संविधान को जलाने वाली राजनीति लगातार मंदिर के नाम पर सूबे को आग में झोंकने पर उतारू

त्रिशूल दीक्षा का जवाब देगा संविधान दीक्षा का कार्यक्रम

संविधान को जलाने वाली राजनीति लगातार मंदिर के नाम पर सूबे को आग में झोंकने पर उतारू

नाम बदलने की राजनीति के खिलाफ चलेगा ‘मेरा नाम, मेरा सवाल’ अभियान

लखनऊ 11 नवंबर 2018। सूबे की हुकूमत के नाम बदलने की राजनीति के खिलाफ ‘मेरा नाम, मेरा सवाल’ अभियान के तहत संविधान दीक्षा का कार्यक्रम चलाया जाएगा।

लखनऊ स्थित “राजनारायण के लोग” कार्यालय में हुई बैठक में वक्ताओं ने कहा कि संविधान को जलाने वाली राजनीति लगातार मंदिर के नाम पर सूबे को आग में झोंकने पर उतारू है। 16 नवंबर से इसके खिलाफ गलियों-मोहल्लों में उतरकर जन अभियान चलाया जाएगा। इलाहाबाद, फैजाबाद और मुगलसराय का नाम बदलकर सरकार मूलभूत सवालों को पीछे करने और अपनी नाकामियों को छुपाने की कोशिश कर रही है। मेरा नाम, मेरा सवाल के तहत इसका जवाब मांगा जाएगा।

बैठक में वक्ताओं ने कहा कि आरएसएस और विहिप जैसे संगठन लगातार राम मंदिर के नाम पर सांप्रदायिक विद्वेष फैला रहे हैं। बजरंगदल जैसे संगठन त्रिशूल दीक्षा की बात कर रहे हैं। ऐसे में इंसाफ पसन्द जनता के बीच संविधान दीक्षा का कार्यक्रम चलाया जाएगा। बाबा साहेब की प्रतिमाओं को तोड़ने और संविधान की प्रतियां फूंकने वाली मनुवादी ताकतें त्रिशूल दीक्षा से लोकतंत्र को ध्वस्त करने पर आमादा हैं। जन अभियान संदेश देगा कि देश बाबा साहेब के संविधान से चलेगा न कि मनुवाद से।

बैठक में रिहाई मंच अध्यक्ष मुहम्मद शुऐब, सैयद शाहनवाज कादरी, सृजनयोगी आदियोग, शकील कुरैशी, सचेन्द्र प्रताप यादव, रॉबिन वर्मा, बांकेलाल यादव, शाहरुख अहमद, डा0 एमडी खान, वीरेन्द्र गुप्ता, मो. सिकन्दर, गुफरान चैधरी, मलिक शाहबाज, एसएस हुसैन और राजीव यादव शामिल रहे।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

<iframe width="600" height="538" src="https://www.youtube.com/embed/JMQPhfMGX0M" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>