Home » Latest » 5 मार्च को ही डॉ. हर्षवर्धन कोरोना वायरस पर राहुल गाँधी का मजाक उड़ा रहे थे
On March 5, Dr. Harsh Vardhan was making fun of Rahul Gandhi on the corona virus

5 मार्च को ही डॉ. हर्षवर्धन कोरोना वायरस पर राहुल गाँधी का मजाक उड़ा रहे थे

On March 5, Dr. Harsh Vardhan was making fun of Rahul Gandhi on the corona virus

नई दिल्ली, 25 मार्च 2020. 22 मार्च को जनता कर्फ्यू और फिर 24 मार्च की रात 12 बजे से 21 दिन का लॉक डाउन (#21daylockdown) की घोषणा करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार कोरोना वायरस की महामारी को लेकर कितनी गंभीर है, उसकी जानकारी ट्विटर पर अभी भी मौजूद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन का ट्वीट दे रहा है, जिसमें मंत्री महोदय गांधी परिवार पर दोषारोपण करते हुए राहुल गांधी का मजाक उड़ा रहे हैं।

दरअसल पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 5 मार्च को सरकार को पुनः चेताते हुए ट्वीट किया था,

“स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि #कोरोनोवायरस संकट भारत सरकार के नियंत्रण में है, यह टाइटैनिक के कैप्टन की तरह है जो यात्रियों को कहता है कि घबराने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि उनका जहाज डूब नहीं सकता।

यह समय सरकार द्वारा इस संकट से निपटने के लिए ठोस संसाधनों द्वारा समर्थित एक कार्य योजना को सार्वजनिक करने का है।“

श्री गांधी के ट्वीट के उत्तर में डॉ. हर्ष वर्धन ने ट्वीट किया,

“It’s really sad that Gandhi family chooses to demoralise our countrymen by likening a serious global crisis as #CoronaOutbreak to one of the deadliest peacetime marine disasters in history.

@RahulGandhi

obviously ‘knows’ better than

@WHO

which is saying there is no need to panic”

इससे पहले ड. हर्षवर्धन ने ट्वीट किया था,

“My statement in Parliament outlined the high level of preparedness with which we are handling #CoronaOutbreak

India DOES have a robust healthcare system which is being appreciated globally

@RahulGandhi

do you know what’s happening around the world? Are you back from your holiday?”


हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …