मोदी सरकार ने योगा डे के आयोजन पर फूंक दिए 100 करोड़ और अकेले मुजफ्फरपुर में मर गए 154 बच्चे

Dhannajay Singh Thakur

रायपुर/21 जून 2019। विश्व योग दिवस (World yoga day) के आयोजन पर 4 साल में मोदी सरकार ने 100 करोड़ फूंक दिये। कांग्रेस ने चार साल में योग के आयोजन पर हुये खर्च के आंकड़े जारी कर 2015 में 16.40 करोड़, 2016 में 18.1 करोड़, 2017 में 26.42 करोड़, 2018 में 36.8 करोड़ पर मोदी सरकार को घेरा।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि बिहार में हेल्थ केयर की विफलता (Failure of Health care in Bihar) ने 154 बच्चों की जान ले ली हैं। उत्तर प्रदेश में हॉस्पिटल में ऑक्सीजन कमी के चलते 60 से अधिक मासूमों की मौत हो जाती है। गुजरात में फायर ब्रिगेड के पास ऊंची सीढ़ी नहीं होने के कारण बिल्डिंग में लगी आग के रेस्क्यु आपरेशन में दिक्कत होती है और मोदी सरकार योग के आयोजन में ही 4 साल में 100 करोड़ रुपए फूंक देती है।

उन्होंने कहा कि 3000 करोड़ रुपए खर्च कर पटेल जी की ऊंची मूर्ति बनाते हैं लेकिन जिस गुजरात से मोदी जी आते हैं वहां फायर ब्रिगेड के पास बिल्डिंग में चढ़ने ऊंची सीढ़ी नहीं होना सरकार की जनता के प्रति उत्तरदायित्व को लेकर उदासीनता को दर्शाता है ।

धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस योग का विरोध नहीं कर रही है। कांग्रेस के नेता पटेल की मूर्ति बनाने का विरोध नहीं कर रहे हैं लेकिन मोदी सरकार के आडंबरों का विरोध कर रहे हैं। जनता के पैसे के अपव्यय का विरोध कर रहे हैं। मोदी सरकार की नीतियों का विरोध कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार सिर्फ विज्ञापन में बने रहने जनता के पैसे का दुरुपयोग कर रही है। योग से निरोग होना प्राचीनकाल से चला आ रहा है। मोदी और भाजपा के आने से पहले लोग योग कर रहे हैं, लेकिन मोदी भाजपा सिर्फ मीडिया में बने रहने राजनीतिक लाभ लेने सरकारी खजाने का दुरुपयोग कर रही है।