Home » Tag Archives: Sanatan Sanstha

Tag Archives: Sanatan Sanstha

गुरुनानक देव : एक दार्शनिक, योगी, गृहस्थ, समाजसुधारक, कवि और देशभक्त

Guru Nanak Dev Ji

गुरुनानक देव : एक दार्शनिक, योगी, गृहस्थ, समाजसुधारक, कवि और देशभक्त सिखों के प्रथम गुरू गुरुनानक सिख पंथ के संस्‍थापक (Founder of Sikhism) थे, जिन्‍होंने धर्म में एक नई लहर उत्पन्न की। सिख गुरूओं में प्रथम गुरू नानक का जन्‍म (Guru Nanak Jayanti) 1469 में लाहौर के निकट तलवंडी (ननकाना साहिब पाकिस्तान – Nankana Sahib Pakistan) में हुआ था। समाज …

Read More »

गांधी जी के ऊपर दो अमरीकी लेखकों की पुस्तकों का विमोचन 31 को

Mahatma Gandhi 1

गांधी जी के ऊपर दो अमरीकी लेखकों की पुस्तकों का विमोचन 31 को नई दिल्ली, 28 अक्तूबर 2019। गांधी जी पर दो विदेशी लेखकों की किताबों का विमोचन आगामी 31 अक्टूबर को गांधी शांति प्रतिष्ठान में होगा। पिछले दिनों गांधी शांति प्रतिष्ठान की पत्रिका “गांधी-मार्ग का विशेषांक” जेम्स डबल्यू. डगलस की किताब का सार बताती ‘गांधी: अकथनीय सत्य का ताप’ …

Read More »

‘वर्ण-संघर्ष’ के सिवा कुछ नहीं था बुद्ध और ब्राह्मण का संघर्ष

Kabir कबीर

नोट – प्रसिद्ध दलित चिंतक  कॅंवल भारती का यह आलेख “कबीर का ब्राह्मण से संवाद” September 4, 2012 को हस्तक्षेप पर प्रकाशित हुआ था ब्राह्मण गुरु जगत का, साधु का गुरु नाहिं। उरझि-पुरझि करि मरि रह्या, चारिउ वेदा माँहि।। (क.ग्र. पृष्ठ 28) कहु पाँडे कैसी सुचि कीजै। सुचि कीजै तौ जनम न लीजै।। (वही, पृष्ठ 129) ब्राह्मण के साथ कबीर …

Read More »

अरुंधति रॉय और डॉ. राम विलास शर्मा की आँखों से गांधी और अंबेडकर देखना

अरुंधति रॉय की किताब 'एक था डॉक्टर और एक था संत', (Arundhati Roy's book Ek Tha Doctor Ek Tha Sant)

विमर्शमूलक विखंडन और कोरी उकसावेबाजी में विभाजन की रेखा बहुत महीन होती है अरुंधति रॉय की किताब ‘एक था डॉक्टर और एक था संत‘, (Arundhati Roy’s book Ek Tha Doctor Ek Tha Sant) की समीक्षा अरुंधति रॉय की किताब ‘एक था डॉक्टर और एक था संत‘, (Arundhati Roy’s book Ek Tha Doctor Ek Tha Sant,) लगभग एक सांस में ही …

Read More »

आरएसएस हिंदू धर्म को पूरी तरह से एक मजाक में तब्दील करने की मुहिम में लग गया है

कुंभ मेले(Kumbh Mela) में कल जगदगुरू स्वामी स्वरूपानंद (Jagadguru Swami Swarupananda) के आह्वान पर एक परम धर्म संसद (Dharma Sansad) का आयोजन हुआ। धर्म संसद के साथ परम शब्द को जोड़ कर जगदगुरू ने मान लिया कि उनके द्वारा आहूत यह संसद अब परा-सत्य का, परमशिव का रूप ले चुकी है ! इसके आगे अब और कुछ नहीं होगा। उनकी …

Read More »

2019 पांच साल की लंबी काली रात के अवसान का साल होगा

2019 पांच साल की लंबी काली रात के अवसान का साल होगा आगामी 29 अक्तूबर के झरोखे से दिखता भारतीय जनतंत्र का भविष्य —अरुण माहेश्वरी  सर्वोच्च न्यायालय ने कल (23 अक्तूबर को) एक और महत्वपूर्ण निर्णय लिया। मुख्य न्यायाधीश की दो जजों की बेंच ने चुनाव आयोग के सदस्यों का चयन अकेले सरकार के द्वारा किये जाने के बजाय उसे …

Read More »

गुजराती एक्टिविस्ट्स ने कहा – सनातन संस्था की आतंकवादी गतिविधियों से ध्यान हटाने के लिए मानवधिकार कार्यकर्ताओं और लेखकों की गिरफ्तारी

गुजराती एक्टिविस्ट्स ने कहा – सनातन संस्था की आतंकवादी गतिविधियों से ध्यान हटाने के लिए मानवधिकार कार्यकर्ताओं और लेखकों की गिरफ्तारी सुधा भारद्वाज सहित अन्य मानवधिकार कार्यकर्ता, वकील और लेखकों की फर्जी मामलों में गिरफ़्तारी का गुजरात के सामाजिक कार्यकर्त्ता कड़े शब्दों में निंदा करते हैं आदिवासी, दलितों, अल्पसंख्यकों पर हो रहे राजकीय दमन के विरोध में लड़ने वाले साथियों …

Read More »

जिन्होंने साहित्य अकादमी के पुरस्कार लौटाने का विरोध किया था वे सार्वजनिक तौर पर माफी मांगें !

जिन्होंने साहित्य अकादमी के पुरस्कार लौटाने का विरोध किया था वे सार्वजनिक तौर पर माफी मांगें ! अरुण माहेश्वरी कल सीबीआई ने पुणे कोर्ट में यह स्पष्ट शब्दों में कहा है कि उसने गौरी लंकेश, नरेन्द्र दाभोलकर, गोविंद पानसारे और एम एम कलबुर्गी के हत्यारों के आपसी संपर्कों के प्रमाण पा लिये हैं। इन सभी बुद्धिजीवियों, साहित्यकारों, विवेकवादी सुधारकों और …

Read More »

उमर खालिद पर जानलेवा हमले के लिए भाजपा सरकार जिम्मेदार, मोदी-शाह पर रिहाई मंच ने उठाए सवाल

उमर खालिद पर जानलेवा हमले के लिए भाजपा सरकार जिम्मेदार, मोदी-शाह पर रिहाई मंच ने उठाए सवाल एजेंसियां बताएं कि उमर पर किन आतंकियों ने किया हमला स्वतंत्रता दिवस पर पाँच आतंकी घुसने का एलर्ट जारी करने वाली एजेंसियां बताएं कि उमर पर किन आतंकियों ने हमला किया है. लखनऊ 13 अगस्त 2018. रिहाई मंच ने राजधानी दिल्ली में उमर …

Read More »

दिग्विजय सिंह ने सनातन संस्था के आतंकियों से मोदी के कनेक्शन के इशारों-इशारों में लगाए आरोप

दिग्विजय सिंह ने सनातन संस्था के आतंकियों से मोदी के कनेक्शन के इशारों-इशारों में लगाए आरोप नई दिल्ली, 12 अगस्त। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने महाराष्ट्र में पकड़े गए सनातन संस्था के आतंकियों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कथित कनेक्शन पर सवाल उठाए हैं। श्री सिंह ने इण्डियन एक्सप्रेस में प्रकाशित ख़बर Terror attacks foiled, …

Read More »

अगर मैं पाप करता हूं, तो मैं धार्मिक तरीके से ही पाप करता हूं !!

  ‘‘जब पानी में आग लगी थी’’ : महाड सत्याग्रह के नब्बे साल – 2 – सुभाष गाताडे एक हिन्दू पुरूष या स्त्री, जो कुछ भी वह करते हैं, वह धर्म का पालन कर रहे होते हैं। एक हिन्दू धार्मिक तरीके से खाना खाता है, पानी पीता है, धार्मिक तरीके से नहाता है या कपड़े पहनता है, धार्मिक तरीके से …

Read More »

अभिव्यक्ति के प्रजातांत्रिक अधिकार को कुचल रहा है सम्प्रदायवाद

राम पुनियानी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, भारत के स्वाधीनता संग्राम के मूलभूत मूल्यों में से एक थी। अंग्रेजों ने असहमति के स्वर को कुचलने का भरसक प्रयास किया परंतु स्वाधीनता सेनानियों को यह एहसास था कि देश में प्रजातांत्रिक संस्कृति के जड़ पकड़ने के लिए अभिव्यक्ति की स्वतत्रंता अपरिहार्य है। स्वाधीनता संग्राम के कई नेताओं को निडरता से अपनी बात रखने …

Read More »

अखाड़ा परिषद् ने जारी की 14 फर्जी बाबाओं की सूची

सूची में आसाराम, राम रहीम, राम पाल, निर्मल बाबा और राधे मां का नाम अखाड़ा परिषद की सूची में बलात्कारी बाबा गुरमीत राम रहीम, आसाराम, आसाराम का बेटा नारायण साईं, सुखविंदर कौर उर्फ राधे मां, निर्मल बाबा, ओम बाबा समेत कई लोगों के नाम हैं। नई दिल्ली 10 सिंतबर। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने स्वयंभू बाबाओं के खिलाफ बड़ा ऐलान …

Read More »

गाँधी, संघ और भारतीय समाज

गाँधी, संघ और भारतीय समाज ‘गाँधी हत्या के लिए संघ ज़िम्मेदार है या नहीं ‘, इस विवाद में उलझे बगैर गाँधी और संघ के बीच के पेचीदा रिश्ते के ताने बाने सुलझाने की कोशिश रविन्द्र रुक्मिणी पंढरीनाथ मोहनदास करमचंद गाँधी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ इन का रिश्ता यह एक अजीबोगरीब पहेली है, जिस के बारे में न जाने कितने सारे …

Read More »

जेएनयू की जीत में बापसा की भूमिका पर भी गौर करें!

जेएनयू की जीत में बापसा की भूमिका पर भी गौर करें! बहुजनों के इसी वर्गीय ध्रुवीकरण से वामपक्ष को मिलेगी फासिज्म के खिलाफ लड़ने की जमीन! पलाश विश्वास दोस्तों, जेएनयू सारा भारतवर्ष नहीं है। जेएनयू सलवा जुड़ुम के शिकंजे में छटफटाता आदिवासी भूगोल या मुक्तबाजार में रोजमर्रे की जिंदगी में नर्क जी रहे भूख का भूगोल, या सैन्य तंत्र में …

Read More »

उग्रतम हिंदुत्व के लिए कुछ भी करेगा संघ परिवार, कोई शक?

चाहे अपनों की बलि चढ़ा दें या फिर देश विदेश सर्वत्र गुजरात बना दें! पलाश विश्वास उग्रतम हिंदुत्व के लिए कुछ भी करेगा संघ परिवार, है कोई शक? बांग्लादेश की लगातार बिगड़ती परिस्थितियों और पूरे महादेश में आतंक की काली छाया और अभूतपूर्व धर्मोन्मादी ध्रुवीकरण की वजह से मुक्तबाजारी हिंसा के मद्देनजर हिंदुत्व के एजेंडे को लागू करने के लिए …

Read More »

एक मुकम्मल हिन्दुत्ववादी हमला है रोहित वेमुला हत्याकांड

गणतंत्र दिवस की पूर्वसंध्या पर लेखक-संगठनों और पत्रिकाओं की ओर से रोहित वेमुला की संस्थागत हत्या पर एक बयान नई दिल्ली। कई लेखक संगठनों व पत्रिकाओं ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर भारतीय गणतंत्र की संकल्पना पर आये संकट के प्रति अपनी गहरी चिंता व्यक्त करते रोहित वेमुला की आत्महत्या को हिन्दुत्ववादी गिरोह, शासन में घुसे उसके नुमाइंदों और …

Read More »

इतिहास केसरिया बनाने वाले चेहरे बेनकाब हैं जो दुनिया मनुस्मृति बनाना चाहते हैं!

ग्रीक त्रासदी घात लगाये मौत की तरह सर पर खड़ी है! स्वयंभू ब्राह्मण और नवब्राह्मण ब्राह्मणतांत्रिक गिरोह के सिपाहसालार मनसबदार से लेकर चक्रकर्ती महाराज कल्कि अवतार तक आदतन तानाशाह हैं। वे इतिहास, ज्ञान विज्ञान, गणित, अर्थशास्त्र को वैदिकी बनाने चले हैं और दरअसल मिथकों को नये सिरे से रच रहे हैं। मसलन ताजातरीन मिथक विकास, सामायोजन, डिजिटल भारत और बोतल …

Read More »

#असहिष्णुता के खिलाफ तमाम लोग झूठ बोल रहे हैं और सिर्फ #कारपोरेट वकील, राजनेता और #बजरंगी सच बोल रहे हैं?

फिर होने दीजिये नरसंहार और बेदखली, हम इसीके लायक हैं! मनुस्मृति शासन की यह रंगारंग सुनामी दरअसल मुक्तबाजारी बलात्कार सुनामी है। पलाश विश्वास कहां हैं इस देश के शिक्षक, चिकित्सक, न्यायाधीश, जनांदोलन के तमाम मसीहा, मजदूर नेता और उनकी यूनियनें, सरकारी कर्मचारी और अफसरान? इस सवाल का जवाब लगातार गलतबयानी है कि असहिष्णुता आंदोलन सहिष्णुता, विकास और समरसता के राजकाज …

Read More »

कौन लोग फैला रहे हैं देश में असहिष्णुता?

जितेंद्र सिंह देश में बीजेपी/संघ से इतर कुछ कट्टर हिन्दुत्ववादी संगठन उग गए हैं, कुछ ऐसे लोग/समूह भी उग गए हैं जिनकी पीठ पर किसी बीजेपी/संघ से जुड़े व्यक्ति का हाथ है और ये लोग अपने आप को कानून-पुलिस से ऊपर समझते हुए जहाँ तहां हुडदंग मचाये हुए हैं. देश का वातावरण ख़राब कर रहे हैं, देश को विदेशो में …

Read More »

क्या #भाजपा के खिलाफ वोट देने वाले #पाकिस्तानी हैं, #राष्ट्रद्रोही हैं जो #पाकिस्तान खुश होगा, गुजरात नरसंहार के इतिहास से पूछें जवाब!

क्या भाजपा के खिलाफ वोट देने वाले पाकिस्तानी हैं,  राष्ट्रद्रोही हैं जो पाकिस्तान खुश होगा, गुजरात नरसंहार के इतिहास से पूछें जवाब! हीराभाभी को सलाम कि उनने कारपोरेट लिटरेचर फेस्टिवल के दिये गिरदा को मरणोपरांत लाइव टाइम एचिवमेंट ठुकरा दिया। कहा, जिसने लिया, वे रख लें। गिरदा के सरोकारों से इसका मतलब नहीं। सिंगुर के किसानों को एक इंच जमीन …

Read More »

इस देश को न हिंदुत्व का महागठबंधन तोड़ सकता है और न फासिज्म का मुक्तबाजारी नफरत और नरसंहार का एजेंडा।

भारतीय सिनेमा अब प्रतिरोध में है वैज्ञानिक साथ हैं, युवाशक्ति भी साथ पलाश विश्वास HOKOLOROB as we stand Divided, Let us unite to save Humanity and Nature! केसरिया सत्ता अब छात्रों को भी नहीं बख्शेगी! जाग मेरे मन मछंदर jaag mere man machhandar हमने अस्कार विजेता फिल्मकार गुलजार के बयान की नफरत की इस आंधी के खिलाफ विरोध का रास्ता …

Read More »

त्यौहारों के समय विस्फोट करवा सकती है मोदी सरकार- रिहाई मंच

अपनी विफलताओं को छुपाने के लिए त्यौहारों के समय विस्फोट करवा सकती है मोदी सरकार- रिहाई मंच भागवत और अजित डोभाल देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा खतरा- राजीव यादव योगी को मुसलमानों की आबादी की चिंता करने के बजाए अपने असली पिता का नाम बताना चाहिए- अनिल यादव लखनऊ, 2 अक्टूबर 2015। रिहाई मंच ने कहा है …

Read More »

गोडसे की औलादों ने इन हत्याओं को अंजाम दिया

तर्क और विचारों से कौन डरता है ?  “दाभोलकर, पानसरे और कलबुर्गी की शहादत के बहाने चन्द बातें” की अगली कड़ी सुभाष गाताडे सही बात है कि एक अज़ीब से दौर से हम फिलवक्त़ गुजर रहे हैं जब एक अलग तरह की हिट लिस्ट की बातें अधिकाधिक सुनाई दे रही है। पहले ऐसी बातें दूर से सुनाई देती थीं। जब …

Read More »

अम्बेडकर की विचारधारा: धार्मिक राष्ट्रवाद और भारतीय संविधान

व्यापक समाज में अपनी स्वीकार्यता बढ़ाने के लिए इन दिनों आरएसएस बेसिरपैर के दावे कर रहा है। कुछ महीनों पहले यह दावा किया गया था कि गांधीजी, आरएसएस की कार्यप्रणाली से प्रभावित थे। हाल (फरवरी 15, 2015) में एक और सफेद झूठ हवा में उछाला गया और वह यह कि अम्बेडकर, संघ की विचारधारा में यकीन करते थे। यह दावा …

Read More »

गरिमा, मानवाधिकारों व तर्कवाद के योद्धा गोविंद पानसरे ( गोविंद पंसारे )

पानसरे ( गोविंद पंसारे ) पर हुए हमले ने डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की हत्या की याद फिर से ताजा कर दी है। गत 20 फरवरी को, जब कामरेड गोविंद पानसरे ( गोविंद पंसारे ) की मृत्यु की दुखद खबर आई, तो मुझे ऐसा लगा मानो एक बड़ा स्तंभ ढह गया हो-एक ऐसा स्तंभ जो महाराष्ट्र के सामाजिक आंदोलनों का शक्ति …

Read More »

गांधी फिर प्रार्थना सभा में हैं, फिर नाथूरामच्या बंदूक गरजै है

बुलेट हीरक बाकीर सबै हवा हवाई, सबै एफडीआई धर्म अधर्म राजकाज राजनीति एफडीआई अंध सर्वधर्म आस्था एफडीआई पागलदौड़, जिसके खिलाफ सेवाग्राम खड़ा है बुलेट हीरक बाकीर सबै हवा हवाई, सबै एफडीआई धर्म-अधर्म, राजकाज राजनीति एफडीआई अंध सर्वधर्म आस्था एफडीआई खलक खुदा का मुल्क रिलायंस का कि होशियार कि अलीबाबा चालीसचोर दाखिल है मुक्त इमर्जिंग मार्केट भारत में, जहां बाराक ओबामा …

Read More »

इस लोकतंत्र के निशाने पर हैं पर्यावरण और प्रकृति

रामराज्य में निशाने पर फिर वहीं स्त्रियां। डिजिटल देश की नालेज इकोनामी में नवजागरण के अवसान के मध्य स्थाई शाखा बंदोबस्त पलाश विश्वास लोकतंत्र हमारे लिए बस मताधिकार है। चूंकि राजकाज में आम जनता की हिस्सेदारी और राजकाज पर जनता का नियंत्रण समता और न्याय के सिद्धांतों के मुताबिक जनप्रतिनिधित्व की मांग से हमारे लोकतंत्र को भारी खतरा हो जाता …

Read More »

आईटी में खुदकशी

पलाश विश्वास आज कम से कम इस वक्त लिखने का मन मिजाज नहीं है। मौसम इधर रिस रहा है लगातार। मानसून नहीं है और न मूसलाधार लेकिन आसमान रुक रुककर रिस रहा है। अभी धूप तो अभी बरसात। अबकी दफा सावन में बंगाल में शिवभक्तों की तादाद में भारी इजाफा हुआ है। दक्षिणेश्वर विद्यासागर सेतु आखिरी सोमवार को, उससे पहले …

Read More »

औपचारिक बनाम सच्चा न्याय

निर्दोष मुसलमानों की प्रताड़ना पर शिन्दे का पत्र  राम पुनियानी केन्द्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिन्दे ने दिनाँक 30 सितम्बर 2013 को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को सम्बोधित एक पत्र में लिखा है कि सरकार को लगातार ऐसी शिकायतें प्राप्त हो रही हैं कि विभिन्न जाँच एजेन्सियों द्वारा निर्दोष मुस्लिम युवकों को प्रताड़ित किया जा रहा है। अपने पत्र में शिन्दे …

Read More »

किसने मारा दाभोलकर को

किसी धर्म या आस्था के विरूद्ध नहीं थे दाभोलकर राम पुनियानी डाक्टर नरेन्द्र दाभोलकर की क्रूर हत्या (20 अगस्त 2013), अंधश्रद्धा व अंधविश्वास के खिलाफ सामाजिक आंदोलन के लिये एक बड़ा आघात है। पिछले कुछ दशकों में तार्किकता और सामाजिक परिवर्तन को बढ़ावा देने का काम मुख्यतः जनविज्ञान कार्यक्रम कर रहे हैं।  महाराष्ट्र में इसी आन्दोलन से प्रेरित हो ’‘अंधश्रद्धा …

Read More »

किस-किस को कैद करोगे ??

National News

किस-किस को कैद करोगे ?? लोकतंत्र के हक़ में। संविधान की रक्षा में………………. इंसानियत और इन्साफ की हिफाज़त के लिए………… इंदौर (मध्य प्रदेश) 5 सितम्बर, 2018। शहर के जागरूक और प्रगतिशील विचारधारा के नागरिकों द्वारा पाँच मानवाधिकार कार्यकर्ताओं पर भीमा कोरेगाँव में हिंसा (Violence in Bhima Koregaon) फैलाने के झूठे आरोप लगाने और नजरबंद किए जाने के विरोध में संभागायुक्त …

Read More »

अमेरिका में भी सिर उठा रहे हैं दक्षिणपंथी आतंकवादी, पकड़ा गया छप्पन वर्षीय ( छप्पन इंच वाला नहीं) आतंकी सीजर

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अमेरिका में भी सिर उठा रहे हैं दक्षिणपंथी आतंकवादी, पकड़ा गया छप्पन वर्षीय ( छप्पन इंच वाला नहीं) आतंकी सीजर अरुण माहेश्वरी भारत में सनातन संस्था नामक संगठन एक आतंकवादी संगठन है और शासक संघ परिवार के वृहत्तर समूह का ही अंग है। आरएसएस की तरह ही हिंदू राष्ट्र बनाना इसका उद्देश्य है और यह गुप्त हत्याओं से लेकर बम …

Read More »

क्या आरएसएस का सचमुच ह्दय परिवर्तन हो गया है या नई पैकेजिंग में हिन्दुत्व

RSS Half Pants

क्या आरएसएस का सचमुच ह्दय परिवर्तन हो गया है या नई पैकेजिंग में हिन्दुत्व आरएसएस जमावड़ा : नई बोतल में पुरानी शराब आरएसएस मुखिया मोहन भागवत (RSS chief Mohan Bhagwat,) ने 17 से 19 सितंबर 2018 तक दिल्ली के विज्ञान भवन में संघ द्वारा आयोजित तीन-दिवसीय व्याख्यान श्रृंखला ‘भविष्य भारत काः आरएसएस परि‘ को संबोधित किया। आरएसएस ने इस आयोजन …

Read More »

आरएसएस की तरह की एक जन्मजात वर्तमान संविधान-विरोधी सरकार द्वारा संविधान की रक्षा की बातें मिथ्याचार के सिवाय और कुछ नहीं

Arun Maheshwari अरुण माहेश्वरी, लेखक प्रख्यात वाम चिंतक हैं।

हमारे यहां न्यायपालिका के सच को हमारी राजनीति के सच से काट कर दिखाने की कोशिश को इसीलिये हम मूलतः अपने लोकतंत्र के सत्य को झुठलाने की कोशिश ही कहेंगे।

Read More »

चुप कर दी गईं गौरी लंकेश : क्या अब भी नहीं चेतेंगे प्रजातंत्रवादी

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

गौरी लंकेश की कलम को एक बुज़दिल की गोलियों ने चुप कर दिया है। जिन लोगों ने उन्हें मारा, उनमें इतनी भी हिम्मत नहीं है कि वे इसकी जवाबदारी लें। वे जानते हैं कि वे अपनी इस हरकत का औचित्य किसी भी व्यक्ति के सामने सिद्ध नहीं कर सकते, सिवाय चंद अति दक्षिणपंथी हिन्दू श्रेष्ठतावादियों के। इनमें निखिल दधीच जैसे …

Read More »

इस वध के खिलाफ जो भी बोले, उसे पाकिस्तान भेज दिया जायेगा और संत वाणी है कि इसी तरह जनसंख्या घट जायेगी भारत की

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

सहिष्णुता अरब वसंत का वज्रनिर्घोष! बाकीर आपरेशन ब्लू स्टार! या बंगाल की राजनीति की वैदिकी हिंसा, जो हिंसा न भवति। #Controversy Promo के धर्म अधर्म अपकर्म में काहे को फंसे हो भइया, सबसे बड़ा रुपइया सहिष्णुता अबाध पूंजी प्रवाह की। सहिष्णुता एफडीआई, सहिष्णुता बेरोजगारी, भुखमरी मंहगाई.मंहगाई की अखंड बा। संपूर्ण निजीकरण, संपूर्ण विनिवेश की सहिष्णुता ह। जहरीला हवा पानी, सहिष्णुता …

Read More »

गोरक्षा आंदोलन जिसमें गाय की रक्षा के साथ इन्सानियत और देश की रक्षा भी शामिल हो, नामुमकिन है

COW

गोरक्षा आंदोलन तमाम अंतर्विरोधों से घिरा एक विचित्र आंदोलन है। सनातन धर्म के मूल्यों को बचाने का दावा करने वाला यह आंदोलन आर्य समाज के प्रभाव में जोर पकड़ता है। धार्मिक दिखने वाला यह आंदोलन पूरी तरह से राजनीतिक ताकत पैदा करता है। राजनीतिक मकसद हासिल करने के साथ यह आर्थिक हितों(खेती) की रक्षा का दावा भी करता है।

Read More »

करकरे तुझे सलाम

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह (Congress General Secretary Digvijay Singh) अपनी ही धुन के आदमी हैं. कभी कभी सच बोलते हैं लेकिन थोड़ा संकोच और “एक कदम आगे दो कदम पीछे” की नीति अपनाकर. हाल ही में उन्होंने अमर शहीद हेमंत करकरे (Amar Shahid Hemant Karkare) से अपनी बात को लेकर सनसनी फैला दी, जिससे संघ खानदान बहुत नाराज़ है. अब …

Read More »