियों ने किया हमला स्वतंत्रता दिवस पर पाँच आतंकी घुसने का एलर्ट जारी करने वाली एजेंसियां बताएं कि उमर पर किन आतंकियों ने हमला किया है. लखनऊ 13 अगस्त 2018. रिहाई मंच ने राजधानी दिल्ली में उमर …

Read More »

दिग्विजय सिंह ने सनातन संस्था के आतंकियों से मोदी के कनेक्शन के इशारों-इशारों में लगाए आरोप

दिग्विजय सिंह ने सनातन संस्था के आतंकियों से मोदी के कनेक्शन के इशारों-इशारों में लगाए आरोप नई दिल्ली, 12 अगस्त। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने महाराष्ट्र में पकड़े गए सनातन संस्था के आतंकियों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कथित कनेक्शन पर सवाल उठाए हैं। श्री सिंह ने इण्डियन एक्सप्रेस में प्रकाशित ख़बर Terror attacks foiled, …

Read More »

अभिव्यक्ति के प्रजातांत्रिक अधिकार को कुचल रहा है सम्प्रदायवाद

राम पुनियानी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, भारत के स्वाधीनता संग्राम के मूलभूत मूल्यों में से एक थी। अंग्रेजों ने असहमति के स्वर को कुचलने का भरसक प्रयास किया परंतु स्वाधीनता सेनानियों को यह एहसास था कि देश में प्रजातांत्रिक संस्कृति के जड़ पकड़ने के लिए अभिव्यक्ति की स्वतत्रंता अपरिहार्य है। स्वाधीनता संग्राम के कई नेताओं को निडरता से अपनी बात रखने …

Read More »

अखाड़ा परिषद् ने जारी की 14 फर्जी बाबाओं की सूची

सूची में आसाराम, राम रहीम, राम पाल, निर्मल बाबा और राधे मां का नाम अखाड़ा परिषद की सूची में बलात्कारी बाबा गुरमीत राम रहीम, आसाराम, आसाराम का बेटा नारायण साईं, सुखविंदर कौर उर्फ राधे मां, निर्मल बाबा, ओम बाबा समेत कई लोगों के नाम हैं। नई दिल्ली 10 सिंतबर। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने स्वयंभू बाबाओं के खिलाफ बड़ा ऐलान …

Read More »

गाँधी, संघ और भारतीय समाज

गाँधी, संघ और भारतीय समाज ‘गाँधी हत्या के लिए संघ ज़िम्मेदार है या नहीं ‘, इस विवाद में उलझे बगैर गाँधी और संघ के बीच के पेचीदा रिश्ते के ताने बाने सुलझाने की कोशिश रविन्द्र रुक्मिणी पंढरीनाथ मोहनदास करमचंद गाँधी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ इन का रिश्ता यह एक अजीबोगरीब पहेली है, जिस के बारे में न जाने कितने सारे …

Read More »

जेएनयू की जीत में बापसा की भूमिका पर भी गौर करें!

जेएनयू की जीत में बापसा की भूमिका पर भी गौर करें! बहुजनों के इसी वर्गीय ध्रुवीकरण से वामपक्ष को मिलेगी फासिज्म के खिलाफ लड़ने की जमीन! पलाश विश्वास दोस्तों, जेएनयू सारा भारतवर्ष नहीं है। जेएनयू सलवा जुड़ुम के शिकंजे में छटफटाता आदिवासी भूगोल या मुक्तबाजार में रोजमर्रे की जिंदगी में नर्क जी रहे भूख का भूगोल, या सैन्य तंत्र में …

Read More »

उग्रतम हिंदुत्व के लिए कुछ भी करेगा संघ परिवार, कोई शक?

चाहे अपनों की बलि चढ़ा दें या फिर देश विदेश सर्वत्र गुजरात बना दें! पलाश विश्वास उग्रतम हिंदुत्व के लिए कुछ भी करेगा संघ परिवार, है कोई शक? बांग्लादेश की लगातार बिगड़ती परिस्थितियों और पूरे महादेश में आतंक की काली छाया और अभूतपूर्व धर्मोन्मादी ध्रुवीकरण की वजह से मुक्तबाजारी हिंसा के मद्देनजर हिंदुत्व के एजेंडे को लागू करने के लिए …

Read More »

एक मुकम्मल हिन्दुत्ववादी हमला है रोहित वेमुला हत्याकांड

गणतंत्र दिवस की पूर्वसंध्या पर लेखक-संगठनों और पत्रिकाओं की ओर से रोहित वेमुला की संस्थागत हत्या पर एक बयान नई दिल्ली। कई लेखक संगठनों व पत्रिकाओं ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर भारतीय गणतंत्र की संकल्पना पर आये संकट के प्रति अपनी गहरी चिंता व्यक्त करते रोहित वेमुला की आत्महत्या को हिन्दुत्ववादी गिरोह, शासन में घुसे उसके नुमाइंदों और …

Read More »