Home » समाचार » सतर्कता जागरूकता सप्ताह : “भ्रष्टाचार मिटाओ – नया भारत बनाओ”
Things you should know सामान्य ज्ञान general knowledge

सतर्कता जागरूकता सप्ताह : “भ्रष्टाचार मिटाओ – नया भारत बनाओ”

सतर्कता जागरूकता सप्ताह | Vigilance Awareness Week

केंद्रीय सतर्कता आयोग हर वर्ष सतर्कता जागरूकता सप्ताह मनाता है। इस वर्ष यह सप्ताह 29 अक्तूबर से 3 नवम्बर तक मनाया जा रहा है।

सतर्कता जागरूकता सप्ताह मनाने का उद्देश्य | Objective to celebrate Vigilance Awareness Week

सीवीसी के एक परिपत्र के मुताबिक प्रत्येक वर्ष सतर्कता जागरूकता सप्ताह का अनुपालन करना आयोग की बहुआयामी गतिविधियों का भाग है, जिसमें एक महत्वपूर्ण योजना यह है कि भ्रष्टाचार से संघर्ष करने तथा इसका निवारण करने हंतु सभी पणधारियों को सामूहिक रूप से भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाए तथा भ्रष्टाचार से उत्पन्न खतरों तथा इसके अस्तित्व, तथा इसकी गम्भीरता के संबंध में जन जागरूकता बढ़ाई जाए।

इस वर्ष  सतर्कता जागरूकता सप्ताह “भ्रष्टाचार मिटाओ – नया भारत बनाओ” विषय पर मनाया जा रहा है।

भ्रष्टाचार क्या है | What is corruption

सीवीसी के परिपत्र के अनुसार, फ्राधिकारी का दायित्व सौंपे गए किसी व्यक्ति द्वारा स्वयं के लिए या  किसी अन्य व्यक्ति के लिए लाभ प्राप्त करने हेतु बेईमान अथवा अनैतिक आचरण किए जाने को भ्रष्टाचार के रूप में  परिभाषित किया जा सकता है। यह एक वैश्विक प्रवृत्ति है, जो समाज के प्रत्येक स्तर को किसी न किसी रूप में प्रभावित कर रही है।

भ्रष्टाचार के खिलाफ जागरूकता क्यों जरूरी  | Why Awareness Against Corruption Is Important

भ्रष्टाचार, राजनीतिक विकास, लोकतंत्र, आर्थिक विकास, वातावरण, लोगों के स्वास्थ्य सहित अनेकों क्षेत्रों को दुर्बल बना देता है। अतः यह आवश्यक है कि जनता को सुग्राही बनाया जाए तथा भ्रष्टाचार को उखाड़ने के प्रयासों की दिशा में प्रेरित किया जाए।

केन्द्रीय सतर्कता आयोग के बारे में जानकारी

केन्द्रीय सतर्कता आयोग सरकारी भ्रष्टाचार को संबोधित करने के लिए बनाया गया एक शीर्ष भारतीय सरकारी निकाय है। इसकी स्थापना 1964 में हुई।

सतर्कता के क्षेत्र में केन्द्रीय सरकारी एजेंसियों को सलाह तथा मार्गदर्शन देने हेतु, के संथानम की अध्यक्षता वाली भ्रष्टाचार निवारण समिति की सिफारिशों पर भारत सरकार ने फरवरी 1964 में केन्द्रीय सतर्कता आयोग की स्थापना की।

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: