Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » ह्यूस्टन में मोदी के पाखंड – 50 दिन में कश्मीर जाकर कश्मीरियों से मिलने के लिए समय निकाल नहीं पाए
Trump got 16 percent

ह्यूस्टन में मोदी के पाखंड – 50 दिन में कश्मीर जाकर कश्मीरियों से मिलने के लिए समय निकाल नहीं पाए

पीएम अब तक 50 दिन में कश्मीर जाकर कश्मीरियों से मिलने के लिए समय निकाल नहीं पाए, लेकिन अमेरिका में कश्मीरी पंडितों से मिलने का उनको समय मिल गया ! सवाल यह है कश्मीरी कहां रहते हैं ? कश्मीर में या अमेरिका में ? 370 हटाने के बहाने जुल्म कश्मीर में हो रहा है या अमेरिका में !

पीएम ! क्रूरता से एकता कभी स्थापित नहीं होती।

370 हटाना विश्वविजय है ! छी:! टैक्सास के मेयर के भाषण को ही ठीक से समझ लिया होता तो 370 पर अहंकार में तो न बोलते ! लेकिन पीएम पर तो विचारधारा का नशा चढ़ा है, वे उत्पीड़न को विजय कह रहे हैं!

अब मोदीजी हरियाणा महाराष्ट्र के वोटरों को ह्यूस्टन से संबोधित कर रहे हैं।

मोदी की विदेश में सबसे अथिक रैलियां और बहुत कम विदेशी पूंजी निवेश। भयानक मंदी और पीएम के चेहरे पर असीमित मुस्कान और असीमित क्षति।

एवरी थिंग इद फाइन, यह बोलना क्यों पड़ रहा है मोदीजी! कश्मीर के आंसू कहते हैं कि भारत सब ठीक नहीं चल रहा है।

यह वही ह्यूस्टन है जहां ट्रंप को मात्र 16फीसदी भारतीयों ने वोट दिया था।

HOWDY मोदी की बजाय नाम रखो HOWDY ट्रंप ! यह पहली बार है भारत के पीएम ने अमेरिका में चुनाव प्रचार का मंच मुहैय्या कराया!

यह दो परिवार का मामला है। पीएम मोदी लगता है आने वाले समय में अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव प्रचार के नायक होंगे!!

अबकी बार रीतिवाद जिंदाबाद। एक ड्रम ने ट्रंप की प्रशंसा में पढ़े कसीदे। उसका चुनाव प्रचार भी किया।

जगदीश्वर चतुर्वेदी

About जगदीश्वर चतुर्वेदी

जगदीश्वर चतुर्वेदी। लेखक कोलकाता विश्वविद्यालय के अवकाशप्राप्त प्रोफेसर व जवाहर लाल नेहरूविश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष हैं। वे हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

Check Also

Chand Kavita

मरजाने चाँद के सदके… मेरे कोठे दिया बारियाँ…

….कार्तिक पूर्णिमा की शाम से.. वो गंगा के तट पर है… मौजों में परछावे डालता.. …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: