Home » समाचार » अगर आपमें भी हैं ये लक्षण, तो हो सकते हैं Iodine deficiency के शिकार
Things you should know सामान्य ज्ञान general knowledge

अगर आपमें भी हैं ये लक्षण, तो हो सकते हैं Iodine deficiency के शिकार

आज 21 अक्तूबर को है world iodine deficiency day

नई दिल्ली, 21 अक्तूबर। विश्व आयोडीन की कमी विकार (आईडीडी) रोकथाम दिवस या विश्व आयोडीन की कमी दिवस (world iodine deficiency day in Hindi) हर साल 21 अक्टूबर को मनाया जाता है। world iodine deficiency day मनाने का उद्देश्य आयोडीन के विषय में जागरूकता पैदा करना व आयोडीन की कमी से होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं के प्रति लोगों को जागरूक करना है। आयोडीन की कमी से उत्पन्न विकार (Iodine deficiency disorders) दुनिया भर में एक प्रमुख सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या बन गए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक 19 देशों में अभी भी आयोडीन की कमी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक आयोडीन की कमी से बच्चों में बौद्धिक विकलांगता और महिलाओं में समय पूर्व प्रसव व गर्भपात होता है।

आयोडीन की कमी के संकेत क्या हैं | Iodine deficiency signs

आयोडीन एक खनिज है जो अच्छे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। आयोडीन पानी घुलनशील है। यह कुछ खाद्य पदार्थों और आयोडीन टेबल नमक में पाया जाता है। लोग इसे पूरक के रूप में भी ले सकते हैं।

आयोडीन स्वस्थ थायराइड के लिए आवश्यक है। थायराइड ग्रंथि, थायराइड हार्मोन बनाने के लिए आयोडीन का उपयोग करती है।

हाइपोथायरायडिज्म तब होता है जब एक व्यक्ति का थायरॉइड पर्याप्त थायराइड हार्मोन का उत्पादन नहीं करता है।

आयोडीन की कमी के संकेत क्या हैं और क्या यह खतरनाक है?

आयोडीन की कमी से थायरॉइड की हार्मोन बनाने की क्षमता प्रभावित होती है, जिससे हाइपोथायरायडिज्म होता है।

आयोडीन की कमी के लक्षण | Symptoms of iodine deficiency

आयोडीन की कमी के सबसे उल्लेखनीय संकेतों में से एक है अप्रत्याशित रूप से वजन बढ़ना

आयोडीन की कमी से आपको कमजोरी महसूस हो सकती है। भारी वस्तुएं उठाने में मुश्किल हो सकती है।

अगर थकान का कारण अस्पष्ट है तो आयोडीन की कमी का लक्षण हो सकती है।

अगर आपके बाल असमय झड़ रहे हैं, तो यह भी आयोडीन की कमी का संकेत हो सकता है।

त्वचा शुष्क होना हाइपोथायरायडिज्म का संकेत हो सकता है, जो आयोडीन की कमी का कारण बनती है।

आयोडीन की कमी से थायराइड हार्मोन की कमी होती है। कम थायराइड हार्मोन होने से व्यक्ति की चयापचय दर metabolic rate धीमा हो जाती है।

आयोडीन की कमी होने से व्यक्ति की हार्ट बीट्स कम हो सकती हैं।

मस्तिष्क के विकास के लिए थायराइड हार्मोन महत्वपूर्ण है। आयोडीन की कमी से इन हार्मोन की कमी हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप स्मृति के साथ समस्याएं हो सकती हैं और नई चीजें सीखने में समस्या हो सकती है।

गर्भवती महिलाओं में आयोडीन की कमी से विकासशील भ्रूण के लिए समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

आयोडीन की कमी से महिलाओं में या तो माहवारी अधिक हो सकती है या कम हो सकती है।

(नोट – यह समाचार चिकित्सकीय परामर्श नहीं हैयह आम जनता में जागरूकता के उद्देश्य से किए गए अध्ययन का सार है। आप इसके आधार पर कोई निर्णय नहीं ले सकतेचिकित्सक से परामर्श करें। )

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: