Home » Tag Archives: Secularism

Tag Archives: Secularism

क्या भारत अध्यात्म की भूमि है या धार्मिक कट्टरपंथियों का यातना-गृह ?

Has India slid into an irreversible Talibanization of the mind

प्रसिद्ध भाषाशास्त्री जी एन देवी (G.N. Devy) बीती दो अक्तूबर से उपवास पर हैं। वे भारत के, खास तौर पर महाराष्ट्र, बंगाल, तमिलनाडू, केरल, गुजरात और पंजाब के भारतीय नवजागरण के क्षेत्र के नौजवानों से पूछ रहे हैं कि क्या वे शादी के वक्त जाति और धर्म के बंधनों को भूलने के लिये तैयार हैं ? जिस दिन उन्हें कम …

Read More »

क्या वाकई यह धर्मनिरपेक्षता की हार का जनादेश है?

Narendra Modi new look

सत्रहवीं लोकसभा के चुनाव (Seventh Lok Sabha election) में जनता ने नरेंद्र मोदी के पक्ष में निर्णायक फैसला (decisive decision in favor of Narendra Modi) दिया है। यह फैसला कितना नरेंद्र मोदी के पक्ष में है, कितना भाजपा के पक्ष में और कितना भाजपा के नेतृत्ववाले गठबंधन, एनडीए के  पक्ष में, इस पर तो बहस हो सकती है। लेकिन, इस …

Read More »

भाजपा-संघ के उभार में सोशलिस्टों व छद्म अम्बेडकरवादियों का बड़ा हाथ

Lucknow: Samajwadi Party (SP) chief Akhilesh Yadav greets Bahujan Samaj Party (BSP) chief Mayawati on her 63rd birthday in Lucknow, on Jan 15, 2019. (Photo: IANS)

स्वराज अभियान के योगेंद्र यादव का “काँग्रेस मस्ट डाई” बयान (Yogendra Yadav’s “Congress Must Die” statement) गैर राजनीतिक व मिडिल क्लास रिएक्शन से ज्यादा कुछ नहीं लोकसभा के 2019 के सामान्य चुनावों के परिणाम (Results of general elections of the Lok Sabha in 2019) कल 23 मई को सामने आए, लेकिन 19 मई को मतदान के आखिरी चरण के बाद …

Read More »

इतिहास के कोढ़ : ´हिंदुत्व´और ´हिंदूराष्ट्र´ का विचार सिर्फ आरएसएस की देन नहीं है

RSS Half Pants

व्यक्ति को हमने लोकतंत्र-धर्मनिरपेक्षता के अनुरुप पूरी तरह नए रुप में तैयार ही नहीं किया, हम ऊपर से मुखौटे लगाकर उसे धर्मनिरपेक्ष बनाते रहे, लोकतांत्रिक बनाते रहे, उसके व्यक्तित्वान्तरण के सवालों को कभी बहस के केन्द्र में नहीं लाए।

Read More »

न्यायपालिका का भी कुछ कम ‘योगदान’ नहीं अयोध्या मामला उलझाये रखने में

Babri Masjid. (File Photo: IANS)

न्यायपालिका का भी कुछ कम ‘योगदान’ नहीं अयोध्या मामला उलझाये रखने में मानना पड़ेगा कि बार-बार रुलाने वाली देश की थकाऊ, उबाऊ और अभिजात व अमीरपरस्त न्यायप्रणाली (Judicial system) के प्रति देशवासियों में अभी भी गजब का विश्वास है। बाबरी मस्जिद के ध्वंस की साजिश को लेकर लालकृष्ण आडवानी, मुरली मनोहर जोशी व उमा भारती समेत कोई दर्जन भर विहिप-भाजपा …

Read More »

संविधान की प्रस्तावना में “धर्मनिरपेक्षता” हो या न हो, अब कोई फर्क नहीं !

Randhir Singh Suman CPI

“secularism” in the Preamble to the Constitution अब आस्था और विश्वास के आधार पर फांसी की सजा भी सुनाई जाने लगी है, साक्ष्य व सबूत का कोई मतलब नहीं रह गया है। देश के संविधान की प्रस्तावना (Preamble to the Constitution) में धर्मनिरपेक्षता (Secularism) शब्द आया है, जिसका यह अर्थ है कि सरकार और उसके अंग धर्मनिरपेक्ष तरीके से सामान …

Read More »